scorecardresearch
 

अब गालियों के खिलाफ खड़े होने का वक्त आ गया है- भाग 2

फिल्मों और वेब सीरीज में गालियों के धड़ल्ले से इस्तेमाल ने एक गंभीर समस्या खड़ी कर दी है. क्या समाज को अब गालियों, खासकर यौनिक गालियों के खिलाफ उठकर खड़ा नहीं होना चाहिए? ओमा दि अक् कहते हैं, गालियां प्रकारांतर से बलात्कार को बढ़ावा देने का काम करती हैं

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

बेबाक/ ओमा दि अक्

आज लगभग हर तीसरी-चौथी फिल्म  में गाली-गलौज या स्त्रियों के प्रति फूहड़ शब्दावली का प्रयोग बढ़ता जा रहा है. कभी शेखर कपूर (जो बाद में हॉलीवुड फेम हो गए) ने बैंडिट क्वीन जैसी फिल्म बनाकर 90 के दशक में हिंदी सिनेमा को "मां-बहन" की स्पष्ट गलियों की सौगात दी और लोगों से गाली और ताली दोनों पाई. लेकिन जल्द ही समय बदलने लगा पहले समानांतर फ़िल्मो में गाली आई. फिर सत्या जैसी मुख्यधारा की फिल्म में भी स्त्री यौनसूचक अपशब्द आए और सराहे गए. फिर इस दिशा में सबसे बड़ा योगदान अनुराग कश्यप का माना जाएगा जिन्होंने यथार्थ के नाम पर भरपूर हिंसा, यौनिकता और अपशब्द परोसकर हिंदी सिनेमा का चेहरा इतना बदल दिया कि अब यही "ट्रेंड" है. "सेंसर बोर्ड" केवल "धूम्रपान और जानवर" देखने में व्यस्त रहता है (कभी कभी धर्म और देशभक्ति भी) 

"गैंग्स ऑफ़ वासेपुर" से शुरू हुआ ये सफर आज "मिर्जापुर" और "गन्दी बात" जैसी घोर हिंसक और "मां-बहन-बेटी की गालियों" से भरी अश्लीलता का पर्याय बन गईं हैं.

पूर्वांचल के कुत्सित-चेहरों को पूर्वांचल का चरित्र बनाकर बेचनेवाले लोग भी दुर्भाग्य से उसी पूर्वी उत्तर प्रदेश से हैं और वहां की भोजपुरिया मिठास के विरुद्ध भी हैं.

भोजपुरी का नाम आते ही "अश्लीलता और अपशब्द" आज सबसे पहले मन पर उतरता है. कभी भिखारी ठाकुर के गहरे-संवेदनशील गीतों, शैलेंद्र, अनजान जैसे गीतकारों की जादूगरी भोजपुरी फिल्मों के संगीत को मुख्यधारा के हिंदी-सिनेमाई-संगीत के समकक्ष खड़ा रखते थे. भरत शर्मा और शारदा सिन्हा के गले और शब्दों के रस पीढ़ियों को दुलराते थे. वही भोजपुरी आज "हमके हउ चाहीं" या "निरहुआ सटल रहे" से होता हुआ स्त्री-अपमान की सारी सीमाएं लांघ चुका है और अपशब्दों में पंजाबी-रैप और हरियाणवी पॉप से टक्कर ले रहा है. हनी सिंह, बादशाह जैसे नाम आज करोड़ो का व्यापार करने वाले वो "ब्रांड्स" हैं जिन्हें सफलता ही "नारी अपमान" की कीमत पर मिली है (और आज भी हिंग्लिश संस्कृति से मिल रही)

कुल मिला कर आज हिंदी गीत-संगीत (और अन्य भारतीय भाषाओं में भी) की मुख्यधारा में "नारी-अपमान-सूचक-शब्दों की भरमार मिलती है. और तो और, हास्य के नाम पर स्टैंडअप कॉमेडी में गन्दी गालियों और मां-बहन करते नवयुवकों की भीड़ है. 

आज हत्या, बलात्कार, शोषण, दुर्घटना वगैरह को लेकर हम उतने ही सहज हो गए हैं जितने एक सदी पहले तक "हैजे की महामारी" या अकाल को ले कर थे. उसके एक सदी पहले तक हम राजाओं और उनके अत्याचार को ले कर इतनी ही स्वीकृति रखते थे. 

नतीजतन, रोज हज़ारों स्त्रियों को नर्क भोगना पड़ रहा है. हर दूसरी-तीसरी सुबह किसी लालच का शिकार हुई नन्हीं ट्विंकल के टुकड़े मिलते हैं. किसी मासूम आरिफ़ा की नफ़रत में नोची हुई लाश मिलती है, किसी दामिनी का दामन हवस के कफ़न में बदलता दिखता है तो किसी निर्भया की दारुण-चीत्कार मां की सुरक्षित कोख में सोई बच्चियों तक को भयभीत कर देती है.

क्या उन बलात्कारों में हमारी भूमिका क्षम्य है? क्या हम सब अपने और अपने समाज के भीतर बलात्कार करने की भूमिका नहीं रच रहे? हम सब इन्ही अपशब्दों के व्यवहार और व्यापार से निर्भया के किशोर-हत्यारे को उकसाते हैं कि वो उसके यौनांगों को केवल भोगे नही बल्कि नष्ट भी कर दे.

अकेले में अंधेरे में मिली लड़की तो आइटम है. उपभोग की वस्तु. हिंग्लिश में "चीक्स" या "पिकअप". हिंदी-उर्दू में जो शब्द हैं उन्हें मैं लिख भी नही सकता.

बरसों से यह बात मैं लोगों को कहता आ रहा हूँ कि माँ-बहन-बेटी की गाली देना और बलात्कार करने में केवल "तीव्रता" का अंतर है. केवल "अवस्था" में भिन्नता है. स्वरूप एक ही है. दोनों में ही हम "स्त्री को गिराकर कुचल रहे होते हैं". भले ही हम इसे कितना भी यांत्रिक करें हमारे चित्त में "स्त्री-हिंसा" का स्थान बनता चला जाता है. उपयुक्त-अवसर मिलने पर किस दैत्य सा हमारे नैतिक-आवरण को फाड़ कर बाहर आ जाता है. 

प्रेमिका को "बिच" या "होर" कहना अमेरिकी-संस्कृति से कब भारतीय शयनकक्ष में घुस गया इसकी पड़ताल भी "नैतिक-सिपाहियों" को करनी चाहिए जो प्रायः गुलाब और प्रेमपत्रों पर छापा मारकर गर्वित होते रहते हैं. याद रखिये "संस्कृति जो जन्मने में सदियां किन्तु भ्रष्ट होने में दशक भर लगते हैं".हम आज बुरी तरह भ्रष्ट हो चुके हैं. "कामसूत्र" रचने वाले देश मे "सेक्स" कभी "टैबू" नहीं था, न इतना मंहगा ही था. किन्तु इस देश मे "सेक्स" जंगली भी नही था वो बहुत "सॉफिस्टिकेटेड-परफॉर्मेंस" थी. बहुत "एस्थेटिक्स" था इसमें. तभी तो खजुराहो और कोणार्क का वैभव पूरे पश्चिम का आश्चर्य बना. लेकिन आज वही "उन्मुक्तता" असामाजिक हो गई है. पश्चिमी यौन-आक्रांतता सहज-स्वीकार्य! 

याद कीजिये निर्भया ने कहा था कि उसे गाली दे दे कर लुटा गया था. विश्वास कीजिए सौ में से नब्बे बार यही होता है. बलात्कारी केवल दैहिक हिंसा नहीं कर रहा होता अपितु स्वयं को उत्साहित करने के लिए (क्योंकि दुष्कर्म में हमारी चेतना सहयोग नही करती) गन्दी से गन्दी गालियों का (जो उसने इस समाज और परिवार से सीखी) उसका सहारा लेते हुए बलात्कार करता है. 

जब "बल ही विधान" था उस समय एक कबीला दूसरे कबीले पर चढ़ाई करने के बाद वहाँ की स्त्रियों-बालिकाओं (बहन-बेटियों) को अपनी वासना और क्रोध का शिकार बनाते थे. और उसे प्रोत्साहित करने के लिए ऐसे भद्दे और उतेजक नारे लगाए जाते थे जो चित्त की पुकार को दबा सके. और सामान्य पुरुष को भी स्त्री-यौनांगों  के प्रति "उत्सुक" और बर्बर कर दे. आज वो "कबीलाई संस्कृति" ख़त्म हो गई पर "कबीलाई-मानसिकता" जस की तस है.

वस्तुतः "गाली" मौखिक-बलात्कार (वोकल रेप) ही है. अतः केवल यह मानकर कि "गाली" तो "मुहावरों" की शक्ल ले चुकी है या एक संस्कृति (कुसंस्कृति) है और इसका कोई बड़ा प्रभाव नही पड़ता, इसकी उपेक्षा कर देना बहुत महंगा पड़ रहा है. 

इस प्रसंग पर मुझे "महाभारत" की एक घटना का स्मरण प्रायः होता है जब भगवान् श्रीकृष्ण ने शिशुपाल नामक दम्भी राजा का शीश अपने चक्र से उस समय काट दिया जब उसके मुख से कृष्ण के लिए "सौवां-अपशब्द" उच्चरित हुआ! भगवान् ने मौखिक हिंसा का प्रत्युत्तर "मृत्युदंड" देकर इतिहास को सूचित किया कि अपशब्दों को सहने की एक सीमा निर्धारित होनी चाहिए समाज में. गाली को भी हिंसा का एक विकृत रूप मानकर इसका निरोध या प्रतिरोध करना आवश्यक होता है.

"भारत अगेंस्ट अब्यूज" नामक अभियान की शुरुआत के साथ आज वो समय आ चुका है जब हम सब को मिल कर इस कुरीति के विरुद्ध एकजुट हो जाना चाहिए. 

(ओमा दी अक् वाराणसी में निवास करते हैं, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सामाजिक समरसता और ज्योतिष के लिए यशभारती पुरस्कृत, और अपने आध्यात्मिक सामाजिक लेखन और वक्तव्यों के लिए विख्यात हैं. यहां व्यक्त विचार उनके अपने हैं और इंडिया टुडे की उनसे सहमति आवश्यक नहीं है)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें