scorecardresearch
 

इम्तिहान में लड़कियां अव्वल पर नौकरियों में नहीं

धारणा है कि अध्यापन एक ऐसा पेशा है जहां महिलाएं ही अधिक होती हैं. लेकिन हकीकत अलहदा है. अगर गहराई से सोचें तो कई वजहें दिखती हैं. अव्वल वजह तो यही है कि इस क्षेत्र में भी हमारा पितृसत्तात्मक समाज ही जिम्मेदार नजर आता है. 

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

इन दिनों सीबीएसई और ज्यादातर राज्य बोर्ड के दसवीं और बारहवीं इम्तिहानों में अमूमन लड़कियां टॉप करती दिखती हैं. हर क्लास में भी लड़कियों का प्रदर्शन लड़कों के बनिस्बत बेहतर होता है. लेकिन नौकरी के वक्त कहां चली जाती हैं ये लड़कियां? कुछ तो वजह होगी इनके गायब हो जाने की? यूं ही मैदान छोड़कर भाग नहीं खड़ी होती होंगी! करियर तो उन टॉपर लड़कियों को भी प्रिय होता होगा न?

असल में, मानव संसाधन विकास मंत्रालय की एक रिपोर्ट में प्रकाशित आंकड़े ऐसे सवालों के सबब बन गए. इस रिपोर्ट के मुताबिक, सिर्फ अध्यापन के पेशे में ही महिलाओं के मुकाबले 2,05,339 पुरुष अधिक हैं. साल 2017-18 की यह रिपोर्ट बताती है कि बिहार, राजस्थान और महाराष्ट्र में यह आनुपातिक विषमता कहीं अधिक है. 

वैसे धारणा यही है कि अध्यापन और शिक्षण एक ऐसा पेशा है जहां महिलाएं ही अधिक होती हैं. लेकिन हकीकत अलहदा है. 

शिक्षण के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी कम क्यों है, अगर गहराई से सोचें तो कई वजहें दिखती हैं. अव्वल वजह तो यही है कि इस क्षेत्र में भी हमारा पितृसत्तात्मक समाज ही जिम्मेदार नजर आता है. पर कैसे? 

यूजीसी-नेट के लिए तय उम्र सीमा 25-32 साल की है. पूरे देश में शादी-ब्याह की यही उम्र अच्छी मानी जाती है. ख़ासकर लड़कियों की. तो ऐसे में जब लड़कियां अन्य ज़िम्मेदारियों में उलझी रहती हैं वह परीक्षा पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पातीं. नतीजे उठाकर देख लीजिए, पुरुषों के मुक़ाबले महिलाएं नेट के लिए अधिक आवेदन करती हैं. मगर रिज़ल्ट में काफ़ी पीछे रह जाती हैं.

फिर आता है रिज़ल्ट क्लीयर होने के बाद इंटरव्यू का दौर, जिसमें महिला प्रतियोगियों से कुछ ऐसे सवाल पूछे जाते हैं. जैसे, आप शादी कब कर रहीं या शादी के बारे में क्या सोच रहीं? शादी हो चुकी है अगर तो बच्चों के बारे में ख़्याल हैं? बच्चे हैं तो कितने हैं? पति क्या करते हैं?

बहाली के वक़्त ये सवाल स्कूल-कॉलेजवाले इसलिए पूछते हैं क्योंकि उनको लगता है और जो कहीं-न-कहीं सही भी है कि, एक बार जब लड़की की शादी हो जाती है या मां बन जाती है तो उनकी प्राथमिकताएं बदल जाती हैं. वो अपने करियर को लेकर कई बार जान-बूझकर, तो कई बार मजबूरी में आकर उदासीन हो जाती हैं. कई महिलाएं पति की नौकरी में तबादले के बाद अपना जमा-जमाया करियर छोड़कर पति के साथ नई जगह चली जाती हैं. 

ऐसे में जब ख़ुद महिलाएं ही अपने जॉब को ले कर सीरियस नहीं होंगी तो जो नियोक्ता क्यों कर होगा?  नौकरियों में महिलाओं की अनुपात के कम होने में यह बड़ा मसला है. 

महिलाओं की नौकरियों में भागीदारी बढ़े इसके लिए पुरुषों को जिम्मेदारी उठाने की जरूरत है. करियर सिर्फ पुरुषों का नहीं बल्कि स्त्रियों के लिए भी अहम है यह बात स्कूल में ही बताई जानी चाहिए. तब जाकर हम आने वाले दिनों में महिलाओं की स्थिति में सुधार होता देख पाएंगे.

असल में, नौकरियों में महिलाओं की हिस्सेदारी समाज की सोच का आईना है और समाज की सोच स्कूली शिक्षा के समय ही बदलने की शुरुआत की जानी चाहिए. और, अब वक्त आ गया है कि यह काम जितनी जल्दी हो, उतना बेहतर.

(अनु रॉय मुंबई में रहती हैं और महिला अधिकारों के लिए काम करती हैं. यहां व्यक्त उनके विचार और पेश आंकड़े निजी हैं और उससे इंडिया टुडे की सहमति आवश्यक नहीं है)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें