scorecardresearch
 

चुनाव आयोग से आंख बचाकर नरेंद्र मोदी के प्रचार में जुटे हैं बाबा रामदेव

चुनाव आयोग की चौकस निगरानी से आंख बचाकर योग गुरु बीजेपी के प्रधानमंत्री उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के चुनावी अभियान के लिए वोट तैयार करने में जुटे हैं.

सत्रह फरवरी की सुबह 10 बजे केरल के कालीकट में राज्य के जटिल जातीय समीकरणों को परे धकेल एक भीड़ चुपचाप सोम योग के एक सत्र में इंतजार कर रही है. पर जब मंच पर बाबा रामदेव आते हैं और माइक्रोफोन लेकर वहां मौजूद अहिंदीभाषी लोगों तक अपना संदेश साफ-साफ  पहुंचाने के लिए अंग्रेजी के तड़के के साथ शुद्ध हिंदी में ‘मोदी को चुनें’ की हुंकार भरते हैं, तो वह शिविर जोश से भरपूर जनसमुदाय की तालियों से गूंज उठता है.
वे भीड़ को बताते हैं कि कालीकट में वास्को डि गामा के कदम पड़़ते ही देश में लूट-खसोट शुरू हो गई थी. इस तरह नेहरू-गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए वे आगे बढ़ते हैं, “यह 1947 में ही बंद हो जाना चाहिए था, लेकिन आज तक जारी है.” एक ऐसे राज्य में जहां बीजेपी का कोई भी विधायक या सांसद कभी नहीं चुना गया, उनकी आवाज गरजती है, ‘नरेंद्र मोदी को दिल्ली में बिठाएं और देश की खोई हुई गरिमा को पुनर्जीवित करें.”
रामदेव का मोदी मिशनआध्यात्मिक प्रवचनों के साथ आक्रामक राजनैतिक बयानबाजी का ईंधन तैयार कर योग गुरु ने लंबी उड़ान भर ली है. वे चुनावी संग्राम को 2014 का धर्मयुद्ध बता रहे हैं और दावा करते हैं कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के उद्देश्य से चलाया गया उनका ‘घर-घर पहुंचे रामदेव’ अभियान देश भर में जोर पकड़ रहा है. इस सिलसिले में रामदेव मतदान के पहले सभी प्रमुख राज्यों के 100 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों का दौरा करेंगे. वे कहते हैं, “मैं रोजाना 500 से ज्यादा घरों में जाऊंगा. 600 जिलों में मौजूद मेरे कार्यकर्ता हर दिन 500 घरों में जाएंगे.”
मोदी की ही तरह रामदेव के भाषण भी आग उगलते हैं और भीड़ मंत्रमुग्ध सुनती है. वे मोदी को ‘महानायक’ राष्ट्र पुरुष, विकास पुरुष (और चाय वाला भी) बताते हैं और ठीक इसके उलट नेहरू-गांधी परिवार को श्लुटेरा खानदान्य कहते हैं.
वे अर्थपूर्ण अंदाज में कहते हैं, “इस देश का फकीर ही वजीर बनेगा और तकदीर बदलेगा.” अपने भाषणों में तीसरे मोर्चे को वे “राजकीय और आर्थिक अराजकता फैलाने वाली जमात” कहते हैं. जहां आम आदमी पार्टी (आप) की मलामत करते हुए वे कहते हैं, “झाड़ू का आयुष दो महीने से ज्यादा नहीं होता,” वहीं केजरीवाल उनकी नजर में एक दिशाहीन मिसाइल हैं जो देश को “किसी भी दिशा में धकेलकर गिरा सकते हैं, क्योंकि उनके पास कोई नियंत्रण प्रणाली नहीं.”
इस पूरी कवायद को बीजेपी प्रायोजित कार्यक्रम के रूप में नहीं बल्कि रामदेव के खास योग सत्र के तौर पर पेश किया गया. आयोजन स्थलों पर बीजेपी का कोई कार्यकर्ता नहीं दिखा. वे अपनी बात पर जोर देते हैं, “मैंने फैसला किया है कि मुझे बीजेपी के मंच का इस्तेमाल नहीं करना है. इसलिए आपको पार्टी का झ्ंडा नहीं दिखेगा. यहां मुझे अपने लोगों के साथ बातचीत करनी है.”

उन्हें भी भाव-विभोर होने के खूब मौके मिलते हैं. 1 मार्च को दिल्ली के सुल्तानपुरी में भीड़ को संबोधित करते समय जब एक स्थानीय मुस्लिम अनुयायी हाजी जहीर खान ने उनसे कहा कि वे रामदेव की खातिर वोट देंगे, तो उनके चेहरे पर खुशी छलक पड़ी थी. रामदेव का दावा है, “6,00,000 से भी ज्यादा गांवों में मेरा एक मजबूत नेटवर्क है.” उन्होंने आगे कहा कि उन लोगों का समर्पण “मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए काफी है.”
बीजेपी के साथ रामदेव के आधिकारिक तौर पर जुडऩे की नींव पिछले वर्ष मार्च में दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के साथ मुलाकात के दौरान पड़ी. राजनाथ सिंह ने रामदेव के उद्देश्य को समर्थन देने की पेशकश की और पार्टी के लिए प्रचार करने का अनुरोध किया.


26 अप्रैल को रामदेव ने हरिद्वार के अपने पतंजलि योगपीठ में मोदी को आमंत्रित किया. बीजेपी की ओर से गुजरात के मुख्यमंत्री को शीर्ष पद के दावेदार के तौर पर पेश करने से बहुत पहले ही बाबा ने “मोदी प्रधानमंत्री बनें” विचार को मजबूत करने का काम शुरू कर दिया था. उनके मुताबिक, “भारत को एक मजबूत, निर्णायक, स्थिर और अनुभवी सरकार की जरूरत है जो सिर्फ मोदी ही दे सकते हैं.”
उन्होंने यह भी कहा कि इसी वजह से वे केजरीवाल की आप के साथ अपनी ऊर्जा बर्बाद नहीं करना चाहते. “अब प्रयोग करने का समय नहीं. आप दिल्ली में विफल रही है. मुझे उनमें कोई संभावना नहीं दिख रही.”
वे हर घर में पहुंचने के लिए पर्चे का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसमें लिखा हैः ‘वोटर है भाग विधाता. ’ इसमें लिखा है कि कैसे वोट देश की बदहाली बदल सकता है. अभियान का बुनियादी नारा काले धन के खिलाफ है. इसमें रामदेव ने यह समझने में काफी मेहनत की है कि कैसे मोदी विदेशी बैंकों से धन वापस लाकर गरीबों का जीवन बदल देंगे. सुल्तानपुरी की झोपड़पट्टी के लोगों को वे बताते हैं, “एक बार वह धन आ गया तो आपका कच्चा घर पक्का हो जाएगा.” रामदेव की मुस्कान भरी आध्यात्मिक छवि जादू कर जाती है. दिल्ली के मंगोलपुरी के 65 वर्षीय सामाजिक कार्यकर्ता चिरंजीलाल मीणा कहते हैं, “मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि उनके जैसे संत मेरे घर आएंगे.” आगे बढ़ते काफिले को देखते हुए वे कहते हैं, “अगर वे मोदी के लिए समर्थन जुटाने यहां आए हैं, तो हम उन्हें निराश नहीं करेंगे.”
बाबा रामदेव
(दिल्ली की सुल्तानपुरी में प्रचार करते बाबा रामदेव)

रामदेव पहले से ही देशभर के दौरे में व्यस्त हैं. हर राज्य के स्थानीय मुहावरों और जुमलों को इस्तेमाल करते हुए वहां के लोगों के साथ रिश्ता बढ़ा रहे हैं. कालीकट के सत्र के एक हफ्ते बाद गुजरात के आणंद में उनका योग शिविर लगा, जहां उनके भाषणों में सरदार वल्लभ भाई पटेल का नाम गूंजा जो निश्चित तौर पर स्थानीय भावना को उत्साहित कर गयाः “दिल्ली में सरदार पटेल को स्थापित करने का मौका छीन लिया गया क्योंकि नेहरू के पक्षधर कुछ धूर्त कांग्रेसियों ने महात्मा गांधी को गुमराह कर दिया था. भारत को इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी. नेहरू सत्ता में आए और देश के तीन टुकड़े हो गए. सरदार पटेल प्रधानमंत्री बनते तो शायद अफगानिस्तान भी आज हमारे पास होता.”
1 मार्च को दिल्ली के हरिनगर में एक पूर्व कांग्रेस कार्यकर्ता 70 वर्षीय संतलाल रामदेव को इंदिरा गांधी के साथ खिंचाई अपनी फोटो दिखाते हैं, लेकिन कहते हैं, “आप जो चाहते हैं इस बार वही होगा. देश की पुकार यही है.”
रामदेव के मीडिया मैनेजर एस.के. तिजारावाला का दावा है कि यह सिर्फ ‘मोदी को वोट दो’ अभियान नहीं, बल्कि ऐसी लहर है जो ‘भारत के भाग को बदल देगी’. अनुमान है कि रामदेव के समर्थकों की वजह से एनडीए को ओडिसा में आठ से दस सीटें, आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल में पांच से छह, असम में पांच से सात और तमिलनाडु और केरल में तीन-तीन सीटें जीतने में मदद मिल सकती है. लेकिन बाकी की सीटें बीजेपी ‘अपने दम पर जीत सकती है.”
रामदेव की खरी-खरी
एक विशाल व्यूहरचना तैयार हो रही है. उनके सहयोगियों का दावा है कि हर जिले में 500 कार्यकर्ताओं के दल ने जमीनी स्तर पर चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है. वे 50 लाख झ्ंडों, उतनी ही संख्या में बैज और स्कार्फ के साथ तैयार हैं जिसमें भारत स्वाभिमान अंकित है जिसे रामदेव मोदी को बतौर प्रधानमंत्री पेश करने के सिलसिले में प्रतीक के रूप में दिखाते आए हैं. अनुमान है कि अगर हर कार्यकर्ता ने प्रचार के दौरान 500 घर लिए तो हर जिले में 2,50,000 परिवार कवर हो जाएंगे. इस साल जनवरी में पतंजलि योग समिति के 500 से ज्यादा जिला मुख्यालयों में कंप्यूटर और रंगीन प्रिंटर लगाए गए. जिला कार्यालयों को करीब 1,000 मोटरसाइकिलें और 300 कारें दी गईं. तहसील स्तर की नेटवर्किंग के लिए मोटरसाइकिल की संख्या दोगुना करने की बात कही गई है. इसमें उनके स्वयंसेवकों की ओर से इस्तेमाल की जा रही उनकी अपनी कारों और दोपहिया वाहनों की संख्या शामिल नहीं है जो पहले से ही हजारों की संख्या में हैं.

अगर इतना पैसा खर्च किया जा रहा है तो जाहिर है कि चुनाव आयोग की पैनी निगाहें परेशानी बन सकती हैं. लेकिन बचाव के पैंतरे भी तैयार हैं. हालांकि पूरा अभियान कथित तौर पर राजनाथ सिंह और मोदी के निर्देशों के मुताबिक ही हो रहा है, फिर भी अभियान में इस्तेमाल की जा रही किसी भी चीज में मोदी का नाम नहीं है और रणनीति कुछ इस तरह कसी गई है कि बेशक इसमें मोदी को प्रधानमंत्री बनाने की ही जमीन गढ़ी जा रही हो पर कहीं भी सीधे तौर पर उनका उल्लेख नहीं आता.

चुनाव आयोग की आचार संहिता लागू होने के साथ ही उनके कार्यकर्ता मोदी की जगह प्रतीकात्मक नाम ले रहे हैं, ताकि चुनाव की निगरानी कर रही नजरें आपत्ति न करें. इस तरीके ने पहले भी उन्हें आसानी से बचा लिया था जब हाल के विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस ने चुनाव आयोग में याचिका दायर की थी कि बीजेपी के आधिकारिक चुनावी खर्च में रामदेव के शिविर में हुए खर्च को भी जोड़ा जाए. रामदेव ने चाणक्य की तरह कसम खाई है कि जब तक चुनाव खत्म नहीं होते और “मिशन कामयाब नहीं होता” वे अपने संगठन के मुख्यालयों से दूर रहेंगेः क्या वे एक नए अर्थशास्त्र का स्वरूप गढऩे में मदद करेंगे?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें