scorecardresearch
 

शेव करने से कतराने वालों को समर्पित एक महीना!

मजेदार बात यह है कि ज्यादातर लोग यह नहीं जानते की आखिर दाढ़ी-मूंछ इस महीने में नहीं कटवाने की वजह क्या है? पर, आलसी लोगों के लिए यह महीना शेव ना कराने के लिए एक वजह लेकर आता है. लेकिन हम आपको बताते हैं कि आखिर मोवेंबर की शुरुआत हुई कैसे?

आलसियों का महीना! आलसियों का महीना!

कुछ लोगों की दाढ़ी-मूंछ कुछ इस तरह बेतरतीब बिखरी रहती हैं कि उनके आसपास के लोग बिना टोके नहीं रह पाते. ऐसे लोग दाढ़ी खुजाते हुए जवाब देते हैं, ''यार अब सुबह सुबह दफ्तर भागें या सूरत संभालें?'' लेकिन ऐसे लोगों का जवाब नवंबर के महीने में कुछ ज्यादा ठसक भरा होता है. वे कहते हैं,'' आपको पता नहीं यह महीना 'मोवेंबर' है. नवंबर को 'मोवेंबर' भी कहा जाता हैं, यह दो शब्दों मुश्टैश (मूंछ) और नवंबर से मिलकर बना है.

हर साल नवंबर को सोशल मीडिया में हैशटैग मोवेंबर या फिर 'नो शेव नवंबर' चलता है. ऐसा नहीं है कि केवल पुरुष ही 'नो शेव नवंबर' मनाते हैं, बल्कि महिलाएं भी इसमें खुलकर भाग लेती हैं. बाल कटवाने से लेकर वैक्सिंग, थ्रेडिंग से इस महीने कई महिलाएं यह कहते हुए साफ इनकार कर देती हैं कि हम तो मोवेंबर मना रहे हैं. यह महीना पूरी दुनिया के कई हिस्सों में इसी तरह से मनाया जाता है.

मजेदार बात यह है कि ज्यादातर लोग यह नहीं जानते की आखिर दाढ़ी-मूंछ इस महीने में नहीं कटवाने की वजह क्या है? पर, आलसी लोगों के लिए यह महीना शेव ना कराने के लिए एक वजह लेकर आता है. लेकिन हम आपको बताते हैं कि आखिर मोवेंबर की शुरुआत हुई कैसे?

'नो शेव नवंबर' असल में कैंसर के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया एक अभियान है. खासतौर पर प्रोस्टेट कैंसर की जागरुकता के लिए यह अभियान शुरू हुआ था. इस अभियान का समर्थन करने वाले लोग नवंबर के महीने में दाढ़ी या बालों को कटवाना बंद कर देते हैं. बालों के रखरखाव में किए जाने वाले खर्च के बराबर राशि इस अभियान में दान दे दी जाती है. इसकी शुरुआत एक अमेरिकी गैर-लाभकारी संगठन 'मैथ्यू हिल फाउंडेशन' ने वर्ष 2009 में की थी.

मैथ्यू हिल फाउंडेशन इन पैसों को कैंसर से बचाव, इलाज या शोध और शिक्षा के लिए काम कर रही संस्थाओं तक पहुंचाता हैं. इस संस्थान के शुरू होने की कहानी भी जान लेना जरूरी है. नवंबर 2007 में अमेरिका के शिकागो शहर में रहने वाले मैथ्यू हिल की कैंसर से लड़ते हुए मौत हो गई. इसके बाद उनके आठ बच्चों ने अपने पिता को सम्मान देने और उन्हीं की तरह कैंसर से लड़ रहे लोगों की मदद के लिए कुछ करने की सोची और 'नो शेव नवंबर' कैंपेन की शुरुआत की.

और मोवेंबर के पीछे इसमें छिपे दो शब्द शामिल हैं. पहला मुस्टैश (मूंछ) और दूसरा नवंबर. इन दोनों को मिलाकर यह शब्द बना. 'नो शेव नवंबर' की ही तरह यह भी एक जागरूकता अभियान है. नो शेव नवंबर जहां सिर्फ कैंसर जागरूकता तक सीमित है वहीं मोवेंबर इसके साथ-साथ पुरुषों को उनके स्वास्थ्य और जीवनशैली के प्रति सचेत करने का काम करता है. 2004 में शुरू हुए इस अभियान में पुरुष नवंबर में मूंछें उगाकर इसे अपना समर्थन देते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें