scorecardresearch
 

चिल्का झील को सैलानियों का आकर्षण बनाना चाहता है ओडिशा

इंसानों की दोस्त डॉल्फिनें, दुर्लभ ऑलिव रिडले कछुए और साथ ही डेढ़ सौ से अधिक प्रवासी पक्षी आपको एक साथ कहां मिलेंगे? जवाब ओडिशा सरकार के पास हैः चिल्का. ओडिशा सरकार राज्य में पर्यटन को नई ऊंचाईयो तक ले जाने के लिए कई योजनाएं बना रही है और उनमें से एक संभावनाशील जगह है चिल्का झील. 

चिल्का झील चिल्का झील

इंसानों की दोस्त डॉल्फिनें, दुर्लभ ऑलिव रिडले कछुए और साथ ही डेढ़ सौ से अधिक प्रवासी पक्षी आपको एक साथ कहां मिलेंगे? जवाब ओडिशा सरकार के पास हैः चिल्का. ओडिशा सरकार राज्य में पर्यटन को नई ऊंचाईयो तक ले जाने के लिए कई योजनाएं बना रही है और उनमें से एक संभावनाशील जगह है चिल्का झील. 

ओडिशा के पर्यटन सचिव विशाल के.देव कहते हैं, चिल्का की दो बड़ी खासियतें हैं. एक तो यह कि यह एशिया की सबसे बड़ी और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी ब्रैकिश वॉटर लेक हैं. वह ब्रैकिश वॉटर को समझाते हैं, वैसी झीलें जिनका पानी न तो समुद्री पानी की तरह पूरी तरह खारा होता है और न आम तालाबो की तरह मीठा. ऐसे जल को ब्रैकिश वॉटर या लोना जल कहते हैं.

चिल्का एक लैगून है, जिसमें समुद्री पानी आता रहता है.

यहां पर्यटन के बढ़ावा देने के लिए पिछले दिनों एक चिल्का बर्ड फेस्टिवल आयोजित किया गया था. अपनी तरह के इस दूसरे महोत्सव को ओडिशा सरकार के वन और पर्यावरण विभाग और पर्यटन विभाग ने मिलकर आयोजित किया था. असल में चिल्का झील पुरी, खुर्दा, और गंजाम जिलों में फैला है और यह दया नदी के मुहाने पर बना लैगून है. बंगाल की खाड़ी के किनारे चिल्का का इलाका करीबन 1100 वर्ग किमी में फैला है.  

यहां बड़ी संख्या में प्रवासी परिंदों का आना-जाना लगा रहता है. विशाल देव कहते हैं, भारतीय उप-महाद्वीप में, यहां सबसे अधिक संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं. पूरे उप-महाद्वीप में यह एकमात्र जगह है जहां इरावदी डॉल्फिनें दिखती हैं. इसलिए हम इसे पर्यटन नक्शे पर लाना चाहते हैं. हम चाहते हैं कि लोग इसे जानें. चिल्का के पास ही ऑलिव रिडले कछुओं की सेंचुरी है. गहिरमथा में. 

चिल्का में बहुत सारे विलुप्तप्राय पक्षी नस्लों के दीदार किए जा सकते हैं. जाहिर है, यह पक्षी प्रेमियों के लिए शानदार जगह साबित हो सकती है. इस साल, ओडिशा वन विभाग के मुताबिक, पिछले साल की तुलना में चिल्का बर्ड सेंचुरी में 1.55 लाख अधिक पक्षी आए हुए हैं

ओडिशा सरकार ने इस जगह को विकसित करने के लिए फरवरी में देश के प्रमुख होटल उद्योगों और सत्कार क्षेत्र के लोगों के साथ बैठक रखी है. देव कहते हैं, हमने चिल्का में लेक के भीतर और आसपास हमने जमीन की पहचान की है ताकि वहां होटल उद्योग का विकास किया जा सके. साथ ही दूसरे निवेशक भी आएं. वे बताते हैं कि हमने जमीन का बैंक बनाया है, जिसका प्रस्ताव हम निवेशकों को दे सकते हैं. कुछ लोगो ने याहं पांच सितारा होटल बनाने का प्रस्ताव भी दिया है और हम उस पर विचार कर रहे हैं. चिल्का बर्ड फेस्टिवल जैसे और भी कार्यक्रम हम करेंगे और उसकी गिनती बढ़ाएंगे. चिल्का में रिजॉर्ट और वॉटर स्पोर्ट्स एक्टिविटी बढाई जाएगी. पर वह सारे खेल वगैरह ऐसे होंगे जो यहां के माहौल से मिलते-जुलते हों और पर्यावरण को नुक्सान न पहुंचाएं. अब सरकार इसका मास्टर प्लान बनाने की तैयारी में है.

इस लेक के आसपास मछली उत्पादन का बड़ा काम है. इससे 132 गांवों में करीब डेढ़ लाख मछुआरे परिवारों की रोजी-रोटी चलती है. राज्य सरकार इन सबकों साथ लेकर पर्यटन के नजरिए से रोजगार बढ़ाने की जुगत में है. 

पर्यटन सचिव विशाल के.देव कहते हैं, मछुआरे स्थानीय लोग हैं. उनको साथ लेकर हम यहां के पर्यटन को और बेहतर कैसे बनाया जा सकता है इस पर काम कर करे हैं. यहां बर्ड सेंचुरी और डॉल्फिन भी हैं, तो दोनों को कैसे जोड़ा जाए इस योजना पर काम कर रहे हैं. हमारी योजना स्पीड बोट चलाने की है. सेंचुरी और डॉल्फिनों की जगह के बीच दो-ढाई घंटे की दूरी है. स्पीड बोट से यह सफर एडवेंचर गेम का हिस्सा होगा. 

सरकार का ध्यान उन अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को यहां खींचने का है जो दक्षिण-पूर्व एशिया और सुदूर पूर्व एशिया से हैं. देव कहते हैं, ये दोनों इलाके भुवनेश्वर से सीधी फ्लाइट से जुड़े हैं. हमें इसका फायदा होगा.

इसके अलावा जहां पक्का निर्माण नहीं किया जा सकता वहां पर्यटन विभाग टेंट लगाकर पर्यटकों को रुकवाएगी. 

देव कहते हैं, हमारा सारा ध्यान बुनियादी ढांचे के विकास पर है. असल में हमारी सोच है कि पब्लिसिटी और इंफ्रा डेवलपमेंट साथ साथ बढ़ना चाहिए. ज्यादा लोग आ गए और उनको हम बुनियादी सुविधा नहीं दे पाए तो अच्छा नहीं होगा. तो हम पहले बुनियादी ढांचे का विकास कर रहे हैं. हमारे यहां डिमांड तो अधिक है लेकिन हमें होटलों की संख्या बढ़ानी है. 

जो भी हो, ओडिशा सरकार की असली चुनौती पुरी-भुवनेश्वर-कोणार्क से वापस लौट जाने वाले सैलानियों को चिल्का तक खींच ले जाने की होगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें