scorecardresearch
 

मैं अमिताभ बच्चन के साथ हैटट्रिक लगाना चाहती हूंः तापसी पन्नू

अपनी शानदार अदाकारी के लिए वाह-वाही बटोर रहीं तापसी पन्नू की एक और फिल्म, सांड की आंख, 25 अक्तूबर को रिलीज हो रही है. मुंबई में नवीन कुमार ने उनसे बंदूकों, निशानेबाजी, प्रकाशी और चंद्रो दादियों, खेलों, प्रोस्थेटिक्स मेकअप और अमिताभ बच्चन के साथ काम करने के तजुर्बे पर बात की. 

फोटोः नवीन कुमार फोटोः नवीन कुमार

सांड की आंख में गोलियां चला-चलाकर आप बंदूक प्रेमी हो गईं?

बंदूक ऐसी चीज है जो मुझे बचपन से ही पसंद नहीं है. इससे हिंसा की भावना पैदा होती है. लेकिन जब फिल्म के लिए उठाना था तो मुझे सीखना पड़ा. यह स्पोर्ट्स के लिए है. मैं निजी जिंदगी में किसी को थप्पड़ नहीं मार सकती. अब फिल्म में उठाना है तो उसी तरह से सीख लिया जिस तरह से प्यार करना सीखा. 

कितना चैलेंज रहा प्रकाशी और चंद्रो दादियों की तरह निशाना लगाना?

यह स्पोर्ट्स है. लेकिन यह दूसरे स्पोर्ट्स से अलग है. इसमें हर स्तर पर कंट्रोल करना पड़ता है. सांस भी नाप-तौल कर लेनी पड़ती है. गन हाथ में लेकर निशाना साधते समय नानी याद आ जाती है. ये गन भारी होते हैं और इसके लिए बाजू में भी ताकत चाहिए. दादियों के लिए आसान है. वे भगवान की देन हैं.

इन दादियों से क्या महसूस किया?

ये दादियां उन धारणाओं को तोड़ती हैं कि औरतें अंदर से कमजोर होती हैं. आज भी ये दादियां घर और बाहर का काम करते हुए पक्के निशानेबाज हैं. ये हमें प्रेरित करती हैं. ये चेंजमेकर हैं. लड़कियों को मोटिवेट करती हैं. 

आज की लड़कियां इसे सिर्फ स्पोर्ट्स के रूप में लेंगी?

स्पोर्ट्स तो है ही. लड़कियों को अलग तरह से प्रेरणा मिलती है. मन में विश्वास रखो. जब तक जिंदगी है तब तक कुछ भी कर सकते हो. कहते हैं कि जहां चाह वहां राह. 

प्रोस्थेटिक्स मेकअप से डर लगा था?

इस पर शोध करने के बाद ही जिंदगी दांव पर लगा दी थी. क्योंकि एक ऐक्टर का चेहरा ही सब कुछ होता है. हमें ब्रेड बटर तो यही देता है. भूमि पेडणेकर के चेहरे पर प्रतिकूल असर दिखा. मैं बच गई. बावजूद इसके अगली किसी फिल्म में भी इसका इस्तेमाल जरूर करूंगी. ऐक्टिंग में यह आज की जरूरत है. 

अमिताभ बच्चन के मुंह से अपनी तारीफ सुनकर कैसा महसूस करती हैं?

यही कि हमसे अपेक्षाएं बढ़ती जा रही हैं. अब उनके साथ हैट्रिक करनी पड़ेगी. हमारे ग्राफ ऊपर बढ़ रहे हैं और इसे बढ़ते देना चाहिए. दरअसल मैं उन्हें द अमिताभ बच्चन ट्रीट नहीं करती, हम एक सह कलाकार की तरह ही रहते हैं. कुछ लोग उनका पैर छूते हैं जो उन्हें भी पसंद नहीं है. जब हमने पहली फिल्म की थी तब हमारे समीकरण अच्छे हो गए थे, दूसरी फिल्म से और अच्छे हुए और अब तीसरी करेंगे तो जबर्दस्त हो जाएगा. 

आपकी पहचान मुद्दों वाली हीरोइन के रूप में भी बन रही है, ऐसी कोई और फिल्म है?

थप्पड़. यह थप्पड़ किसे लगेगा यह फिल्म देखकर पता चलेगा. लेकिन इस थप्पड़ के बहुत मायने हैं. इसे अनुभव सिन्हा बना रहे हैं. यह पिक्चर देखने के बाद हर औरत किसी न किसी एक किरदार से खुद को जोड़कर देखेगी. इसके साथ ही इसमें मेरा बदला हुआ रूप भी दिखेगा जो मेरे और अनुभव दोनों के लिए चैलेंज है. 

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें