scorecardresearch
 

लॉकडाउन डायरीः कोरोना संकट छूटे और हासिल का हिसाब-किताब

कोविड-19 महामारी ने सभी को व्यक्तिगत या वैश्विक स्तर पर कुछ हद तक अपनी गिरफ्त में ले लिया है - लोगों ने अपनी नौकरी खो दी, कई शादियां स्थगित कर दी गईं, यात्राएँ रुक गईं, मेल-मुलाकात बंद हो गई, घर-परिवार के दौरे छूट गए, बचपन घर की चहारदीवारी में कैद है. तो क्या हर तरफ शून्य है...केवल शून्य ! नहीं .

फोटोः इंडिया टुडे फोटोः इंडिया टुडे

अर्चना पैन्यूली/ लॉकडाउन डायरीः पैंतीस

'मैं ईश्वर से उन्हें नई नौकरी मिल जाने के लिए प्रार्थना कर रही हूं, क्योंकि अगर उनके पास नौकरी है तो मेरे पास नौकरी है,’ यह एक नेपाली नैनी का कथन है, जो ट्रिपएडवाइज़र कंपनी में काम करने वाली एक पेशेवर महिला के शिशु की देखभाल कर रही है. कंपनी ने लॉकडाउन के दौरान व्यावहारिक रूप से कोई रेवेन्यू नहीं बनाने की वजह से एक बड़े पैमाने पर अपने कर्मचारियों की छंटनी की, जिसके तहत वह पेशेवर महिला भी अपनी नौकरी गंवा चुकी. वह बेरोजगार तो उसके बच्चे की नैनी भी बेरोजगार, यह एक श्रृंखला हैः नियोक्ता और कर्मचारी दोनों वर्तमान तालाबंदी के शिकार हैं. दुनिया भर में कई लोग अपनी नौकरी खो चुके हैं या नौकरी खोने की कगार पर हैं. जितना हम देख-सुन रहे हैं, स्थिति उससे अधिक गम्भीर है.

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मार्च माह से, कुछ आगे-पीछे दुनिया के लगभग सभी देशों में तालाबंदी लागू कर दी गई थी. स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, कार्यालय, यातायात, फिटनेस केंद्र और कई अन्य संगठन अस्थायी रूप से बंद हो गए और दुनिया में एक ठहराव आ गया, कहीं-कहीं एक सन्नाटा व्याप्त हो गया. सोशल डिस्टेंसिंग के सख्त दिशा-निर्देश सरकार के विभिन्न समाचार माध्यमों से से प्रसारित होने लगे.

हम विविध कोणों से कोरोना वायरस प्रकोप का अन्वेषण कर सकते हैं. इसने मानव जाति को आर्थिक, सामाजिक, मानसिक, शारीरिक और मनोवैज्ञानिक रूप से हिला दिया. जीवन का कोई पक्ष ऐसा नहीं है जो इससे प्रभावित न हुआ हो. स्वास्थ्य पर तो यह सीधा हमला है. मनुष्य स्वयं को कितना असहाय, डरा हुआ महसूस कर रहा है.

रोजाना मौत के बढ़ते आँकड़ों से साक्षात्कार करना उसको दिल और दिमाग से कमजोर कर रहा है. राजनीति बौनी हो गई है, समाज इकाई में बदलने को विवश है, रोजगार औंधे मुँह गिरा है, व्यापार प्राणवायु के लिए छटपटा रहा है, शिक्षा के साथ जोर आजमाइश हो रही है, खान-पान में संदेह- आशंका का प्रवेश हो गया है, साहित्य अपनी गठरी लिए किंकर्तव्यविमूढ़ खड़ा है, क्रीडा जगत में सन्नाटा पसरा है.

कोविड-19 महामारी ने सभी को व्यक्तिगत या वैश्विक स्तर पर कुछ हद तक अपनी गिरफ्त में ले लिया है - लोगों ने अपनी नौकरी खो दी, कई शादियां स्थगित कर दी गईं, यात्राएँ रुक गईं, मेल-मुलाकात बंद हो गई, घर-परिवार के दौरे छूट गए, बचपन घर की चहारदीवारी में कैद है. तो क्या हर तरफ शून्य है...केवल शून्य ! नहीं .

हमें समस्या का हल ढूँढ़ना था. परफेक्शन होना जरूरी नहीं था, अपेक्षा की भी नहीं जा सकती, लेकिन बुरे को अति बुरे में बदलने से रोकना था. ऐसे में संस्थान और संगठन ऑनलाइन हो गए. कोविड -19 के प्रभाव से शिक्षा जगत जम कर जूझा. घर बैठे बच्चों को एक दूरी से सार्थक शिक्षा प्रदान करना, उन्हें सकारात्मक तौर पर संलग्न रखना एक चुनौती थी. छोटे-बड़े पैमाने पर सभी स्कूलों ने अपने छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन शुरू किया, इन कक्षाओं के प्रति छात्रों की रुचि भी तेजी से बढ़ी, जिसके परिणामस्वरूप इन ऑनलाइन कक्षाओं में छात्राओं की उपस्थिति 80- 100% रही. शिक्षा छात्रों को उनके पाठ्यक्रम के अनुसार आसानी से ऑनलाइन प्रेषित की जाने लगी.

इस प्रकार की तकनीक और सीख कोई नई बात नहीं है. बिना कागज के सूचनाएँ इलैक्ट्रोनिक रूप से प्रदान करना कभी से चलन में है, लेकिन यह हम में से कई लोगों के लिए एक नई सीख है और इससे हमें अपने पारम्परिक तरीकों को जल्दी से बदलने की दिशा भी मिली है.

शिक्षकों के लिए ऐसी नीतियों, तकनीकों और उपकरणों की कोई कमी नहीं है जिनको वे अपनी डिस्टेंस या वर्चुअल टीचिंग के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. डिजिटल टूल, ऐप और प्लेटफ़ॉर्म की एक व्यापक सूची है, जो शिक्षकों और छात्रों को सीखने-सिखाने और मूल्यांकन करने में मदद मिलती है.

इस कठिन दौर में उन छात्रों को पूरा लाभ मिल रहा है जो ऐसे संस्थानों में पढ़ रहे हैं जहाँ सूचना प्रौद्योगिकी के बुनियादी ढाँचे को पहले से ही बहुत आगे बढ़ाया गया है. इस वर्तमान चुनौती में छात्रों के लिए ऑनलाइन शिक्षा एक वरदान साबित हो रही है. सैकड़ों प्रभावशाली डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म हैं, लेकिन सबसे चर्चां में माइक्रोसॉफ्ट टीम्स, गो-टू-मीटिंग, गूगल मीट, जूम, गो-टू-वेबीनार हैं.

सौभाग्य से कई स्कूल पहले से ही डिजिटलीकृत अध्ययन सामग्री, डिजिटल प्लेटफॉर्म, पावरपॉइंट, सॉफ्टवेयर्स का उपयोग करने में काफी आगे हैं. उन्होंने तालाबंदी शुरू होते ही छात्रों के लिए डिजिटल लर्निंग प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन लाइव कक्षाएँ शुरू कर दी थी. मगर लॉकडाउन के बाद से डिजिटल सामग्री का उपयोग बढ़ा है. सूचना प्रौद्योगिकी को महत्व देने और छात्रों को डिजिटल युग के लिए तैयार करने की दूरगामी समझ और अंतर्दृष्टि इस महत्वपूर्ण समय में काम आई. स्कूल छात्रों को शिक्षा प्रदान करने और उनके असाइनमेंट को ऑनलाइन जाँचने और उनका आकलन करने के लिए डिजिटल प्लेटफार्म और प्री-रिकॉर्डेड व्याख्यानों पर काम कर रहे हैं. पाठ्यक्रम विकसित करने के लिए संकाय और कर्मचारी ऑनलाइन बैठकें कर रहे हैं. केवल शिक्षण ही ऑनलाइन नहीं किया जा रहा है, छात्रों की काउंसलिंग भी ऑनलाइन हो रही है.

इसी शृंखला में एक कदम यह है कि नए छात्रों के साक्षात्कार और पंजीकरण भी ऑनलाइन किए जा रहे हैं.

यह डिजिटलीकरण सिर्फ शिक्षा जगत तक सीमित नहीं है. नौकरी के लिए ऑनलाइन इंटरव्यूह, ऑनलाइन एक्सरसाइज-व्यायाम, ऑनलाइन योग-मैडिटेशन, ऑनलाइन कवितापाठ आदि आयोजित किए जा रहे हैं. परिचर्चाओं, साहित्यिक गोष्ठियों और गतिविधियों के लिए वेबीनार आयोजित किए जा रहे हैं. हम चाहे इसे डिस्टेंस कहें या फिर वर्चुअल, खूब ऑनलाइन सत्रों का उपयोग हो रहा है, जिन्होंने दुनिया का संकुचित कर दिया और हम इकाई में रहते हुए भी सामाजिक बने हुए हैं.

निःसंदेह कोविड-19 लॉकडाउन ने हमें कुछ समय के लिए अस्थायी अलगाव की अवधि में डाल दिया, लेकिन कई लोगों ने अपने विचारों को पंख दिए और अपनी कल्पनाओं को उड़ान भरने दिया. कुछों के लिए अगर यह एक अवसाद भरी स्थिति है तो कुछों के लिए एक अवसर.

यह क्या कम है कि किसी न किसी स्तर पर स्कूल की पढ़ाई जारी है. कई अध्यापकों का अनुभव है कि ऑनलाइन टीचिंग से उनका अपने छात्रों से व्यक्तिगत सम्पर्क बड़ा है. क्लासरूम में वे सभी को सामूहिक तौर पर पढाते हैं, किन्तु डिस्टेंस टीचिंग में छात्र उन्हें फोन करते हैं, ईमेल भेजते हैं, डिजिटल प्लेफोर्म पर सम्पर्क करते हैं, इससे शिक्षकों और छात्रों के बीच अधिक संबंध बना है. बच्चों की छिपी काबिलियत बाहर आ रही हैं. लॉकडाउन के दौरान कुछ छात्रों की प्रतिभा को नए आयाम मिले हैं. वे कोरोना वायरस के बारे में खोज कर रहे हैं, वेबसाईट बना रहे हैं, जैविक हथियारों पर साइंस फिक्शन लिख रहें हैं, जागरूकता पैदा कर रहे हैं. वहीं कुछ छात्र अवसाद से घिर रहें हैं, ऑनलाइन शिक्षा के अनुरूप नहीं ढल पा रहें हैं, अपने स्कूल और संगी-साथियों को मिस कर रहें हैं, और मूढ़ हो रहे हैं.

वयस्क, उम्रदार लोग भी अपने अन्य कौशल - कुकिंग, बागवानी, पेंटिंग, बुनाई-कढ़ाई, लिखाई आदि विकसित कर रहे हैं, जो वे अपने व्यस्त कार्यक्रम में नहीं कर पाते थे. कई लोग अपने शौक विकसित कर रहें है. रोज की भागमभाग जिन्दगी में मन के कोनों में जो चाह दबी रह गयी थी वे बाहर निकल रही है. लोगों की रचनात्मकता और सर्जनशीलता बढ़ रही हैं. महामंदी में पैसा इन्वेस्ट कर रहे हैं.

लॉकडाउन जैसी असामान्य परिस्थिति में हो रही क्षति अपूरणीय है लेकिन यह कहना भी सच नहीं होगा कि यह अवसरशून्य है. 19वीं सदी के अंग्रेजी के महान कवि रॉर्बट ब्राउनिंग की ये पंक्तियाँ हमको प्रेरणा देती है – The worst turns the best to the brave .

बहुत कुछ सीखने और समझने को मिल रहा है. कोरोना संकट में जो सबसे बड़ी उपलब्धि हुई - वह डिजिटल सशक्तीकरण की. लोग एक दूसरे से डिजिटली जुड़ रहें हैं. यह पता चला कि एक दूरी से काम करना, औपचारिक मूल्यांकन करना चुनौतीपूर्ण है लेकिन संभव है. हम जिन डिजीटल तरीकों का इस्तेमाल करने लगे हैं, वे हमारे पारम्परिक तरीकों से बहुत भिन्न हैं, अलग अहसास लिए हुए हैं. यहाँ बहुत संभावनाएँ, बहुत कुछ विचार करने योग्य हैं.

अब निश्चित ही दिन-प्रतिदिन की सामान्य टीचिंग में डीजीटल लर्निंग का प्रयोग बढ़ेगा. डिजिटल प्लेटफोर्म पर लर्निंग की नई विधियों का प्रशंसनीय विकास हुआ. कई कार्य घर बैठे हो सकते हैं. कई विभाग डिजिटली अपने नागरिकों से जुड़ सकते हैं. कोरोना संकट से उपजे अवसाद का हल खोजने और मानसिक संतुलन बनाये रखने के लिए कई साहित्यिक गतिविधियाँ सक्रिय हो रही हैं, जो बहुत महत्व रखती हैं. डिजिटल वेबीनार लोगों को परिचर्चा के लिए प्लेटफोर्म दे रहें हैं. कई प्रकाशन इस पर विशेषांक निकाल रहें हैं, ऑनलाइन प्रतियोगिता का आयोजन कर रहे हैं. इस संबंध में भारत की वनिता पत्रिका का उल्लेख करना समीचीन होगा. वनिता पत्रिका ने कहानी और कविता प्रतियोगिता आरम्भ कर कई महिलाओं की रचनात्मकता जाग्रत ही नहीं की उन्हें व्यस्त भी कर दिया. यूरोपीयन संघ ने कोरोना प्रकोप पर विविध शोध कार्यों के लिए अनुदान देना शुरू कर दिया है.

पर्यावरण को विस्मयकारी स्वास्थ्य लाभ हुआ है. पीढ़ियाँ गुजर गईं इतना सुंदर- साफ नीला आसमान देखे, पारदर्शी हवा छुए. नदियाँ जैसे नहा गईं हों, हिमाच्छादित पर्वत जैसे निकट आ गए हो, क्या इनको हम इतनी दूर से भी दिख सकते थे ! चौक- बाजार अभयारण्य बन गए, वनचर टहल रहे हैं – निशंक. ये उपलब्धि है या प्रकृति ने अपना दावा ठोका है – अब हम जो भी समझे .

मनष्य मूलतः एक सृजनशील प्राणी हैं. उसकी संभावनाऔं को कम नहीं आँका जा सकता. उसने चाँद-सितारों से दोस्ती की है, अगम – अतल समुद्र में जाकर मोती चुगे हैं. इस भीषण-व्यापक ज्वाला में भी वह तप कर निखरेगा और निकल कर आएगा – पुनर्नवा !

बहरहाल, लॉकडाउन में धीरे-धीरे सभी देश ढील दे रहें हैं, उपायों के दूसरे चरण में प्रवेश कर रहें है. कोरोनावायरस और तालाबंदी के दूरगामी परिणाम क्या होंगे, इस महामारी से उबरने में कितना समय लगेगा, कोरोना वायरस के बाद विश्व परिदृश्य क्या होगा. क्या यह पहले की तरह सामान्य हो जाएगा? विश्व साहित्य इसको किस प्रकार से लेगा ? विभिन्न देशों के आपसी सम्बन्ध कैसे होंगे? इन सबका अभी सिर्फ अनुमान ही लगाया जा रहा है. एक कौतूहल भी है कि जिस प्रकार हम ईस्वी (AD) और ईसा पूर्व (BC) – वाक्यांशों का उपयोग करते हैं, उसी तरह क्या 'कोरोना पूर्व', और ' कोरोनोपरांत' वाक्यांशों को भी गढ़ा जाएगा?

(साहित्यकार अर्चना पैन्यूली कोपनहेगन, डेनमार्क में रहती हैं और वहां से उन्होंने हमें यह लॉकडाउन डायरी भेजी है. यहां व्यक्त विचार उनके अपने हैं और उससे इंडिया टुडे की सहमति आवश्यक नहीं है)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें