scorecardresearch
 

शास्त्रीजी की मौत की जांच को आयोग बने तो मकसद पूराः श्वेता प्रसाद

द ताशकंद फाइल्स, फिल्म में रोल, शास्त्री जी की मौत, मोदी से अपेक्षा, शास्त्रीय संगीत, करियर जैसे मसलों पर अभिनेत्री श्वेता बासु प्रसाद के साथ बात की नवीन कुमार ने

फोटोः नवीन कुमार फोटोः नवीन कुमार

द ताशकंद फाइल्स, फिल्म में रोल, शास्त्री जी की मौत, मोदी से अपेक्षा, शास्त्रीय संगीत, करियर जैसे मसलों पर अभिनेत्री श्वेता बासु प्रसाद के साथ बात की नवीन कुमार ने

लंबे समय के बाद एक विवादास्पद विषय वाली फिल्म में काम करने का फैसला क्यों?

द ताशकंद फाइल्स की स्क्रिप्ट मुझे बहुत पसंद आई. यह हमारे पूर्व प्रधानमंत्री लालबहादुर शास्त्री की मौत पर आधारित है. उनकी मौत आज भी 53 साल बाद रहस्यमय बनी हुई है. मेरी तरह आज का युवा भी चाहता है कि इस रहस्य पर से परदा उठे.

तो क्या यह फिल्म उस रहस्य पर से परदा उठाती है?

इसके लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी. आपको सोचने के लिए मजबूर करेगी. यह एक इंवेस्टिगेटिव थ्रिलर फिल्म है.

फिल्म में आप क्या रोल अदा कर रही हैं?

मैं आज की पत्रकार रागिनी फुले का रोल कर रही हूं जो एक रिपोर्ट छापती है कि शास्त्री जी की मौत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट कहां है. इसके बाद हंगामा होता है और एक जांच आयोग बैठता है. 

शास्त्री जी की हत्या के सवाल से आप कितनी सहमत हैं?

सवाल यह नहीं है कि शास्त्री जी की हत्या किसने की. सवाल यह है कि उनकी मौत कैसे हुई. जिस परिस्थिति में वो लाए गए थे पालमपुर एयरपोर्ट पर वो बहुत ही रहस्यमय था. उनका चेहरा नीला था, मुझे तो नहीं लगता है कि वो नेचुरल डेथ थी. अगर हार्ट अटैक हुआ था तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट दे दें.

शास्त्री जी के परिवारवाले क्या चाहते हैं?

वो भी असलियत जानना चाहते हैं. फिल्म में सुनील शास्त्री और अनिल शास्त्री के भी इंटरव्यू हैं. 

शास्त्री जी मौत पर क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आपकी कोई अपेक्षा है?

अगर मोदी जी फिल्म देखकर शास्त्री जी की मौत पर जांच आयोग गठित कर दें तो फिल्म बनाने का हमारा मकसद पूरा हो जाएगा. 

जर्नलिज्म करने के बाद आपका मन उस दिशा में काम करने का नहीं हुआ?

जर्नलिज्म से ग्रेजुएशन करने के बाद मैंने ऐक्टिंग नहीं की बल्कि चार-पांच सालों तक कैमरे के पीछे काम किया. शास्त्रीय संगीत कम लोकप्रिय क्यों है इस विषय को लेकर मैंने एक डाक्युमेंटरी रूट्स बनाई जिसमें पंडित जसराज, एआर रहमान, विशाल भारद्वाज, हरिप्रसाद चौरसियाजी, अमजद अली खान सबका मैंने इंटरव्यू लिया. इसे आप अभी नेटफ्लिक्स पर देख सकते हैं. मुझे लगता है कि एजुकेशन सिस्टम में क्लासिक म्युजिक को तरजीह दी जानी चाहिए. वैसे, अगर मैं फिर से ऐक्टिंग की दुनिया में नहीं लौटी होती तो शायद मैं बीबीसी या डिस्कवरी के लिए डाक्युमेंटरी बनाने निकल पड़ती.

बतौर बाल कलाकार नेशनल अवार्ड लेने के बाद करियर को लेकर कोई गलती हुई?  

बिल्कुल नहीं. ऐक्टिंग की दुनिया में रहती तो मैं अफसोस भी करती कि मेरा बचपन छूट गया, मेरी पढ़ाई छूट गई. कई सारे चाइल्ड ऐक्टर हैं जिनको अफसोस होता है कि उनका बचपन छिन गया है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें