scorecardresearch
 

सेकुलर दलों में हिंदू वोटबैंक का लालच

नए साल में सियासी दलों की भूमिकाएं बदल रही हैं. कांग्रेस गुजरात ही नहीं कर्नाटक में भी खुद की हिंदूविरोधी छवि से मुक्त होना चाहती है, तो भाजपा अल्पसंख्यकों को लुभाने की कोशिश में है. तृणमूल बंगाल में कहीं गाय तो कहीं गीता बांट रही है. लेकिन तय है कि चुनावों में हिंदू एक वोटबैंक के तौर पर उभरा है.

X
दुर्गा पूजा पंडाल में ममता बनर्जी
दुर्गा पूजा पंडाल में ममता बनर्जी

नया साल सियासी दलों के लिए अपनी ताकत आजमाने का साल है. इस साल को सियासी दंगल का सेमीफाइनल भी कहा जा सकता है. गुजरात और हिमाचल के बाद राजनीतिक पार्टियां इस साल 8 राज्यों के चुनाव के लिए कमर कस रही हैं.

लेकिन, नया साल भूमिकाएं बदलने का साल भी है. गुजरात में कड़ी टक्कर दे चुकी कांग्रेस ही नहीं, बाकी की पार्टियां सॉफ्ट-हिंदुत्व का दामन थाम रही हैं. एक तरफ तो कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैय्या ही हैं, जिन्होंने जनसभा में कहा कि वे हिंदू हैं. उन्होंने अपने नाम में राम के जुड़े होने का हवाला दिया और कहा कि सिर्फ भाजपा के लोग ही हिंदू नहीं हैं. अब कर्नाटक में मार्च में ही विधानसभा के चुनाव होने हैं. सूबे में करीब 85 फीसदी हिंदू वोटर हैं. इनमें से 20 फीसदी लोग लिंगायत हैं, जो भगवान शिव के उपासक हैं.

दूसरी तरफ, गुजरात में राहुल गांधी के बाइस मंदिरों की पूजा-अर्चना खबरों में रही ही थी. इसका अर्थ यह है कि कांग्रेस अपनी हिंदुत्व विरोधी छवि को तोड़ने की जुगत में लगी है.

याद करिए, जब गो-वध के खिलाफ देश भर में भाजपाईयो ने हवा बनाई तो केरल में युवा कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने खुलेआम बछड़े का मांस बनाया और खाया था.

कांग्रेस के लिए यह नुकसानदेह था क्योंकि सेकुलर से सेकुलर हिंदू भी खुले तौर पर बीफ को लेकर कुछ ऐसा कहने से बचता है. यह बात और है कि भाजपा के अपने शासन वाले राज्यों में बीफ को लेकर अलग किस्म की रस्सा-कस्सी है.

असल में, अब सभी पार्टियों की नजर हिंदू वोटरों पर है. गुजरात में, भाजपा मोदी के करिश्मे के बूते सरकार और साख बचाने में कामयाब रही थी. लेकिन मानना होगा कि कांग्रेस ने सॉफ्ट हिंदुत्व अपनाकर कड़ी टक्कर दी. अब इस फॉर्मूले को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस गुजरात में 148 राम मंदिरों में पूजा किट बांटने वाली है.

कोई भी दल, यहां तक कि खुद को काफी सेकुलर दिखाने और जताने वाली तृणमूल कांग्रेस भी इस आरोप से बाहर निकलना चाहती है.

पश्चिम बंगाल में पिछले कुछ महीनों में हुए सांप्रदायिक विवादों में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर मुसलमानों के पक्ष में खड़े होने के आरोप लग रहे हैं. दुर्गा पूजा और मुहर्रम के बीच विसर्जन को लेकर विवाद में आरोप लगा कि वह मुस्लिम तुष्टिकरण में जुटी हैं. अब मुकुल रॉय पार्टी छोड़कर भाजपा में जा चुके हैं तो ममता को अपने वोट बैंक साधने की याद आई है.

ऐसे में उन्होंने पहले तो गाय पालने वालों को गाय देने की योजना शुरू की और अब उनके करीब माने जाने वाले अनुब्रत मंडल ने वीरभूम जिले में ब्राह्मण सम्मेलन में आठ हजार ब्राह्रमणों की गीता बांटी. साथ में अलग उपहार भी थे. ममता भी इससे पहले खुद को हिंदू बता ही चुकी हैं.

असल में, इस कवायद के पीछे की वजह जानना कोई रॉकेट साइंस नहीं है. भाजपा ने मुकुल रॉय के पार्टी में आने के बाद से अभी से 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है.

कोलकाता में भाजपा ने एक अल्पसंख्यक सम्मेलन किया था. इस सम्मेलन में अच्छी खासी भीड़ जुटी थी. पिछले तीन महीने में यह भाजपा दूसरा अल्पसंख्यक सम्मेलन था.

इसका मतलब है कि एक तरफ कथित सेकुलर पार्टियां हिंदू वोटरों को अपने पक्ष में करने के लिए बेचैन हैं तो दूसरी तरफ भाजपा इन वोटरों को अपना मानकर चल रही है और वह 2019 में अपनी मजबूती राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश के अलावा पश्चिम बंगाल जैसे इलाके में भी दिखाना चाह रही है.

आखिर, पश्चिम बंगाल में आज तक भाजपा ने 2 से अधिक लोकसभा सीटें नहीं जीती हैं. बंगाल में वाम मोर्चा बेहद कमजोर स्थिति में है और अगर ममता बनर्जी की टीएमसी कमजोर पड़ती है उस सत्ता-विरोधी रूझान को झपटने के लिए भाजपा खुद को दूसरे विकल्प के तौर पर तैयार करना चाहती है.

पश्चिम बंगाल भाजपा के दफ्तर में सोशल मीडिया के कमरे में पीछे फ्लैक्स बोर्ड पर लगा मिशन 148 हालांकि विधानसभा के लिए तय किया टारगेट है. जो अभी तो शायद दूर की कौड़ी लगे, लेकिन सियासत में कुछ भी अचंभा नहीं होता. आखिर, 2011 के विधानसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में भाजपा को महज 4.5 फीसदी वोट मिले थे. लेकिन लोकसभा में दो सीटों के साथ यह वोट शेयर बढ़कर 16 फीसदी हो गया था. 2016 के विधानसभा में, फिर पिछले विधानसभा की तुलना में वोट शेयर बढ़ा था, लेकिन लोकसभा से थोड़ा कम था. यह आंकड़ों में बढोत्तरी और वाम दलों की सुस्ती भाजपा को चुस्ती से घेरेबंदी करने के लिए उत्साहित कर रही है.

बंगाल में भाजपा के पास ले-देकर ढाई चेहरे थे. रूपा गांगुली, दिलीप घोष और राहुल सिन्हा. बाबुल सुप्रियो जरूर आसनसोल से चुनाव जीते हैं लेकिन उनका जनाधार अपने लोकसभा क्षेत्र में भी कुछ खास नहीं है. अब मुकुल रॉय जैसे पुराने नेता को पाले में लाकर भाजपा के लिए राह आसान हुई न हो, लेकिन लड़ने के लिए अब उसके पास एक चेहरा जरूर है.

अब, बंगाल ही क्यों, देश भर में तीन तलाक जैसे मुद्दों पर उदारवादी मुस्लिमों का समर्थन पाकर भाजपा उत्साहित है. लेकिन लोकसभा चुनाव के मद्देनजर देश के पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी इलाकों में छवियां बदलने के खेल की शुरुआत हो चुकी है.

इसके साथ ही शुरुआत हो चुकी है ध्रुवीकरण की भी. इसको आप चाहें तो भूमिकाएं बदलना कह लें, लेकिन उससे अधिक यह बस दूसरे के सुविधा के क्षेत्र में सेंधमारी ही है.

यह समीकरण अगर दस फीसदी भी कारगर होते हैं तो 2019 से पहले, इसी साल के चार बड़े राज्यों और चार छोटे सूबों के चुनावी दंगल के दांव बड़े हो जाएंगे.

(मंजीत ठाकुर इंडिया टुडे के विशेष संवाददाता हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें