scorecardresearch
 

जम्मू-कश्मीर में भाजपा की डूबती नैय्या बचाने में जुटा संघ !

जम्मू-कश्मीर में भाजपा की स्थिति डांवाडोल ! आरएसएस ने थामी चुनावी कमान. क्या हार की तरफ बढ़ रही भाजपा के लिए तारणहार बनेगा संघ?

जम्मू कश्मीर में आरएसएस ने थामी कमान जम्मू कश्मीर में आरएसएस ने थामी कमान

जम्मू कश्मीर में भाजपा की चुनावी नैय्या भंवर में फंसती देख क्या संघ ने कमान अपने हाथों में ले ली है? लगता है तो यही है, दो दिनों तक आरएसएस सेक्रेटरी सुरेश भैय्याजी जोशी के नेतृत्व में जम्मू में संघ के प्रदेश कार्यालय में बैठक के दौरान जो फीडबैक मिला वह भाजपा के लिए शुभ संकेत नहीं है. दरअसल भैय्याजी वहां पर भाजपा की स्थिति का जमीनी आंकलन करने पहुंचे थे. सूत्रों की मानें तो दो दिन की मशक्कत के बाद जो फीडबैक मिला उससे साफ है कि भाजपा चुनाव में एक बड़े नुकसान की तरफ बढ़ रही है.

आरएसएस के सरकार्यवाहक एवं जेनरल सेक्रेटरी सुरेश भैय्या जी जोशी के नेतृत्व में लद्दाख, जम्मू और कश्मीर में संघ और भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने दिया फीडबैक.

जिंदा है कठुआ कांड का प्रेत

सूत्रों की मानें तो चर्चा के केंद्र में ‘कठुआ कांड’ रहा. भाजपा की छवि इस कांड के बाद कितनी खराब हुई और इसका चुनाव पर क्या असर पड़ सकता है को लेकर जमीनी स्तर पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं से खुलकर बोलने को कहा गया.

पर फीडबैक में जो निकलकर आया वह भाजपा के लिए चिंता बढ़ाने वाला है. कठुआ सामूहिक बलात्कार की पीड़िता ‘गुज्जर बकरवाल’ समुदाय से थी. फीडबैक के अनुसार समुदाय के घाव अभी भरे नहीं हैं. भाजपा के लिए गुस्सा जस का तस है. इस समुदाय की आबादी लद्दाख, जम्मू और कश्मीर तीनों जगह पर है.

करीब डेढ़ करोड़ की आबादी वाले राज्य में 34 लाख गुज्जर बकरवाल समुदाय के हैं. बैठक में तय हुआ कि इस समुदाय के नेताओं को संघ में जोड़ने की नीति बनाई जाए, ताकि आगामी चुनावों में इस समुदाय के वोट को बटोरने में मदद मिले.

पिछले वादों का हिसाब चाहतें हैं लद्दाखवासी

लद्दाख से आए प्रतिनिधि मंडल से भी भैय्याजी जोशी मिले. प्रतिनिधि मंडल का नेतृत्व कर रहे संघ प्रचारक ताशी लामा विबाघ ने जो फीडबैक दिया उससे भाजपा की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है. उन्होंने बताया कि लद्दाख के लोग अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं. दरअसल चुनाव के दौरान भाजपा ने लद्दाख को यूनियन टेरिट्री का स्टेटस देने और यहां की स्थानीय भोती भाषा को आठवीं अनुसूची में शामिल करने का वादा किया था. लेकिन ये दोनों वादे पूरे नहीं हुए.

अनुसूचित जातियां भी गुस्से में

अनुसूचित जाति के समुदाय के लोगों में भी भाजपा को लेकर गुस्सा है. दरअसल यहां विधानसभा में एस सी की छह सीटें रिजर्व हैं. 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा के खाते में यह सारी सीटें गईं थीं. इस जाति का जमीनी नेतृत्व करने वालों में नाराजगी है. वे कहते हैं, जीतने के बाद कभी भाजपा नेता इस समुदाय की सुध लेने नहीं पहुंचे.

मोदी लहर पर सवार होने की तैयारी

सबसे अंत में चर्चा हुई कि विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव को एक साथ कराने की. तो सूत्रों की मानें तो मौजूद ज्यादातर लोगों ने दोनों चुनाव एक साथ कराने का प्रस्ताव रखा. इसकी वजह ‘मोदी लहर’ पर सवार होकर चुनाव की नैय्या पार लगाने की उम्मीद बताई गई. यहां 2014 नवंबर में विधानसभा चुनाव हुए थे. दूसरे राज्यों से अलग यहां विधानसभा चुनाव हर छह साल में होते हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें