scorecardresearch
 

इकोनॉमी पस्त पर शेयर बाजार मस्त

बाजार की तेजी न तो गहरी है और न ही बाजार में खरीदारी चौतरफा. बाजार की यह तेजी चुनिंदा शेयरों में खरीदारी की वजह से सेंसेक्स और निफ्टी को ऊंचाई पर पहुंचाने की कहानी भर है. 

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

शेयर बाजार की तेजी का फायदा आपके पोर्टफोलियो को नहीं मिला यानी दौड़ते बाजार में भी आपके हाथ कुछ नहीं आया अगर आप भी इस चिंता से ग्रसित हैं तो यकीन मानिए आप अकेले नहीं हैं. बाजार की तेजी न तो गहरी है और न ही बाजार में खरीदारी चौतरफा. बाजार की यह तेजी चुनिंदा शेयरों में खरीदारी की वजह से सेंसेक्स और निफ्टी को ऊंचाई पर पहुंचाने की कहानी भर है. यही कारण है कि निफ्टी जब 12,000 के जादुई आंकड़े की चौखट पर खड़ा है तब निफ्टी का ही रियल्टी इंडेक्स अपने उच्चतम स्तर से 85 फीसदी नीचे है. 

इतना ही नहीं इंफ्रास्ट्रक्चर, सरकारी बैंक और फार्मा इंडेक्स भी अभी अपने उच्चतम स्तर से 40 फीसदी दूर हैं. मेटल और ऑटो का हाल भी बहुत अच्छा नहीं. ये दोनों इंडेक्स भी क्रमश: 37 और 31 फीसदी नीचे हैं.

अर्थव्यवस्था की गतिविधियां को दर्शाने वाले तमाम आंकड़े (कोर सेक्टर, पीएमआइ इंडेक्स, वाहन बिक्री, घर बिक्री, आइआइपी) अभी आर्थिक विकास की रफ्तार में जल्द किसी तेजी की उम्मीद नहीं जता रहे हैं. ऐसे में बाजार का दौड़ लगाना निश्चित तौर पर निवेशकों को असमंजस में डालता है क्योंकि अगर इकोनॉमी की हालत इतनी खराब है तो इकोनॉमी का ही आईना माना जाने वाला शेयर बाजार इतना खुश क्यों हैं?

इस गुत्थी को सुलझाने के लिए दो सिरे पकड़ने होंगे. 

पहला, सरकार की ओर से की गई कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती. सरकार की ओर से कॉर्पोरेट्स की झोली में डाली गई इस राहत ने कंपनियों के मुनाफे फुला दिए. यह भी तब हुआ जब बिक्री सिकुड़ रही है. कंपनी का मुनाफा दरअसल टैक्स में रियायत के कारण मिल गया. यह रियायत उन्हें अर्थव्यवस्था में निवेश बढ़ाने की मंशा के साथ दी गई. हालांकि इस सवाल का जवाब ढूंढना बाकी है कि अगर खपत ही सिकुड़ रही है तो नया निवेश किया किसके लिए जाए? क्योंकि निवेश तो खपत की पूंछ पकड़ कर ही आता है. 

दूसरा सिरा है बाजार में आ रही सस्ती नकदी. फेडरल रिजर्व की ओर से ब्याज दरों में कटौती के बाद विदेशी निवेशकों को सस्ती पूंजी अभी लंबे समय तक मिलती रहेगी इसका रास्ता साफ हो गया. यही कारण है विदेशी निवेशकों ने अक्तूबर  में 14,600 करोड़ रुपए से ज्यादा की खरीदारी की है, यह खरीदारी आगे भी जारी रहने की उम्मीद है. इसके अलावा सिप के जरिए म्युचुअल फंड्स के रास्ते शेयर बाजार में आ रहा बड़ा निवेश तेजी को बल दे रहा है. ट्रेड वॉर के थमने की उम्मीद, केंद्रीय बैंक की ओर से ब्याज दर में कटौती भी बाजार के नजरिए से अच्छे संकेत हैं. 

बाजार में खरीदारी चौतरफा हो और तेजी गहरी हो इसके लिए घरेलू अर्थव्यवस्था में सुधार आना जरूरी है, जिससे कंपनियों के मुनाफे किसी कर राहत के कारण एकाएक फूलने के बजाय ग्रोथ खपत आधारित हो. इस तेजी में किसी बड़ी खरीदारी से परहेज की सलाह रहेगी. बाजार में गिरावट आने पर चुनिंदा शेयरों में धीरे धीरे खरीदारी करनी चाहिए. इसके अलावा अगर आप म्युचुअल फंड्स के रास्ते बाजार का रुख करते हैं तो किसी भी स्तर पर खरीदारी शुरू कर सकते हैं.  

(शुभम शंखधर इंडिया टुडे के एसोसिएट एडिटर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें