scorecardresearch
 

रिलायंस इंडस्ट्री, पहचान बदलने की चुनौती

रिलायंस इंडस्ट्रीज की 42वीं सालाना बैठक से यह स्पष्ट हो गया कि आने वाले दशक में कंपनी की पहचान तेल और गैस से निकलकर बड़ी डिजिटल और रिटेल कंपनी के तौर पर होगी. 

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

रिलायंस इंडस्ट्रीज की 42वीं सालाना बैठक से यह स्पष्ट हो गया कि आने वाले दशक में कंपनी की पहचान तेल और गैस से निकलकर बड़ी डिजिटल और रिटेल कंपनी के तौर पर होगी. कंपनी ने ऑयल ऐंड गैस (ऑयल टू केमिकल) बिजनेस में अपनी 20 फीसदी हिस्सेदारी (1 लाख करोड़ रुपए में) सऊदी कंपनी अरामको को बेचने का फैसला लिया. साथ ही फ्यूल रिटेल कारोबार में यूरोप की ब्रिटिश पेट्रोलियम को 49 फीसदी हिस्सा (7000 करोड़ रुपए में) बेचा. कंपनी इन सौदों से मिली राशि का भुगतान कर्ज को चुकाने में कर सकती है क्योंकि कंपनी ने अगले 18 महीने में कर्ज मुक्त होने का भी लक्ष्य रखा है. इस समय कंपनी करीब 1 लाख 95 हजार करोड़ कर्ज है.   

सालाना बैठक का बड़ा हिस्सा जियो के विस्तार से जुड़ा था. चेयरमैन मुकेश अंबानी ने यह स्पष्ट किया कि जियो में निवेश का चक्र पूरा हो चुका है और फाइबर ऑप्टिक्स इस्तेमाल के लिए अगले 12 महीनों में देश भर में तैयार हो जाएगा. दरअसल फाइबर ऑप्टिक्स आने के बाद कंपनी कई ऐसी सेवाएं एक साथ लेकर आएगी जो घरों में अपनी पकड़ बनाने में बहुत समय नहीं लगाएंगी. मसलन, एंटरटेनमेंट कटेंट (किसी फिल्म का फर्स्ट डे फर्स्ट शो, म्युजिक आदि), अनलिमिटेड कॉलिंग वाला ब्रॉडबैंड, डीटीएच नेटवर्क, सिक्योरिटी एप्लायंसेस, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग आदि. 

मोबाइल डेटा को नया ऑयल बता चुके मुकेश अंबानी अब पूरी ताकत से जियो को घर-घर पहुंचाकर कंपनी की बादशाहत को बरकरार रखना चाहेंगे.

लेकिन यहां एक बड़ी चुनौती कंपनी को ग्राहक के रूप में मिलेगी. तेल और गैस क्षेत्र में कारोबार करने पर कंपनी को कभी घर-घर जाकर ग्राहक नहीं ढूंढने होते थे. लेकिन रिटेल और डिजिटल ये दोनों ही बिजनेस पूरी तरह ग्राहकों की संतुष्टि और अनुभव पर ही टिके हैं. आकर्षक ऑफर्स, सस्ते टैरिफ के बल पर बड़ी लॉन्चिंग तो हो जाएगी लेकिन अगर सेवाएं बेहतर नहीं हुईं तो लंबे समय तक टिकना मुश्किल होगा. 

एक पेंच और है, इंटरनेट ऑफ थिंग्स का उपयोग हो या फिल्म, म्युजिक जैसे कंटेंट का बेहतर उपभोग फोन में बिना अच्छी कनेक्टिविटी के ये सब बेकार है. देश में 4जी की स्थिति किसी से छुपी नहीं है. ऐसे में ब्रॉडबैंड के इतर ये तमाम सेवाएं कैसे टिक पाएंगी क्योंकि फाइबर ऑप्टिक्स के जरिए मिलने वाले तेज इंटरनेट की सीमाएं तो घर और दफ्तर तक ही होंगी. यानी बहुत कुछ देश में 5जी के भविष्य पर टिका है.

रिलायंस के भविष्य की योजनाओं से निवेशक मुतमईन नजर आए. यही कारण है कि एजीएम के बाद मंगलवार को गिरते बाजार में भी रिलायंस का शेयर 10 फीसदी से ज्यादा उछल गया. फिलहाल उपभोक्ता के तौर पर आप आने वाले एक साल में कई नए और रोमांचक अनुभव के लिए तैयार हो जाइए. 

(शुभम शंखधर इंडिया टुडे के एसोसिएट एडिटर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें