scorecardresearch
 

फिल्म में काम पाने के लिए पगड़ी नहीं उतारुंगाः दिलजीत दोसांझ

पंजाब के सिंगर-ऐक्टर दिलजीत दोसांझ अब हिंदी फिल्मों में भी छा रहे हैं. उड़ता पंजाब, फिल्लौरी, वेलकम टू न्यूयार्क और सूरमा के बाद उनकी पांचवी हिंदी फिल्म अर्जुन पटियाला है. इसमें भी वे एक पगड़ी वाले पुलिस की भूमिका में हैं. मुंबई में उनसे नवीन कुमार की हुई बातचीत पेश है-

फोटोः नवीन कुमार फोटोः नवीन कुमार

पंजाबी के बाद अब हिंदी फिल्मों में भी आप छा रहे हैं?

हिंदी फिल्मों में काम मिल रहा है, खुश हूं. शुक्रगुजार हूं भगवान का. काम मिलता रहे यही भगवान से मांगा है. यह नहीं सोचा कि यहां मिले वहां मिले. बस काम मिलता रहे और काम करता रहूं, यही चाहता हूं.

बॉलीवुड में फिल्में पाने के लिए मेहनत करनी पड़ी? 

गॉड गिफ्ट है जो हमें काम मिल रहा है. भगवान की मर्जी है. आप जो मेहनत कर रहे हैं वो सही दिशा में चल जाए तो वो भी भगवान की ही मर्जी है. वर्ना हर बंदा मेहनत करता रहता है लेकिन सबको दिशा सही नहीं मिल पाता है.

लक पर कितना विश्वास है आपको?

लक किसको कहते हैं, नहीं पता. लेकिन ये तो भगवान ही करता है. 

पंजाबी और हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में क्या फर्क महसूस किया?

मेरे लिए सिर्फ लैंग्वेज का फर्क है, बाकी कुछ नहीं. पंजाबी और हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में कोई अंतर नहीं है. 

अर्जुन पटियाला किस तरह की फिल्म है?

इसमें स्पूफ कॉमेडी है. यह फिल्म देखकर दर्शकों को खूब मजा आएगा. मैंने एक पंजाबी पुलिस अफसर की भूमिका की है. 

आज कल कॉमेडी फिल्मों में कोई न कोई मुद्दा रहता है. इसमें भी है? 

राइटर रितेश शाह ने इससे पहले काफी सीरियस फिल्में लिखी है. इसलिए मैंने उनसे पूछा था कि इसमें क्या मुद्दा है. किस बारे में है यह फिल्म. इस पर उन्होंने कहा कि भई, इस फिल्म का कोई मुद्दा नहीं है. इस फिल्म में मुददा है सिर्फ हंसाना. तो मैं समझ गया कि हम किस जोन में जाने वाले हैं.

साथी कलाकारों को दोस्त बना लेते हैं आप? 

कृति सैनन बहुत प्यारी इंसान हैं. मेरे लिए काम ही ठीक है. मैं सिर्फ अपने काम से मतलब रखता हूं. साथी कलाकारों से कोई दोस्ती नहीं होती है. मुझे दोस्त बनाने की जरूरत नहीं पड़ती है. आम तौर पर मैं दोस्त नहीं बना पाता. मैं ऐसा ही हूं.

जब साथ काम करते हैं तो कुछ तो रिश्ते बन जाते होंगे?

मुझे लगता है कि भगवान ने लड़का-लड़की की ट्यूनिंग बनाकर भेजी है. 

आपने कई हीरोइनों के साथ काम किया है. उनके साथ आपके क्या अनुभव हैं?

करीना कपूर तो बिल्कुल एक बेहतरीन हीरोइन की तरह दिखती हैं. आलिया भट्ट इतनी सामान्य हैं कि वो क्रू की एक मेंबर लगती हैं. अनुष्का शर्मा के साथ भी अच्छा अनुभव रहा. कृति तो हमउम्र हैं. 

आप पगड़ी वाले कैरेक्टर में ही दिखते हैं?

पगड़ी से मेरा भावनात्मक लगाव है. फिल्म में काम पाने के लिए मैं पगड़ी नहीं उतार सकता. जिस कैरेक्टर में पगड़ी नहीं होगी मैं उस कैरेक्टर को नहीं करूंगा. यह संयोग है कि मुझे पगड़ी वाले रोल आफर हो रहे हैं. 

फिल्म का चयन करने के लिए किन बातों का ख्याल रखते हैं?

किसी के पास कहानी अच्छी होती है तो प्रोड्यूसर अच्छे नहीं होते हैं. बड़े प्रोड्यूसर-डाइरेक्टर होते हैं तो उनके पास कहानी नहीं होती है. इसलिए फिल्म साइन करते वक्त सब कुछ देखना पड़ता है.

नए लोगों के साथ काम करना पसंद करते हैं?

नए लोगों के साथ काम करने में कोई दिक्कत नहीं है. लेकिन एक कड़ी ऐसी हो जाए जो जुड़ जाए तो काम करना आसान हो जाता है. 

अब म्यूजिक के लिए कितना समय दे पाते हैं?

म्यूजिक में समय नहीं दे पाता हूं जितना देना चाहिए.

गाने से दूर होते जाने का अफसोस है?

अफसोस नहीं है गाने नहीं गाने का. 18 साल का था 2002 में गाने में आया था. अब फिल्में कर रहा हूं. अभी एक पंजाबी फिल्म बनानी है. यामी गौतम के साथ एक फिल्म कर रहा हूं. इसी साल अक्षय कुमार और करीना कपूर के साथ गुड न्यूज फिल्म भी रिलीज होने वाली है. 

आपके शौक क्या हैं?

खाने पीने का शौक है. मुझे विदेशी कपड़ों का बहुत ज्यादा शौक है. जब मुझे थोड़े पैसे आ गए तो इसके भी शौक हो गए. लंदन, न्यूयार्क, ऐले सब जगह से कपड़े खरीद कर पहनता हूं. 

स्वदेशी चीज पसंद नहीं हैं आपको?

पगड़ी मेरी देसी है. ये लुधियाना से है. ये जिंदगीभर स्वदेशी ही रहेगी. कुर्ता-पाजामा भी मेरा देसी ब्रांड है. गांव का दर्जी है वही बनाता है.  

किस स्टार के साथ काम करने की इच्छा है? 

महमूद साहब के साथ काम करने की इच्छा थी, वह पूरी नहीं हुई. 

कोई ड्रीम?

ड्रीम नहीं है. ड्रीम कहां पूरी होती है. हां, एक ख्वाहिश है कि वार्नर ब्रदर्स में मेरा चॉपर उतरे. 

*** 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें