scorecardresearch
 

आज संजीव कुमार को याद करने की कई एक वजहें हैं

ये संजीव कुमार का ही ब्रिलिएंस था कि वह एक समय में अपने साथी अदाकारों के पिता के रूप में भी स्वीकृत हो जाते थे. चाहे वह 'परिचय' की जया भादुड़ी हो या 'त्रिशूल' के शशि कपूर-अमिताभ बच्चन. हिंदी सिनेमा में मुख्यधारा के लीड एक्टर तौर पर शुरुआती दौर से जितने एक्सपेरिमेंट उन्होंने किए, बहुत कम लोगो में यह साहस रहा. 

संजीव कुमार फोटो सौजन्यः सोशल मीडिया संजीव कुमार फोटो सौजन्यः सोशल मीडिया

फिल्म 'अंगूर' के लिए संजीव कुमार को अप्रोच करते हुए गुलज़ार ने कहा था, "चल अपनी उम्र के रोल कर." जवाब में संजीव कुमार बोले, "देखो, कौन ये बात कह रहा है!"

असल में, गुलज़ार ने अपनी ज्यादातर फिल्मो में संजीव को बूढ़ा दिखाया था. पर गुलज़ार को 23 साल का वह लड़का याद था जिसने 'ऑल माइ सन्स' के हिंदी वर्ज़न पिता का रोल इतनी ख़ूबसूरती से निभाया था कि दर्शको में बैठे पृथ्वीराज कपूर ने पूछा था, वो कौन है?

गुलज़ार जान गए थे कि एक ही फिल्म में दो उम्र के रोल के सबसे विश्वसनीय तरीके से कौन कर सकता है. संजीव कुमार किसी मेथड के एक्टर नहीं थे. बल्कि वे किसी रोल को इतनी सहजता से करते थे कि किरदार हावी हो जाता था और सह-अभिनेता आश्चर्यजनक रूप से अपना सर्वश्रेष्ठ देने को प्रोत्साहित हो जाता था. 

दिलीप कुमार-राजकपूर-देवानंद की तिकड़ी से अलग वे एक ऐसे एक्टर थे भी, जिसका अपना एक अलग मैनरिज़्म था. इतना नेचुरल कि वह एक्टिंग जैसा लगता नहीं था. 'अंगूर' को याद करिए, कितनी सहजता  और आसानी से कोई डबल रोल कर जाता है. यकीनन देवेन वर्मा को आप क्रेडिट दिए बगैर नहीं छूट सकते पर कभी-कभी आपका को एक्टर आपसे बेस्ट निकलवा देता है. वह सेट पर आते ही कैमरा रोल सुनते ही उस किरदार में आपको शामिल कर लेता है और इस तरह कि आप कैमरे को भूलकर अपना सर्वोत्तम देने लगते है.

फिल्म नमकीन की तीनों नायिकाएं वहीदा रहमान-शर्मीला टैगोर और शबाना आजमी याद करती हैं कि वे संजीव की लेटलतीफी से परेशान थीं. तीनों ने मिलकर तय किया वे संजीव से बात नहीं करेगी. लेकिन शॉट कम्प्लीट होते ही तीनों का गुस्सा काफूर हो जाता. कारण, संजीव इतनी एफर्टलेस नेचुरल तरीके से वह शॉट देते कि वो अपना गुस्सा छोड़ देतीं.

परिचय का "बीती ना बिताई रैना" के गाने की सीक्वेंस में संजीव की एंट्री थोड़ी लेट है. पर वे कहीं से उस लय-ताल कंटीन्यूटी को ब्रेक नहीं करते हैं. उनके इस शॉट से गुलज़ार इतने इंप्रेस हुए कि पूछा, "क्या चाहिए बोल? जो मांगेगा दूंगा."

"पान खाना छोड़ दो." संजीव कुमार ने कहा. और फिर गुलजार ने कभी पान नहीं खाया!

ये संजीव कुमार का ही ब्रिलिएंस था कि वह एक समय में अपने साथी अभिनेत्री के पिता के रूप में भी स्वीकृत हो जाते थे. चाहे वह 'परिचय' की जया भादुड़ी हो या 'त्रिशूल' के शशि कपूर-अमिताभ बच्चन. हिंदी सिनेमा में मुख्यधारा के लीड एक्टर तौर पर शुरुआती दौर से जितने एक्सपेरिमेंट उन्होंने किए, बहुत कम लोगो में यह साहस रहा. 

अच्छी फिल्मों में अच्छे निर्देशकों के साथ उनमें सेकण्ड लीड में काम करने में कोई "इगो" नहीं था. ऋषिकेश मुखर्जी की "सत्यकाम" में वे धर्मेन्द्र के साथ सेकण्ड लीड थे, शिकार में भी! 'नया दिन, नई रात' में उन्होंने अपने अलग-अलग रोल के साथ एक्सपेरिमेंट किया.

"कोशिश "और "दस्तक" उनकी एक रेंज दिखाती थी और "शतरंज के खिलाड़ी" दूसरी. सत्यजीत रे भी इस एक्टर की रेंज जानते थे. सईद जाफरी-फारुख शेख के साथ उनका कम्फर्ट देखिए और देवेन वर्मा के साथ 'अंगूर' में उनकी जुगलबंदी! हिंदी सिनेमा में मैं उसे बेस्ट जुगलबंदी मानता हूं, जो आखिरी सीन तक ऑडिएंस को रेलिश करवाती है. उसके बाद कोई जुगलबंदी मुझे मेन स्ट्रीम सिनेमा में शॉट-दर-शॉट एक-दूसरे को कॉम्प्लिमेंट करती दिखी तो वो थी मुन्ना और सर्किट! "पति, पत्नी और वो" के ठन्डे-ठन्डे पानी से नहाना चाहिए वाले गाने को याद करिए. कितने एक्टर हिंदी सिनेमा की स्क्रीन पर बॉडी शेप दिखाने के लिए तैयार हो सकते हैं? उनमें "अग्ली" दिखने का साहस था, जो उन्हें औरों से अलग करता था!

इस एक्टर पर कई पेज लिखे जा सकते हैं. मेरे पास तो उन्हें पसंद करने की कई वजहें हैं जो औरों को शायद मामूली-सी बात लगे.

खैर नमकीन का गीत "राह पे चलते है" सुनिए और इस आदमी को याद करिए क्योंकि उसने खुद को याद किए जाने के लिए कई वजहें छोड़ी हैं.

(अनुराग आर्या पेशे से डॉक्टर हैं और मेरठ में रहते हैं. यहां व्यक्त विचार उनके अपने हैं उससे इंडिया टुडे की सहमति आवश्यक नहीं है)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें