scorecardresearch
 

स्मृतिशेषः आखिरी पल में भी हंसाते रहे ऋषि

'मेरा नाम जोकर' का युवा राजू (ऋषि कपूर) जीवन के आखिरी पल में भी अपने आस पास के लोगों को हंसाता रहा. जिंदादिल जिंदगी जीने का मंत्र देने वाले 'मुल्क' के इस ऋषि को हंसते हुए विदा करने की बात उनके परिवार के लोगों ने भी की. यह सच है कि ऋषि के शरीर के अंदर वो राजू आखिरी समय तक था और उसी राजू ने उनसे कहलवाया कि जिंदगी का शो अभी भी जारी है.

फोटोः इंडिया टुडे फोटोः इंडिया टुडे

'मेरा नाम जोकर' का युवा राजू (ऋषि कपूर) जीवन के आखिरी पल में भी अपने आस पास के लोगों को हंसाता रहा. जिंदादिल जिंदगी जीने का मंत्र देने वाले 'मुल्क' के इस ऋषि को हंसते हुए विदा करने की बात उनके परिवार के लोगों ने भी की. यह सच है कि ऋषि के शरीर के अंदर वो राजू आखिरी समय तक था और उसी राजू ने उनसे कहलवाया कि जिंदगी का शो अभी भी जारी है.

वो अक्सर मेरा नाम जोकर पर बात करते थे और मानते थे कि जिंदगी का असली ऐक्टर तो जोकर ही है. उन्होंने जोकर के रूप में अपने करियर की शुरुआत की और इस जोकर ने अपने शो (फिल्मों) में जिंदगी, परिवार और मुल्क को अपने अलग-अलग किरदारों से दिखाने की कोशिश की.

जिंदादिली कपूर खानदान की खासियत है. और कैंसर से जूझने वाले ऋषि ने भी इस खासियत को कम होने नहीं दिया.

जब वो इलाज कराके विदेश से लौटे थे तो उनका इंटरव्यू करने का मौका मिला था. बातचीत में एहसास नहीं होने दिया कि उनको कैंसर भी है. वो हमेशा सकारात्मक बातें करते रहे और खुद को स्ट्रांग दिखाया. उनको नकारात्मक बातें पसंद नहीं थी. मगर मुद्दों की बात करना उन्हें अच्छा लगता था. मुल्क में जो मुद्दे उठाए गए थे उसकी वो वकालत करते थे और ऐसी और फिल्में बनाने पर जोर दिया करते थे. उनका मानना था आज समाज को ऐसी फिल्मों की जरूरत है.

कई दशकों तक ऋषि अपनी रोमांटिक छवि में बंधे रहे. इसका उन्होंने भरपूर आनंद भी उठाया. लेकिन उऩकी ऐसी फिल्मों में भी सामाजिक मुद्दों को उठाया गया था. 'बॉबी' में अमीरी-गरीबी के मुद्दे को छुआ गया था तो 'प्रेम रोग' में विधवा विवाह का मुद्दा था. उन्होंने 'दूसरा आदमी' और 'एक चादर मैली सी' जैसी फिल्में भी की थी. लेकिन 'मुल्क' करने के बाद उनके अंदर के ऐक्टर की छटपटाहट बढ़ गई थी और वो ऐसी और फिल्में करना चाहते थे.

कैंसर के इलाज के दौरान जब वो लगभग एक साल तक फिल्मों में काम नहीं कर पाए तो उन्होंने इस ब्रेक के लिए अफसोस जताया था. क्योंकि, उन्होंने अपने लगभग पांच दशक के करियर में शूटिंग से ब्रेक नहीं लिया था. ऐक्टिंग में निरंतर गतिमान रहने वाले ऋषि को जोकर की तरह ही सबको हंसाने और खुश रखने में मजा जो आ रहा था.

वो कहते थे कि जिंदगी के हर नए किरदार को जीने का आनंद तो मिलता है. लेकिन ये किरदार समाज के लोगों से कुछ कहता है और लोग उसे सुनते हैं तो उस किरदार को जीने का मकसद पूरा हो जाता है. 'मुल्क' का मुराद अली मोहम्मद उनमें से एक किरदार है. ऐसे ऋषि के जाने की बात भले ही हम कर लें. लेकिन वो हमारी स्मृतियों में हमेशा रहेंगे.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें