scorecardresearch
 

फिर दिल्ली को झकझोरने आ पहुंची किसानों की पलटन!

किसान विरोध के साथ इस बार लाए हैं ग्रामीण अंचल की मिठास. दिल्ली के रेलवे स्टेशनों से रामलीला मैदान तक पैदल चलकर आए किसान जब थककर शामियानें तले बैठे तो लोकगीतों और लोकनृत्यों ने मिटा दी उनकी थकान.

रामलीला मैदान पहुंचे हजारों किसान रामलीला मैदान पहुंचे हजारों किसान

दिल्ली जब तब किसानों के सरकार विरोधी नारों से गूंजती रहती है. एक बार फिर देश के कोने-कोने से किसान संसद को घेरने आ पहुंचे हैं. दिल्ली का रामलीला मैदान किसानों से भरा पड़ा. आज रात किसान रामलीला मैदान में ही गुजारेंगे और सुबह साढ़े आठ बजे संसद की तरफ निकल पड़ेंगे. किसान इससे पहले कई बार संसद घेर चुके हैं. कई बार मार्च निकाल चुके हैं लेकिन इस बार किसान अपने साथ ग्रामीण आंचल की मिठास भी लेकर आए है.

अलग-अलग राज्यों से किसान संगठन अपने साथ लोककलाकारों को भी लेकर आए हैं. शाम होते-होते रामलीला मैदान में मिठास घुलने लगी. लोकसंगीत धुन और लोकनृत्य थाप गूंजने लगी. बनारस के ‘राजाजीतालाब’ से आए संतोष कहते हैं, ‘‘ लोककलाकारों को संग लाने का मकसद ये बताना है कि अभी हम थके नहीं हैं. हम ऊर्जा से भरे पड़े हैं.’’

नासिक से आए किशन गुज्जर कहते हैं, ‘साढ़े चार साल बिताने के बाद केंद्र सरकार को फिर मंदिर की याद आने लगी. दरअसल मंदिर की याद नहीं बल्कि भाजपा को हार का डर सताने लगा है. इसलिए फिर मंदिर-मस्जिद का खेले शुरू कर दिया है.

देश का किसान मर रहा है और हुक्मरान मंदिर-मंदिर खेल रहे हैं. ऐसा नहीं चलेगा. किसान को भी हक है कि वह एक बेहतर जिंदगी जिए. मनोरंजन का हक भी हमें है. इसलिए लोककलाकारों का जत्था भी साथ आया है.’’

किसानों की मांगे और चेतावनी कुछ नई नहीं हैं. कर्जामाफी की मांग, स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करना की अपील औऱ फसलों के उचित मूल्य की देने की गुहार.

लोकसभा चुनावों में सरकार को सबक सिखाने की चेतावनी. लेकिन क्या इन सबसे कुछ होने वाला है?

तो कल होगा नग्न प्रदर्शन !

रामलीला मैदान में तमिलनाडु से आए पी.अयक्कन्नू अपनी टूटी-फूटी हिंदी में कहते हैं, ‘‘न गुहार नई है और न चेतावनी. और जब समस्या नई नहीं है तो गुहार और चेतावनी नई कैसे लाएं.’’

वे आगे कहते हैं कि लेकिन हर बार किसानों में ऊर्जा नई होती है. सरकार अत्याचार करते नहीं थकती और किसान विरोध करते नहीं. वे हंसते हुए कहते हैं, ‘देखते हैं पहले कौन थकता है?’'

हालांकि तमिलनाडु से आए इन किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर शुक्रवार को उन्हें संसद नहीं जाने दिया गया तो वे नग्न होकर प्रदर्शन करेंगे. हालांकि पिछले साल भी तमिलनाडु का ये संगठन हाथों में कटोरा और मृत किसानों की खोपड़ी लिए जंतर मंतर पहुंचा था. चूहे और घास खाकर भी इन लोगों ने प्रदर्शन किया था.

विरोध करने दिल्ली आ पहुंचे किसान संगठनों के साथ महिला किसान भी भारी संख्या में हैं. संवी नासिक से आई हैं. वे कहती हैं, ‘‘ खेतों में काम करके भी भूखे मरना है और न करके भी तो क्यों न विरोध करके मरें.

इसलिए मैं तो कहती हूं. हम दिल्ली में ही अपना डेरा डाल लें. नेताओं के घर के सामने कटोरा लेकर खड़े रहे हैं. जब दिल्ली में किसान मरेंगे तो संसद में हंगामा होगा. संवी अभी बारहवीं में पढ़ती हैं. पचास-साठ औरतों के ग्रुप में केवल उन्हें ही हिंदी आती है. इसलिए उन्हें इस प्रदर्शन के लिए खास चुना गया है.

छत्तीसगढ़ के सुकमा से आए छेदी लाल कहते हैं, ‘‘अबकी रामलीला मैदान में महाभारत की तैयारी है.’’ उनके इस बयान पर जैसे ही उनसे पूछा गया कि क्या कोई हिंसा भी हो सकती है तो उनके साथी उन्हें चुप कराकर बात टाल देते हैं. खैर जो भी हो लेकिन एक बार फिर किसानों की पलटन दिल्ली को झकझोरने आ गई है. लेकिन हर बार की तरह फिर वही सवाल है कि क्या इस विरोध से दिल्ली में बैठे हुक्मरान पसीजेंगे?

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें