scorecardresearch
 

नन्हे-मुन्‍नों के फैशन में है आज का बड़ा मार्केट

बढ़ती पारिवारिक आय, साथ वालों का दबाव, रिटेल के ग्लोबल फॉर्मेट और ब्रांड के प्रति बढ़ती जागरूकता के चलते तेजी से बढ़ रहा है किड्स वियर का बाजार. किड्स वियर का सालाना कारोबार लगभग 38,000 करोड़ रु. का है. नए ब्रांडस की बहार है बच्चों के कपड़े बेचना अब बच्चों का खेल नहीं.

बच्चों का कपड़ा उद्योग बच्चों का कपड़ा उद्योग

इटिंग ज्‍वायंट की सबवे फ्रेंचाइजी चलाने वाली दिल्ली की व्यवसायी कशिश सनन गुप्ता इस साल जनवरी में बड़े ही जोर-शोर से अपनी पांच साल की बेटी कारिसा के लिए एक बढ़िया-सी बर्थडे ड्रेस की खोज में जुटी थीं.

लेकिन उन्हें चिल्ड्रन वियर के मशहूर ब्रांड रखने वाले आउटलेट्स पर भी वैसी ड्रेस नहीं मिली जैसी कि वे चाहती थीं. कशिश कहती हैं, ''स्थानीय ब्रांड में जो ड्रेसेस थीं वे बहुत ज्यादा भड़कीली थीं.''

आखिरकार उन्हें अपनी पसंद की डे्रस मिली दक्षिण दिल्ली के वसंत कुंज के आलीशान डीएलएफ प्रोमेनाड मॉल में. किडोलॉजी नाम के स्टोर में उस वक्त सेल चल रही थी. वहां से कशिश ने बेटी के लिए गौरी और नैनिका की डिजाइन की हुई सी-ग्रीन कलर की ड्रेस 5,000 रु. में खरीदी.

व्यावसायिक साझेदार और दोस्त करीना राजपाल, अंकुर मित्तल, नेहा सचर मित्तल और माया नोकोन ने मिलकर किडोलॉजी स्टोर शुरू किया था. इस तरह का स्टोर शुरू करने का विचार कैसे आया, इसके बारे में अंकुर, जो कि पहले इनवेस्टमेंट बैंकर थे, बताते हैं, ''बच्चों के लिए डिजाइनर कपड़े और आपकी जेब पर भारी नहीं पड़ने वाले लक्जरी कपड़ों की कटेगरी अब तक भारत में नहीं हुआ करती थीं.''

इस स्टोर में दस साल तक के बच्चों के लिए मालिनी रमानी और रितु कुमार जैसे दिग्गज डिजाइनरों के डिजाइन किए हुए इंडियन और वेस्टर्न ड्रेसेस मिलते हैं. बच्चों के लिए 12,000 रु. के कपड़े! सुनने में कुछ ज्यादा ही लगता है लेकिन किडोलॉजी के चारों साझीदारों की मानें तो इतने महंगे किड्स वियर के खरीदार भी कम नहीं हैं. कुल मिलाकर किड्स वियर का बाजार तैयार था अब इस मैदान में नए खिलाड़ी आ गए हैं.

किड्स वियर के क्षेत्र में कई खिलाड़ी उतर आए हैं बल्कि पिछले कुछ साल में बच्चों के लक्जरी कैटेगरी के कपड़े भी मिलने लगे हैं. बिग बाजार के किड्स वियर सामान्य ग्राहकों के लिए हैं जबकि जिनी ऐंड जॉनी और लिलीपुट थोड़ी महंगी कटेगरी में हैं.

लिलीपुट किड्स वियर भारतीय ब्रांड है जो 2003 में शुरू हुआ था. इस क्षेत्र में जल्द शुरुआत का इसे खासा फायदा भी मिला और आज देशभर में इस ब्रांड के 261 एक्सक्लूसिव आउटलेट हैं जबकि 541 दुकानें इस ब्रांड के कपड़े रखती हैं.

हालांकि फिलहाल यह कंपनी प्राइवेट इक्विटी इन्वेस्टर-बेन कैपिटल और टीपीजी ग्रोथ-के साथ अदालती लड़ाई लड़ रही है, जिन्होंने लिलिपुट के संस्थापक संजीव नरूला पर खातों में हेराफेरी का आरोप लगाया है.

लक्जरी सेगमेंट में किडोलॉजी को लेस पेटीट्स (छोटे बच्चों के लिए इस्तेमाल में आने वाला फ्रेंच शब्द) से टक्कर मिल रही है. यह बच्चों के लिए देश का पहला मल्टीब्रांड लक्जरी स्टोर है. लेस पेटीट्स में बेबी डायोर, फेंडी किड्स और मिस ब्लूमेराइन जैसे ब्रांड के किड्स वियर मौजूद हैं, यहां कपड़ों की शुरुआती रेंज 4,000 रु. है.

लेस पेटीट्स स्टोर की मालकिन हैं स्वाति सर्राफ और उनके व्यवसायी पति सिद्घार्थ सर्राफ-जो कि फेरो एलॉयज कॉर्पोरव्शन के मालिक भी हैं. सर्राफ ने दिल्ली के डीएलएफ एंपोरियो लक्जरी मॉल में अपना स्टोर पिछले महीने-नवंबर-में ही खोला है.

स्वाति कहती हैं, ''लोग बच्चों को अपनी पर्सनाल्टी से जोड़कर देखते हैं और वे उन्हें अपनी ही तरह से ड्रेस अप करना चाहते हैं. हमने महसूस किया था कि भारत में बच्चों के लिए लक्जरी कपड़े मौजूद नहीं हैं.'' इस तरह उन्हें इस तरह के स्टोर का विचार आया.

कीमत के लिहाज से किड्स वियर अब कई कैटेगरी में मिलने लगे हैं. 2,500 रु. और इससे ऊपर की कैटेगरी कहलाती है लक्जरी, 1,000-2,500 रु. के किड्स वियर प्रीमियम कैटेगरी में और 500-1,000 रु. के ब्रांड मीडियम कैटेगरी में आते हैं.

किड्स वियर में पिछले सालभर में गुच्ची, टॉमी हिलफिगर और चीको सहित कई ग्लोबल ब्रांड भी देश में कदम रख चुके हैं. बच्चों के लिए महंगे कपड़े, प्राम, ट्रेवल वियर (यात्रा के दौरान बच्चों को पहनाए जाने वाले कपड़े) बनाने वाली चीको इंडिया आर्ट्‌सना (1.4 अरब यूरो की इतावली कंपनी जो हैल्थ और वैलनेस प्रॉडक्ट बनाती है) के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है.

कंसल्टेंसी फर्म टैक्नोपैक में एपेरल ऑपरेशन्स के वाइस प्रेसिडेंट अमित गंगनानी कहते हैं, ''इस मार्केट की ग्रोथ के पीछे है ऐसे परिवारों की बढ़ती संख्या जिनमें पति-पत्नी दोनों कमाऊ हैं, रिटेल का ग्लोबल फॉर्मेट और इंटरनेशनल ब्रांड्स के प्रति जागरूकता.''

एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री के एक अनुमान के मुताबिक किड्स वियर इंडस्ट्री 38,000 करोड़ रु. की है और 20 फीसदी की औसत वार्षिक दर के साथ बढ़ रही है. इस तरह, इस इंडस्ट्री के 2015 तक 80,000 करोड़ रु. की हो जाने की संभावना है.

पिछले एक साल में किडोलॉजी के मौजूदा स्टोर्स की सेल 40 फीसदी से भी ज्यादा बढ़ी है. किडोलॉजी के मुंबई और दिल्ली में तो स्टोर हैं ही, इनके अलावा यह मुंबई और हैदराबाद में अन्य रिटेल आउटलेट्स के जरिए भी बिक्री करती है. किडोलॉजी चंडीगढ़, लुधियाना और अन्य जगहों पर भी नए स्टोर खोलने की सोच रही है और इसके लिए निजी इक्विटी फंड्स के साथ बातचीत भी जारी है.

जिनी ऐंड जॉनी के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर अनिल लखानी कहते हैं, ''कंपिटीशन तो बेशक बढ़ा ही है, उपभोक्ता ब्रांड के प्रति जागरूक हो रहे हैं.'' 31 साल पुराने ब्रांड जिनी ऐंड जॉनी के अन्य आउटलेट्स के सौथ 230 एक्सक्लूसिव स्टोर भी हैं और यह ब्रांड 33 फीसदी की औसत वार्षिक दर के साथ तेजी से बढ़ रहा है.

भारतीय बच्चों के पास कपड़ों के इतने सारे विकल्प पहले कभी मौजूद नहीं रहे और किड्स वियर बेचने वालों के लिए ऐसा शानदार दौर भी पहले कभी नहीं रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें