scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

छत्तीसगढ़: अमन से है रमन को चैन

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के विश्वस्त सचिव अमन कुमार सिंह राज्य प्रशासन की अहम धुरी बने.

X
अमन कुमार सिंह अमन कुमार सिंह

उन्हें आईजी (इंटेलीजेंस) का एसएमएस मिला, ''नक्सलियों ने सुकमा जिला कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन  का अपहरण कर लिया.'' तब वे हेलिकॉप्टर में मुख्यमंत्री रमन सिंह और मुख्य सचिव के साथ मौजूद थे. इस छोटे संदेश ने मुख्यमंत्री के सचिव  अमन कुमार सिंह को बड़ी भूमिका के लिए तैयार कर दिया.

ऊंचाई पर बैठे अमन ने फौरन डीजीपी, प्रमुख गृह सचिव और आईजी (इंटेलिजेंस) को सीएम निवास पर आपात बैठक के लिए बुला लिया और रिहाई ऑपरेशन शुरू हो गया. रातोरात अमन ने राजनैतिक और रणनीतिक मोर्चेबंदी की सर्वदलीय बैठक का खाका बुना, मध्यस्थों का चयन किया और मुख्यमंत्री को कैबिनेट की उपसमिति गठित करने का सुझाव दिया. सख्त रुख दिखाना है या नरम रुख, मुख्यमंत्री की स्क्रिप्ट अमन के हाथ में तैयार मिलती है.

भारतीय राजस्व सेवा (आइआरएस) से  रमन की खातिर इस्तीफा देने वाले अमन सिंह ने रणनीतिक मोर्चे पर न सिर्फ अहम किरदार निभाया, बल्कि उपसमिति और मध्यस्थ की तैनाती कर मुख्यमंत्री को राजनीतिक मोर्चे पर सुरक्षित कर दिया. अगले दिन सर्वदलीय बैठक हुई, जिसमें अपील जारी करने का सुझाव आया तो ड्राफ्ट अमन के पास तैयार था. उन्हें रमन सरकार का नीति-नियंता यों ही नहीं माना जाता है.

इंडिया टुडे से बातचीत में रमन सिंह अपने इस अफसर के बारे में पूछे जाने पर कहते हैं, ''मेरी टीम में काफी लोग हैं और सबका काम अच्छा है. अमन सिंह भी अच्छा कर रहे हैं, उनमें असीम क्षमताएं हैं.''

अमन की अहमियत कितनी है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि  संसद की 60वीं सालगिरह के मौके पर दिल्ली पहुंचे मुख्यमंत्री रमन सिंह बंधक प्रकरण पर रिपोर्ट देने के लिए संघ के सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी से मिलने गए तो अमन उनके साथ थे. अमूमन संघ के वरिष्ठ नेताओं के साथ होने वाली मुलाकातों में कोई नौकरशाह शामिल नहीं होता. 

अमन सिंह फिलहाल मुख्यमंत्री के सचिव होने के साथ-साथ ऊर्जा, बायोटेक्नोलॉजी, आइटी विभाग के भी सचिव और छत्तीसगढ़ नवीकरणीय ऊर्जा विकास एजेंसी (क्रेडा) के सीईओ भी हैं. इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि के अमन की ई-गवर्नेंस और ऊर्जा के क्षेत्र में अच्छी पकड़ है. वक्त मिलता है तो वे विभिन्न आइआइएम में ये विषय पढ़ाने भी जाते हैं. वे पांच साल तक आइआइटी-कानपुर के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में रहे हैं और फिलहाल आइआइटी-इंदौर के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के सदस्य हैं.

क्रिकेट के शौकीन 43 वर्षीय अमन सिंह कहते हैं, ''जैसे क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए तकनीक जरूरी है, प्रशासन के संचालन में भी तकनीक उतनी ही महत्वपूर्ण है.'' वे राहुल द्रविड़ के प्रशंसक हैं. बल्कि क्रिकेट के बारे में उनकी जानकारी से खुद द्रविड़ भी आश्चर्यचकित रह गए थे, जब दोनों की मुलाकात रायपुर में हुई थी.

द्रविड़ ने उनसे कहा था, ''मेरी इच्छा है कि आपके जैसे सचिव हमारे कर्नाटक के मुख्यमंत्री के पास भी हों.'' रेलवे कॉरिडोर पर रेल मंत्रालय और राज्य सरकार के बीच एमओयू हो, राज्य की कोई योजना हो या फिर मुख्य सचिव-डीजीपी की नियुक्ति का मामला, हर जगह उनका बौद्धिक योगदान रहता है.

वे देश के एकमात्र ऐसे नौकरशाह हैं, जो पिछले नौ साल से लगातार मुख्यमंत्री के साथ जुड़े हैं. राज्य में उनकी तूती बोलती है. वे अब तक राज्य में पांच मुख्य सचिवों के साथ काम कर चुके हैं. हाल ही में एक प्रतिष्ठित अंग्रेजी मीडिया समूह ने उन्हें देश के प्रभावशाली नौकरशाहों की सूची में दूसरे स्थान पर रखा था.

गैर-आइएएस अधिकारी होने की वजह से वे विरोधी अधिकारियों को खटकते भी हैं, लेकिन सीएम के भरोसेमंद अमन इससे विचलित नहीं होते. उन्होंने अपने काम से आइएएस लॉबी में भी अपने प्रशंसकों की तादाद बढ़ा ली है. कोरबा में एक महिला आइएएस अधिकारी के साथ एक स्थानीय नेता ने गाली-गलौज की, लेकिन नेता की गृह मंत्री से नजदीकी की वजह से एसपी ने कार्रवाई नहीं की.

मामला जब अमन के पास पहुंचा तो उन्होंने एसपी को दो घंटे में कार्रवाई का फरमान सुनाया और डीजीपी को फोन कर कहा, ''कलेक्टर को सुरक्षा नहीं मिलेगी, तो आम जनता का क्या होगा.'' उनकी धमक का ही असर था कि नेता न सिर्फ गिरफ्तार हुआ, बल्कि जिला बदर भी कर दिया गया.

अमन अपने कपड़ों के टेक्सचर और रंग के साथ जूते और बेल्ट का खास ध्यान रखते हैं. वे कहते हैं, ''पहनावा ऐसा हो जो प्रभावी लगे.'' उन्हें दिल्ली के करीम और मौर्या के बुखारा के मांसाहारी भोजन बेहद पसंद हैं. वे खुद राज्य प्रशासन की धुरी हैं तो उनकी पत्नी यास्मीन सिंह कथक नृत्यांगना हैं जो रायगढ़ घराने का प्रतिनिधित्व करती हैं.

अमन के दुश्मन भी कम नहीं हैं. स्वभाव से मृदुभाषी अमन पल भर में सख्त भी हो जाते हैं. बहरहाल, अमन की सक्रियता और प्रशासनिक सूझबूझ की वजह से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह को चैन है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें