scorecardresearch
 

मुकेश अंबानी क्यों हो सकते हैं आतंकियों की हिट लिस्ट में

जैश-उल-हिंद का कहना है कि उसने उद्योगपति मुकेश अंबानी को धमकी नहीं दी, ऐसे में मुंबई पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि कहीं माओवादी संगठनों ने तो अंबानी के निवास के पास जिलेटिन से लदी स्कॉर्पियो खड़ी नहीं की थी.

मुकेश अंबानी के घर के बाहर तैनात पुलिसकर्मी (पीटीआइ) मुकेश अंबानी के घर के बाहर तैनात पुलिसकर्मी (पीटीआइ)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पहली बार आठ साल पहले 28 फरवरी, 2013 को इंडियन मुजाहिदीन (आइएम) ने मुकेश अंबानी को धमकी दी थी
  • इस साल 25 फरवरी को अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक लदी गाड़ी मिली
  • एक संदेह यह है कि यह धमकी दिल्ली में किसानों के विरोध प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में अति वामपंथी संगठनों ने दी होगी

रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी एक बार फिर आतंकी समूहों की हिट लिस्ट में आ गए हैं. पहली बार आठ साल पहले 28 फरवरी, 2013 को इंडियन मुजाहिदीन (आइएम) ने उन्हें धमकी दी थी. आइएम ने मुंबई के नरीमन पॉइंट स्थित अंबानी के दफ्तर में पत्र भेजा था, जिसमें गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करने के लिए अंबानी को नुक्सान पहुंचाने की धमकी दी गई थी. मुंबई पुलिस ने तभी से उन्हें जेड सेक्यूरिटी दे रखी है.

वह धमकी एक बार फिर इस साल 25 फरवरी को उस समय उभर आई जब अंबानी के 27 मंजिला निवास ऐंटिलिया के बाहर एक एसयूवी स्कॉर्पियो लावारिस हालत में मिली, जिसमें जिलेटिन की 25 स्टिक्स (छड़ियां) रखी हुई थीं. वह गाड़ी वैसी ही थी जैसा कि अंबानी के सुरक्षा बेड़े में शामिल गाड़ियां हैं, यहां तक नंबर प्लेट भी मिलती-जुलती है. जाहिर है, षड्यंत्रकारी अंबानी के वाहनों से अच्छी तरह वाकिफ हैं.

एक अल्पज्ञात आतंकी संगठन जैश-उल-हिंद 28 फरवरी को सुर्खियों में आया. उसने टेलीग्राम पर पोस्ट के जरिए अंबानी के घर के बाहर स्कॉर्पियो खड़ी करने की जिम्मेदारी ली. उस पोस्ट में कहा गया कि अगर अंबानी ने उनकी मांगें नहीं मानीं तो उनके परिवार के सदस्यों की जान खतरे में होगी. अंग्रेजी में डाली गई पोस्ट में लिखा थाः ‘यह तो अभी झांकी है, असली पिक्चर बाकी है.’

अगले ही दिन इस संगठन ने इस तरह के किसी भी संदेश को पोस्ट करने से इनकार किया. जैश-उल-हिंद के कथित बयान में कहा गया, ‘हम कुफ्फारों (काफिरों) से कभी पैसा नहीं लेते, और हमारा भारतीय दिग्गज व्यापारी से कभी कोई झगड़ा नहीं रहा है.’

इसका मतलब है कि धमकी देने वालों की पहचान को लेकर रहस्य बना हुआ है. शक की सुई अब माओवादी संगठनों की ओर है, जो अपने हमलों में जिलेटिन का इस्तेमाल करने के लिए जाने जाते हैं. चूंकि ये जिलेटिन स्टिक्स नागपुर में खरीदी गई थीं, जो गढ़चिरौली की माओवादी पट्टी के करीब है, लिहाजा एक संदेह यह है कि यह धमकी दिल्ली में किसानों के विरोध प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में अति वामपंथी संगठनों ने दी होगी. वामपंथी पार्टियां इल्जाम लगाती रही हैं कि अंबानी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के लिए गांवों की जमीन हथिया रहे हैं. वैसे, अंबानी ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि उन्हें कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग में कोई दिलचस्पी नहीं है.

पुलिस के पास नहीं कोई सुराग

अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक वाली गाड़ी मिलने से मुंबई पुलिस सन्न रह गई थी. अगर ढाई किलो की जिलेटिन स्टिक्स फटतीं तो 3,000 वर्ग फुट में तबाही मचती. मुंबई पुलिस को उस स्कॉर्पियो में चार नंबर प्लेट मिलीं. तीन नंबर प्लेट उन्हीं गाड़ियों की थीं जिनका इस्तेमाल सुरक्षा काफिले में किया जाता है, और एक प्लेट उनकी पत्नी नीतू अंबानी की गाड़ी से मिलती-जुलती थी. नीतू अंबानी इंडियन प्रीमियर लीग की टीम मुंबई इंडियंस की मालकिन हैं. उस स्कॉर्पियो में एक स्पोर्ट्स बैग भी था, जिस पर मुंबई इंडियंस का लोगो जड़ा हुआ था.

अभी तक पुलिस सिर्फ स्कॉर्पियो के मालिक का पता लगाने में कामयाब हुई है. यह गाड़ी थाने के व्यापारी हिरेन मनसुख की है. इसे मुलुंद-ऐरोली रोड से चुरा लिया गया. स्कॉर्पियो खराब हो गई थी जिसकी वजह से वह सड़क पर ही खड़ी कर दी गई थी. मुंबई भर में लगाए गए सीसीटीवी से पता चला कि कारमाइकल रोड, जहां ऐंटिलिया है, पर पहुंचने तक ठाणे से ही उस स्कॉर्पियो के पीछे एक इनोवा लगी हुई थी. ड्राइवर आधी रात में स्कॉर्पियो को ऐंटिलिया के बाहर खड़ी करके इनोवा से लौट गया. जिलेटिन स्टिक्स का निर्माण नागपुर की कंपनी सोलर इंडस्ट्रीज ने किया है. लेकिन कंपनी ने पुलिस को बताया है कि उसके पास खरीदारों का पता लगाने के लिए कोई सिस्टम नहीं है.

मुंबई पुलिस के ज्वाइंट कमिशनर (अपराध) मिलिंद भारांबे का कहना है कि पुलिस आतंकी साजिश समेत सारे पहलुओं की जांच कर रही है. इस जांच में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) भी शामिल हो गई है. पुलिस ने स्कॉ‌र्पियो को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है. भारांबे के मुताबिक, पुलिस इस बात का भी पता लगा रही है कि क्या स्कॉर्पियो के ड्राइवर ने अंबानी के निवास और उनके सुरक्षा दस्ते की रेकी की थी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें