scorecardresearch
 

राजीव गांधी परिवार के पिकनिक के लिए तैनात था आइएनएस विराट और पनडुब्बी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले तो उनको भ्रष्टाचारी नंबर एक बताकर तीखा हमला बोला ही था पर लगता है मोदी के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं. अब, 8 मई को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में अपने भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राजीव गांधी ने अपने परिवार और दोस्तों के पिकनिक के लिए विमानवाही पोत आइएनएस विराट का इस्तेमाल किया था. इंडिया टुडे की पड़ताल कहती है उस पिकनिक के लिए सेना की पनडुब्बी का इस्तेमाल भी हुआ था.

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

राजीव गांधी 2019 के लोकसभा चुनावों में भी प्रासंगिक हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहले तो उनको भ्रष्टाचारी नंबर एक बताकर तीखा हमला बोला ही था पर लगता है मोदी के तीर अभी खत्म नहीं हुए हैं. अब, 8 मई को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में अपने भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राजीव गांधी ने अपने परिवार और दोस्तों के पिकनिक के लिए विमानवाही पोत आइएनएस विराट का इस्तेमाल किया था. 

आइए हम इस दावे (या आरोप) की असलियत की पड़ताल करते हैं. 

असल में, साल 1987 के दिसंबर में राजीव गांधी 36 टापुओं और 44 हजार की आबादी वाले लक्षद्वीप में बंगारम टापू गए थे. जो आधे वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल वाली निर्जन जगह थी. यह टापू सामरिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण है और यह लक्षद्वीप का एकमात्र टापू है जहां विदेशियों को जाने की छूट है. और यहां नशाबंदी भी नहीं है. 

राजीव गांधी के इस द्वीप पर हुए दौरे की रिपोर्ट इंडिया टुडे के 31 जनवरी, 1988 के अंक में विस्तृत रुप से तस्वीरों के साथ छपी थी. लक्षद्वीप पहुंच गई इंडिया टुडे की पत्रकार अनीता प्रताप ने लिखा है कि हालांकि राजीव के दौरे के समय किसी बाहरी आदमी को पहुंचने देने के सभी संभव प्रयास किए गए थे पर पत्रकार लोग पहुंच ही गए. 

असल में, मीडिया के लिए यह आकर्षण का केंद्र तब बन गया जब 26 दिसंबर, 1987 को नारंगी और सफेद रंग के हेलिकॉप्टर से राहुल गांधी और उनके चार दोस्त उतरे. उसके बाद तो दस्तों को सिलसिला बन गया. सरकारी मशीनरी ने पत्रकारों को यहां से दूर रखने में पूरा जोर लगा दिया. 

टापू पर आऩे वाले लोगों में राहुल और प्रियंका के चार दोस्त, सोनिया गांधी की बहन, जीजा और उनकी बेटी, सोनिया की विधवा माता आर. मायनो और भाई तथा मामा भी थे. इसके अलावा अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, और उनके बच्चे (श्वेता और अभिषेक) भी थे. साथ में अजिताभ (अमिताभ के भाई) की बिटिया भी थी. बाकी मेहमानो में सिर्फ दो हिंदुस्तानी थे, अरुण सिंह के भाई बिजेंद्र सिंह और उनकी पत्नी. बाकी सभी लोग विदेशी थे. 

राजीव और सोनिया 30 दिसंबर की दोपहर में पहुंचे. पर अमिताभ बच्चन को लेकर विशेष कोचीन-कवरत्ती उड़ान पर आया हेलिकॉप्टर 31 तारीख को पहुंचा. शायद, इसका लक्ष्य अमिताभ की वहां मौजूदगी पर परदा डाले रखना था. पर भेद खुल गया क्योंकि हेलिकॉप्टर को बंगारम पहुंचने से पहले कवरत्ती टापू पर ईंधन लेने के लिए 50 मिनट के लिए रुकना पड़ा था और तब वहां से वापसी में कोचीन हवाई अड्डे पर इंडियन एक्सप्रेस के फोटोग्राफर ने उन्हें देख लिया और अमिताभ की गुस्से भरी चेतावनियों के बावजूद उनके चार फोटो खींच लिए.

हालांकि उस टापू पर एक हफ्ते की छुट्टी में पार्टियों का दौर चला. इंडिया टुडे में अनीता प्रताप लिखती हैं, इस बात का अनुमान लगाना कठिन है कि साल के अंत में हुए इस तमाशे पर कुल कितना खर्च आया होगा. क्योंकि कई एजेंसियों ने अपनी-अपनी तरह से इस पर खर्च उठाया. मसलन, खाने का खर्च मनोरंजन, पर्यटन और जल संबंधी खेलों के विकास संगठन स्पोर्ट्स ने की थी. इस मौके के लिए अगाट्टी में 100 मुर्गे मुर्गियों का खास फॉर्म लगाया गया था. 

पर असली बात यह रही कि देश के प्रमुख युद्धपोत आइएऩएस विराट का इस्तेमाल राजीव गांधी के परिवार की सवारी के लिए किया गया और इस दौरान यह 10 दिन तक अरब सागर में ही घूमता रहा. अनीता लिखती है, इस युद्धपोत पर होने वाला खर्च बेहिसाब है क्योंकि यह जहां भी जाता है इसके साथ सुरक्षा पोतों का पूरा काफिला चलता है. 

खबर थी कि इस काम के लिए वहां एक पनडुब्बी भी तैनात की गई थी. इसके अलावा अगाट्टी में विशेष उपग्रह संचार संपर्क व्यवस्था भी की गई थी. 

6 जनवरी के दिन जब यह पिकनिक खत्म हुई तब वहां से सबसे पहले प्रियंका और उनके साथी गोवा के लिए निकले. उनके बाद विदेशी बुजुर्ग लोग रवाना हुए और फिर अमिताभ और उनका परिवार. उसी दिन दोपहर 1.20 बजे राजीव ने राहुल के साथ हेलिकॉप्टर में प्रस्थान किया. अमीनो में 1988 को अपने सबसे पहले कार्यक्रम में भाग लेने से पहले राजीव ने राहुल को आइएऩएस विराट पर उतारा ताकि वह बाद में मंगलूर तक साथ यात्रा कर सकें. 

बहरहाल, यह बात तो तय है कि राजीव गांधी ने अपने निजी सैर-सपाटे के लिए देश के एक विमानवाही पोत का इस्तेमाल किया था और उसके साथ पूरे युद्धक बेड़े को उलझाए रखा. साथ में एक पनडुब्बी की भी ड्यूटी थी, पर शायद प्रधानमंत्री मोदी  इसका जिक्र करना शायद भूल ही गए.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें