scorecardresearch
 

डॉक्टर्स डे में गूंजा डॉक्टर्स की सुरक्षा का मुद्दा

आखिर क्या वजह है कि डॉक्टरों पर हिंसा के मामले बढ़ने लगे हैं? क्या इसके पीछे मरीज और डॉक्टरों के बीच संवाद की कमी जिम्मेदार है?

फोटोः संध्या द्विवेदी फोटोः संध्या द्विवेदी

दिल्ली के हिंदू राव अस्पताल में 29 जून को आपातकाल वॉर्ड के डॉक्टरों के साथ मारपीट का मामला सामने आया तो गुस्साए डॉक्टर हड़ताल पर चले गए. 1 जुलाई को पूरे दिन अस्पताल का ओपीडी बंद रहा. हड़ताल अभी जारी है. डॉक्टर गुस्से में हैं कि जब तक उनकी सुरक्षा को लेकर प्रशासन सख्त कदम नहीं उठाता, वे हड़ताल खत्म नहीं करेंगे. 

अभी हाल ही में पश्चिम बंगाल में एक डॉक्टर के साथ मारपीट का मामला तो इतना गरमाया कि राज्य और केंद्र दोनों सरकारों को दखल देना पड़ा. राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को खुद डॉक्टरों से मिलकर आश्वासन देने के लिए मजबूर होना पड़ा. डॉक्टरों के साथ मारपीट के मामले रोजाना की बात हो गए हैं. आखिर मरीज के इलाज के लिए साथ में आए सगे-संबंधी डॉक्टरों से इतना बौखला क्यों जाते हैं? क्यों डॉक्टर लगातार हिंसा का शिकार हो रहे हैं? न्यूरोसर्जन डॉक्टर संजीव कुमार कहते हैं, '' दरअसल इन झगड़ों की जड़ में 'बेहतर संवाद की कमी' है. व्यक्ति डॉक्टर के पास तभी आता है जब उसकी हालत खराब होती है. संबंधी घबराए होते हैं. उधर डॉक्टर किसी दूसरे मरीज के इलाज की वजह से फौरन उस दूसरे मरीज को देख नहीं पाता है तो विवाद बढ़ जाता है तो फिर...'' 

वे कहते हैं, '' डॉक्टर को पता है कि किस मरीज को पहले वक्त देना जरूर है. सिर्फ वह अपनी प्राथमिकता के आधार पर इलाज करता है. पर मरीज के सगे-संबंधी यह नहीं समझते. बस डॉक्टर्स को मरीज के उत्तेजित संबंधियों को यही बात समझानी है. काम कठिन है, लेकिन थोड़ी सावधानी के साथ इसे किया जा सकता है.'' 

डॉक्टरों की सुरक्षा, उनकी समस्याएं और संभावित समाधान पर गाइनेकोलॉजिस्ट डॉक्टर ममता ठाकुर कहती हैं, "दरअसल हिंसा आजकर हवा में है. कहीं पत्रकार पिट रहे तो कहीं वकील. सड़क पर निकलो तो झगड़े ही झगड़े. मगर यह समझना होगा कि डॉक्टर भी इंसान है. डॉक्टर के खिलाफ हिंसा के मामले बढ़ने का असर यह हुआ कि अब सरकारी डॉक्टर मरीज का इलाज करने की जगह उसे दूसरे अस्पताल में रेफर करने में भलाई समझते हैं, जबकि उसका इलाज वह भी कर सकते हैं. कारण डर. डॉक्टर अब पल्ला झाड़ने लगे हैं. और यह चलन ठीक नहीं है. डॉक्टरों को हर चीज के लिए जिम्मेदार ठहराना ठीक नहीं.'' 

हालांकि डॉक्टर ममता ने यह भी अपील की है कि डॉक्टरों के खिलाफ बढ़ रहे हिंसा के मामलों के मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मन की बात में अगर उठाएं तो एक अच्छा संदेश लोगों तक पहुंचेगा. 

स्वस्थ भारत न्यास के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने डॉक्टर्स डे के मौके पर गांधी शांति प्रतिष्ठान में डॉक्टरों की सुरक्षा पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया. इसमें कई नामी-गिरामी डॉक्टरों ने शिरकत की. 

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें