scorecardresearch
 

शॉपिंग स्टोर्स नहीं करेंगे कोताही, कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए बनाई चाकचौबंद रणनीति

लॉकडाउन के बाद शॉपिंग मॉल्स और स्टोर्स बेहद बदल चुके होंगे. स्टोर मालिक क्वारंटीन बिन से लेकर वर्चुअल टूर तक नए तरीके इस्तेमाल कर रहे हैं.

शॉपिंग के लिए स्टोर मालिक अपना रहे नए तरीके शॉपिंग के लिए स्टोर मालिक अपना रहे नए तरीके

ट्रायल रूम में कपड़ों की फिटिंग जांचने के लिए पहनकर देखना सुरक्षित होगा? स्टोर में जूते पहनकर देखना कहीं महामारी को न्योता देने जैसा न हो? ब्यूटी प्रोडक्ट्स को ट्राई करना कितना ठीक रहेगा? फर्नीचर्स को हाथ लगाकर परखना क्या ठीक रहेगा? यह सवाल इन दिनों लगातार ग्राहकों के मन में उमड़-घुमड़ रहे हैं. दरअसल, सरकारी दिशा-निर्देश के मुताबिक 8 जून से मॉल्स खुलने की अनुमति से लोगों में खुशी से ज्यादा शंका है? लोगों की यह शंका शॉपिंग स्टोर मालिकों के लिए घबराहट का सबब बनी हुई. हालांकि चौथे लॉकडाउन में मिली सशर्त शॉपिंग कॉम्पलेक्स खोलने की इजाजत के बाद कुछ शॉपिंग स्टोर्स पहले से ही खुल चुके हैं. लेकिन मॉल खोलने की अनुमति मिलने के बाद शॉपिंग स्टोर्स मालिकों के चुनौती बड़ी होगी. ऐसे में वायरस से निपटने के लिए ब्रांड मालिकों ने चाकचौबंद रणनीति तैयार की है.

वायरस से निपटने के लिए शॉपिंग स्टोर मालिकों ने निकालने यह पांच खास उपाय

क्वारंटीन बिनः स्टोर मालिकों के बीच सबसे बड़ा सवाल था कि ट्रायल रूम में ट्राई किए कपड़े या जूतों को डिसइंफेक्ट करने के लिए क्या रणनीति अपनाई जाए? फैशन ऐंड स्टाइल स्टोर प्यूमा (PUMA)के इंडिया और साउथईस्ट एशिया के जनरल मैनेजर अभिषेक गांगुली कहते हैं, '' हमने इस समस्य से निपटने के लिए क्वारंटीन बिन यानी ट्राई किए हुए कपड़े या जूतों के लिए एक बड़ा सा डब्बा हर स्टोर में रखा है. ताकि इसमें ट्राई करने के बाद उस सामग्री इसमें डाला जा सके. 48 घंटों तक वह सामान डिब्बे में ही रहेगा. फिर इसे डिसइंफेक्ट किया जाएगा और दोबारा रैक में रखा जाएगा. खासतौर पर हाई प्रोफाइल लड़कियों और औरतों के बीच मशहूर ब्रांड एएमपीएम की क्रिएटिव डायरेक्टर प्रियंका मोदी भी क्वरंटीन बिन के इस्तेमाल से सहमति जताती हैं. एएमपीएम के भी हर स्टोर में इस उपाय को तवज्जो दी गई है. हालांकि यहां एक कदम आगे 48 घंटों तक क्वारंटीन किए सामान को गोदाम में भेजकर क्लीन करवाने के बाद स्टोर में दोबारा लाया जा रहा है. ज्यादा स्टोर मालिक इस क्वारंटीन बिन के उपाय को अपनाने से सहमति जता रहे हैं.

वर्चुअल टूरः डेकर ऐंड डिजायन ब्रांड पर्पल टर्टल्स ने सबसे पहले यह उपाय अपनाना शुरू किया. दरअसल यहां खरीददारी से पहले ग्राहक को वर्चुअल टूर के जरिए प्रोडक्ट की डिजायन और गुणवत्ता परखने का मौका दिया जाता है, ताकि स्पर्श के जरिए फैलने वाले संक्रमण से बचा जा सके. अब यह उपाय कई और जानेमाने ब्रांड अपना रहे हैं.

टेस्टर प्रक्रिया पर रोकः खासतौर पर ब्यूटी प्रोडक्ट्स के स्टोर्स में डेमो के लिए या तो स्टोर पर मौजूद सेल्स गर्ल या फिर खुद ग्राहक पर इन्हें आजमाने की प्रक्रिया अपनाई जाती थी. जैसे नेलपॉलिश, लिप्स्टिक या अन्य ऐसे ही प्रोडक्ट्स. अब यह डेमो और ट्रायल नहीं किया जा रहा. मशहूर ब्रांड फॉरेस्ट एसेंशियल के एक्सीक्यूटिव डायरेक्टर समरथ बेदी कहते हैं, '' नए मानकों के बाद अब फिलहाल ग्राहकों को दूर से ही सामान देखकर खरीदना पड़ेगा, ट्रायल प्रक्रिया पर पूरी तरह रोक है.''

सामाजिक दूरी बनाने के लिए 'महासेल' की घोषणा गई टालीः मध्य जून से लेकर जुलाई तक महासेल यानी सामान पर भारी छूट का मौसम होता है. लेकिन इस बार स्टोर मालिकों को रणनीतिकारों ने सलाह दी है कि वे केवल अपने लॉयल और वास्तविक ग्राहकों पर ही भरोसा करें. भारी छूट भीड़ को बढ़ाती है. इसलिए छूट की घोषणा को फिलहाल टाल दें. डीएलएफ शॉपिंग माल्स की एक्सीक्यूटिव डायरेक्टर पुष्पा बेक्टर भी सेल के जरिए मिलने वाली छूट को फिलहाल न देने के पक्ष में हैं. वे कहती हैं. मोर, फॉच्यून ग्रुप, रिलायंस फ्रेस जैसे स्टोर्स के सामने गोले बनाए गए हैं. जहां खड़े होकर निर्धारित दूरी के अनुसार लोग स्टोर के भीतर जाने का इंतजार करेंगे. स्टोर में जगह के मुताबिक दो से लेकर पांच तक लोग ही जा पाएंगे.

सैलून में पीपीई किट हुई जरूरीः चौथे लॉकडाउन के बाद से सैलून को खोलने की छूट मिल गई थी. मशहूर ब्रांड वाले सैलून में हेयर कटिंग और डिजायनर एक्पर्ट पीपीई किट पहनकर सेवाएं दे रहे हैं. मॉल्स खुलने के बाद भी यह उपाय जारी रहेगा.

इसके अलावा सामाजिक दूरी बनाने के लिए ग्राहकों की कम भीड़, स्टोर का दिन में कम से कम दो बार सैनेटाइजेशन, मास्क और ग्लव्स पहनने की प्रक्रिया को तो सभी स्टोर्स फॉलों कर ही रहे हैं.

कुल मिलाकर लॉकडाउन के बाद शॉपिंग मॉल्स और स्टोर बेहद बदल चुके होंगे. पहले की तरह शाॉपिंग करना इतना आसान नहीं होगा. कुछ नए तरीके ग्राहकों को सीखने पड़ेंगे, हो सकता है शुरूआत में यह नया रंग-ढंग आपके भीतर खीझ भी पैदा करे. लेकिन शॉपिंग करना है तो इन नए तरीकों को सीखना ही पड़ेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें