scorecardresearch
 

लिख-लिखकर निखरा रंधावा

टेलिविजन के पटकता लेखक बलजीत सिंह रंधावा की किताब 'रेजिग्नेशन लेटर' की कहानी और रंधावा के असल जिंदगी की कहानी युवाओं को प्रेरित करती है अपने सपनों को पानी के लिए हर मुमकिन कोशिश करने और कभी हार न मानने के लिए प्रेरित करता है. 

बलजीत सिंह रंधावा बलजीत सिंह रंधावा

इस जहां कुछ लोग ऐसे होते हैं जो साधारण-सी जिंदगी जीने की बजाए अपने सपनों का पीछा करते हुए सफलता के नए मुकाम हासिल करते हैं. ऐसी शख्सियत में से एक नाम बलजीत रंधावा का भी है. रंधावा इन दिनों अपनी किताब 'रेजिग्नेशन लेटर' को लेकर सुर्खियों में हैं. रंधावा के लेखन की शुरुआत बचपन से ही हो गई थी. कभी कविता,तो कभी कहानियां लिखी. 

आम युवा की तरह रंधावा की जिंदगी में भी भटकाव आए और उन्होंने करियर की तलाश में बीटेक में दाखिला ले लिया. एनआइटी भोपाल से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद और स्टील प्लांट में 2 साल तक काम करने के बाद उनका मन ऊब गया. आखिरकार, लेखक बनने के लिए मुंबई का रुख किया. मुंबई में बतौर कॉपीराइटर अपने करियर के दूसरी पारी की शुरुआत की. इन्होंने वर्ष 2016 में सोनी टीवी पर प्रसारित धारावाहिक 'कुछ रंग प्यार के ऐसे भी' और 'तू आशिक़ी' की पटकथा से अपनी लेखनी का लोहा मनवाया. इन्होंने इसके साथ ही विज्ञापन, चैनल पैकेजिंग, मोनोलॉग, प्ले, और स्क्रीनप्ले भी लिखे. 

वे बताते हैं, कॉलेज के बाद जब मैं घर लौटा और पहली बार घर से बाहर जाने के लिए पैकिंग शुरू की तो उन्हें एक पुरानी स्नैप डायरी मिली, जिसमें एक सवाल के जवाब में (तुम बड़े होकर क्या बनना चाहते हो) लिखा थाः मैं बड़ा होकर निर्देशक/लेखक बनना चाहता हूं. उस वक्त रंधावा की उम्र मात्र 11 वर्ष थी और यह वाकया महज तब का था जब ये चौथी कक्षा के छात्र थे. 

 रंधावा की किताब 'रेजिग्नेशन लेटर' के पन्ने को पलटने पर मालूम पड़ता है कि पूरी की पूरी किताब महज के एक सवाल पर आधारित है, या यूं कहें सिर्फ एक सवाल खुद को पूरी किताब में समेटे हुए है. (वह सवाल है क्या इंजीनियरिंग और फैशन डिजाइनिंग एक ही पटल पर खड़े हो सकते हैं). इस किताब की कहानी का पात्र प्रतीक मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर ट्रेनिंग में प्रवेश करता है. उस वक्त उसके हजारों सपने होते हैं. उम्मीद रहती है अच्छे पद और अच्छी सैलेरी की. मगर झटका उसे तब लगता है जब उसका प्लेसमेंट निचले स्तर पर होता है और कुछ जलनशील सहकर्मी मिलते हैं. 

रंधावा की किताब 'रेजिग्नेशन लेटर' की कहानी और रंधावा के असल जिंदगी की कहानी युवाओं को प्रेरित करती है अपने सपनों को पानी के लिए हर मुमकिन कोशिश करने और कभी हार न मानने के लिए प्रेरित करता है. अपने सपने को और अपनी उम्मीदों को हर पल जीवंत बनाए रखने के लिए आज के युवा को ऊर्जा प्रदान करता है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें