scorecardresearch
 

इकोनॉमिकमः कोरोना वायरस से थर्राया बाजार, लेकिन क्यों?

चीन को दुनिया का कारखाना कहा जाता है. ऐसे में अगर चीन जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था में कोई वायरस फैलता है तो यह दुनियाभर की अर्थव्यवस्था पर असर डालता है.

कोरोना वायरस से वैश्विक अर्थव्यवस्था प्रभावित कोरोना वायरस से वैश्विक अर्थव्यवस्था प्रभावित

यह बात कई निवेशकों या आम जनता को अजीब लग सकती है कि चीन में फैले किसी वायरस से क्यों दुनियाभर के बाजारों में बिकवाली का आलम है? उन्नत चिकित्सा विज्ञान जल्द इसका हल खोज लेगा और इस पर काबू पा लिया जाएगा. फिर शेयर बाजार में इतनी अफरा तफरी क्यों? भारत समेत कई देशों में हर साल कोई न कोई बड़ी एक निश्चित समय में बड़ी संख्या में लोगों को बीमार करती है बल्कि मौत के घाट उतार देती है. मसलन, डेंगी, चिकनगुनिया के बुखार आदि फिर इस कोरोना से इतनी आफर क्यों!

बीमारी से बाजार की नब्ज समझने के लिए कुछ चीजों पर गौर करना जरूरी है. मसलन, बीमारी कहां फैल रही है? यह अर्थव्यवस्था को कैसे नुकसान पहुंचा रही है? और ग्लोबलाइजेशन के दौर में हम क्यों अछूते नहीं रह सकते.

चीन को दुनिया का कारखाना कहा जाता है. ऐसे में अगर चीन जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था में कोई वायरस फैलता है तो यह दुनियाभर की अर्थव्यवस्था पर असर डालता है. वायरस फैलने से चीन में कई तरह की व्यापारिक गतिविधियों को रोक दी गईं. मसलन, सभी तरह के आयोजन रद्द करना, सिनेमा हॉल बंद करना आदि. इसके अलावा भय के माहौल के कारण लोग सड़कों पर निकलने और रेस्त्रां में खाने से भी परहेज कर रहे हैं. मोटे तौर पर देखें तो यातायात, खान पान, मनोरंजन जैसी गतिविधियों पर अकुश लगेगा तो इसका सीधा असर देश के आर्थिक विकास पर पड़ेगा.

अब बात चीन से दुनिया देखने की. अगर चीन दुनिया की फैक्ट्री है तो फिर फैक्ट्री में उत्पादन थमेगा तो इसका असर उन देशों पर भी पड़ेगा जहां से चीन के व्यापारिक (आयात-निर्यात) रिश्ते हैं. इसके अलावा ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में जब तेजी से लोग एक दूसरे देश की यात्रा करते हैं और देशों को भी यह वायरस तेजी से प्रभावित कर सकता है.  

कोरोना का अब तक का सफर

साल 2019 की विदाई के दिन (31 दिसंबर) विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्युएचओ) की ओर से कोरोना वायरस के पहले मामले को आधिकारिक रूप से दर्ज किया गया. इसके बाद से अब तक कुल 4500 मामले मामले चीन में पाए जा चुके हैं, जबकि 5700 से ज्यादा संदिग्ध हैं. 106 लोगों की मृत्यु इस वायरस के कारण हो चुकी है. 20 जनवरी के बाद से अब तक हर दिन कोरोना वायरस के मामले दो गुने हो रहे हैं. अब तक 98 फीसदी मामले केवल चीन में मिले हैं लेकिन इस वायरस की पहुंच अब भारत, जापान, जर्मनी समेत कई देशों में भी होने की आशंका जताई जी रही है. इसकी तुलना साल 2003 में फैले एसएआरएस वायरस से की जा रही है, जिसका असर 8000 लोगों पर हुआ था.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें