scorecardresearch
 

व्यक्ति केंद्रित संगठन से बाहर निकलती भाजपा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए 17 टीमों का गठन किया है.  इसका मतलब यह हुआ कि चुनावी रणनीति बनाने और उसके अमल के लिए पार्टी के सभी प्रमुख नेताओं और पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है. अमित शाह के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है जब चुनावी रणनीति व्यक्ति केंद्रित करने की जगह संगठन केंद्रित किया गया है. 

फोटोः इंडिया टुडे फोटोः इंडिया टुडे

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए 17 टीमों का गठन किया है.  इसका मतलब यह हुआ कि चुनावी रणनीति बनाने और उसके अमल के लिए पार्टी के सभी प्रमुख नेताओं और पदाधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है. अमित शाह के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद यह पहला मौका है जब चुनावी रणनीति व्यक्ति केंद्रित करने की जगह संगठन केंद्रित किया गया है. 

गौरतलब है कि अभी तक जितने भी राज्यों के चुनाव हुए उसके संचालन का पूरा जिम्मा अमित शाह खुद ही निभा रहे थे. चुनाव दर चुनाव भाजपा को जीत मिलती गई और संगठन में व्यक्ति केंद्रित चुनाव संचालन या संगठन संचालन को मौन स्वीकृति मिलती गई. लेकिन पिछले दिसंबर में पांच राज्यों के चुनाव में भाजपा कि निराशाजनक प्रदर्शन के बाद पार्टी के अंदर व्यक्ति केंद्रित परंपरा के खिलाफ आवाज उठने लगी. 

सूत्रों का कहना है कि इस दबाव की वजह से 2019 के लोकसभा चुनाव को व्यक्ति केंद्रित करने की जगह संगठन केंद्रित करने की मजबूरी भाजपा आला नेतृत्व के सामने पेश हुई. बीते रविवार को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने 17 टीमों का गठन किया जिसमें करीब 100 लोगों को शामिल किया गया. विजन डक्यूमेंट कमेटी, प्रचार-प्रसार कमेटी और कंटेंट कमेटी के जरिए वरिष्ठ नेताओं राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, शिवराज सिंह चौहान जैसे नेताओं को तरजीह मिली. 

अभी तक इन नेताओं के समर्थकों में यह संकेत ही जा रहा था कि पार्टी की गतिविधियों से इन्हें बाहर रखा गया है. लेकिन टीम गठित होने के बाद इन चर्चाओं को विराम लगेगा. माना जा रहा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की तरफ से भी भाजपा अध्यक्ष को यह संदेश था कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को विचार-विमर्श में सक्रियता के साथ शामिल किया जाए. अब 17 टीम बनने के बाद इतना तय माना जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव तक भाजपा अपनी संगठन की ताकत का भरपूर इस्तेमाल करेगी और चुनाव व्यक्ति केंद्रित होने की जगह विकेंद्रीकृत होकर संगठन केंद्रित होंगे. चुनाव नतीजों के लिए संगठन की सामूहिक जिम्मेदारी होगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें