scorecardresearch
 

गलती से सीख लेने में भी माहिर थे जेटली

कानूनी मामलों के जानकार जेटली के पास सियासी किस्सों का भंडार था जो वह बीट रिपोर्टरों को सुनाया करते हैं. ऐसा ही एक किस्सा साझा कर रहे हैं इंडिया टुडे के पत्रकार सुजीत ठाकुर

फोटो सौजन्यः आजतक/रॉयटर्स फोटो सौजन्यः आजतक/रॉयटर्स

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली अब हमारे बीचनहीं रहे. कानूनी और सियासी पहलुओं के जानकार जेटली सरकार और संगठन में गलितयों सेसीखकर उसे सुधारने की कला में भी माहिर थे. पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में वहउस किस्से को सुनाते थे जब पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण कारिश्वत के तौर पर एक लाख रूपए लेने के वीडियो ने सियासी तहलका मचा दिया था. 

इस घटना के  बाद भाजपा में बहुतचर्चा हुई कि यदि कोई संस्था या व्यक्ति पार्टी को फंड देना चाहता है तो क्यासिर्फ चेक से ही लिया जाए. बहुत लोगों ने इसे ही बेहतर विकल्प बताया. लेकिन संकटयह था कि ज्यादातर संस्थाएं कैश में ही पार्टी को फंड देना चाहती थी. ऐसे में जेटलीने यह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी कोयह सुझाया कि किसी भी स्थिति में राष्ट्रीय अध्यक्ष या संसदीय बोर्ड (जिसमेंपार्टी के वरिष्ठतम नेता होते हैं) स्वयं से कैश,चेक या फिर किसी और तरीके से पार्टी फंड न लें. यह सुझाव सभी को पसंदआया और पार्टी में एक सिस्टम बन गया कि फंड लेने के लिए अलग कोई व्यक्ति नियुक्तकिया जाए.

इस घटना के बाद जेटली ने खुद और अपने परिवार के लिए भी यह तय किया किकोई भी लेनदेन चेक के जरिए ही किया जाए. इसका पालन उन्होंने इतनी सख्ती से किया किअपने बेटे और बेटी को जेब खर्च भी वह चेक से ही देते थे. अपने यहां काम करने वालोंको भी वह चेक के जरिए ही पेमेंट करते थे. एक बार जब उन पर 2009 में यह आरोप लगायागया कि उनके परिवार को एक विवादित व्यक्ति ने गिफ्ट दिया है तो उससे काफी सियासीबवाल मचा. बाद में जब जेटली की ओर से यह कहा गया कि वह गिफ्ट नहीं था बल्कि उनकेपरिवार के सदस्यों ने उसे खरीदा था तो जेटली के विरोधियों ने यह आरोप लगाया किखरीदने के लिए पैसे दिए गए इसका क्या सबूत है तो जेटली की ओर से बताया गया किपेमैंट कैश से नहीं चेक से की गई है जिसका बैंक डिटेल उनके पास है. इसके बाद मामलाशांत पड़ गया. वह पार्टी के लोगों को भी इस बात के लिए प्रोत्साहित करते थे किछोटा से छोटा ट्रांजेक्शन भी चेक से करना हर तरह से सुरक्षित रहता है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें