scorecardresearch
 

अमृतसर में है सारागढ़ी के जांबाजों के नाम गुरुद्वारा

अक्षय कुमार अपनी फिल्म केसरी के साथ 21 मार्च से सिनेमाघरों में दिखेंगे. यह फिल्म सारागढ़ी के युद्ध पर आधारित है. पर क्या आपको पता है सारागढ़ी के जांबाजों की याद में एक गुरुद्वारा अमृतसर में है? बता रहे हैं ट्रैवल ब्लॉगर दीपांशु गोयल

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

अब जबकि 21 मार्च को होली के दिन अक्षय कुमार की फिल्म केसरी आ रही है, काफी लोग सारागढ़ी की लड़ाई के बारे में जानने को उत्सुक हो गए हैं. लेकिन कम लोगों को पता होगा कि पंजाब के अमृतसर में सारागढ़ा गुरुद्वारा भी है. सारागढ़ी गुरुद्वारा अमृतसर के टाउन हाल और स्वर्णमंदिर के पास ही बना है. गुरुद्वारा इतना छोटा है कि आपकी नजर शायद ही इस पर पड़े. लेकिन इस छोटे से गुरुद्वारे से सिखों की दिलेरी की अमिट कहानी जुड़ी है. यह कहानी है सारागढ़ी की लड़ाई और उसमें सिख सैनिकों की बहादुरी की. खास बात यह है कि इस गुरुद्वारे को सन् 1902 में खुद अंग्रेजों ने अपने 21 बहादुर सिख सैनिकों की याद में बनवाया था. इन सैनिकों ने सारागढ़ी पोस्ट को बचाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी.

क्या थी सारागढ़ी की लड़ाई

सारागढी की लड़ाई 12 सितम्बर, 1897 को 36वीं सिख रेजिमेंट के 21 सिपाहियों और 10,000 अफगान कबाइलियों के बीच लड़ी गई थी. सारागढ़ी एक उस समय के भारत के नार्थ वेस्ट फ़्रंटियर प्रांत (वर्तमान में पाकिस्तान) में अंग्रेजो की एक सैनिक पोस्ट थी. अफगानिस्तान से लगने वाले इलाकों पर कब्जा बनाए रखने के लिए अंग्रेज सेना यहां तैनात की गई थी. इस इलाके में कब्जे को लेकर अफगानों और अंग्रेजों के बीच लगातार लड़ाईयां होती रहती थी.

इसी दौरान 12 सितम्बर, 1897 के दिन अफ़रीदी और औरकज़ई कबीले के 10,000 से 12,000 अफगानों ने सारागढ़ी पोस्ट पर हमला किया. सारागढ़ी पोस्ट आसपास के किलों के बीच सिगनल देने का काम करती थी. सारागढ़ी किले को दो किलों लॉकहर्ट और गुलिस्तान के बीच में एक पहाड़ी पर बनाया गया था. सारागढ़ी की सुरक्षा के लिए हवलदार ईशर सिंह के साथ 20 सिपाहियों का दस्ता तैनात था. अफगानों का घेरा ऐसा था कि पास के किलों से मदद भी नहीं भेजी जा सकती थी.

कहा जाता है कि अफगानों के हमले के बाद इन सिपाहियों से पोस्ट खाली करके पीछे हटने के लिए भी कहा गया था, लेकिन इन सिपाहियों ने सिख परंपरा अपनाते हुए मरते दम तक दुश्मन से लड़ने का फैसला किया. ईशर सिंह और उनके सिपाहियों ने बहादुरी से हमले का सामना किया. 21 सिपाही पूरे दिन हजारों की संख्या में आए अफगानो से लड़ते रहे. गोली-बारूद खत्म होने पर उन्होंने हाथों और संगीनों से आमने-सामने की लडाई लड़ी. आखिरकार अफगानों ने सारागढ़ी पर कब्जा तो कर लिया, लेकिन इस लडाई में अफगानों को बहुत जान का बहुत नुकसान उठाना पड़ा. इस लड़ाई के कारण मदद के लिए आ रही अंग्रेजी फौज को समय मिल गया और अगले दिन आए अंग्रेजों के दस्ते ने अफगानों को हराकर फिर से सारागढ़ी पर कब्जा कर लिया. अंग्रेजों के फिर से कब्जे के बाद सिख सैनिकों की जांबाजी दुनिया के सामने आई. अंग्रेज सैनिकों को वहां करीब 1400 अफगानों की लाशें मिली.

सारागढ़ी पर बचे आखिरी सिपाही गुरमुख सिंह ने सिगनल टावर के अंदर से लड़ते हुए 20 अफगानों को मार गिराया. जब अफगान गुरमुख पर काबू नहीं पा सके तो उन्होंने टावर में आग लगा दी और गुरमुख जिंदा ही जल कर शहीद हो गए.

सिख सैनिकों की इस बहादुरी की चर्चा ब्रिटिश संसद में भी हुई. यहां शहीद हुए सभी 21 बहादुर सिख सैनिकों को उस समय भारतीय सैनिकों को मिलने वाले सबसे बड़े वीरता पुरुस्कार इंडियन ऑर्डर ऑफ मैरिट से सम्मानित किया गया. बाद में इसी लड़ाई के स्मारक के रूप में अंग्रजों ने अमृतसर, फिरोजपुर और वजीरिस्तान में तीन गुरुद्वारे बनवाए. इस लड़ाई की याद में आज भी 12 सितम्बर को सारागढ़ी दिवस मनाया जाता है. यूनेस्को ने सारागढ़ी की लड़ाई की गिनती दुनिया में आजतक सबसे वीरतापूर्ण तरीके से लड़ी गई 8 लड़ाईयों में की है. यानी आप फिल्म केसरी देखें न देखें, लेकिन आगे जब भी अमृतसर आएं तो सिख वीरता के इस स्मारक को देखना ना भूलें.

(दीपांशु गोयल ट्रैवल ब्लॉगर हैं और अपने वेबसाइट duniadekho.in पर स्वतंत्र लेखन करते हैं.  यहां व्यक्त विचार उनके अपने हैं और उनसे इंडिया टुडे की सहमति आवश्यक नहीं है)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें