scorecardresearch
 

जासूसी किस्सों के बादशाह सुरेंद्र मोहन पाठक

सुरेंद्र मोहन पाठक के उपन्यासों के पात्र जासूसी की दुनिया में ले जाते हैं और फिर शुरू हो जाता है पाठकों को बांध लेने वाला रहस्य-रोमांच का खेल.

शाम के पांच बजे का समय. कृष्णा नगर की भीड़भाड़ और मुहल्ले वाली जिंदगी से कटकर वे नोएडा के पांचवीं मंजिल के फ्लैट के स्टडी रूम में अपने तिलिस्मी संसार में इत्मिनान से बैठे हैं. बुक रैक में जेम्स हेडली चेइज, सिडनी शेलडन, जेफ्रे आर्चर और न जाने दुनिया के कितने बेस्टसेलर लेखकों की किताबें आगंतुकों का इस्तकबाल करती हैं.

सामने ही उनके अगले थ्रिलर की पांडुलिपि पड़ी है और उस पर बड़े हर्फों में लिखा हैः सुरेंद्र मोहन पाठक. यह सस्पेंस और थ्रिलर का मायावी संसार रचने वाला वह लेखक है जिसकी कोई भी किताब 40,000 से कम नहीं छपती और विमल सीरीज की उनकी 42 किताबें लगभग एक करोड़ से ज्यादा बिक चुकी हैं.

पाठक अपने पचास साल के सफर में उपन्यास और जोक बुक्स समेत 300 किताबें लिख चुके हैं. यह उनके लेखन की गोल्डन जुबली है और इस मौके पर उनका उपन्यास कोलाबा कॉन्सपिरेसी उनके जन्मदिन 19 फरवरी को लॉन्च किया गया, और बताया जा रहा है कि लॉन्च से पहले ही इसकी 15,000 कॉपियां बुक हो चुकी थीं.

प्रकाशक हार्पर कॉलिन्स ने इसकी इतनी ही कॉपियां छापी थीं, अब माह भर में इसे रिप्रिंट करने की बात कही जा रही है. इतनी कामयाबी के बावजूद 74 वर्षीय  पाठक थोड़ी मायूसी से कहते हैं, ‘‘हिंदी में राइटर की कोई हस्ती नहीं है.’’

अपने उपन्यासों से जिज्ञासा पैदा करने वाले पाठक का जीवन किसी रोमांच से कम नहीं है. 1947 में देश के बंटवारे के बाद वे लाहौर से कड़कड़ाती ठंड में बतौर रिफ्यूजी अपने पिता के संग दिल्ली पहुंचे थे. सिर पर छत नहीं थी और न ही कोई आसरा. पिता अंग्रेजी कंपनी में काम करते थे. इत्तेफाक से इस कंपनी का दफ्तर दिल्ली में था, सो पिता को वहां नौकरी मिल गई. फिर ठिकाना बना शाहदरा.

दिल्ली में पाठक ने एमएससी की डिग्री ली और इसी के दम पर उन्हें इंडियन टेलीफोन इंडस्ट्रीज में नौकरी मिल गई. 1964 में मिली इस नौकरी से उन्हें 200 रु. मिलते थे. पैसे कम पड़ते थे. सो, यह मजबूरी उनके अंदर छिपे लेखक को बाहर ले आई. वे बताते हैं, ‘‘जिस तरह ताश खेलने को ऐब माना जाता है, उसी तरह हमारे परिवार में नॉवेल पढऩा भी किसी ऐब से कम नहीं था.

इसलिए मैं अकसर चोरी-छिपे पढ़ता था. पकड़ा जाता तो लताड़ भी पड़ती. जब पता चला लिखने लगा हूं तो पिताजी कहते, कोई कोर्स कर ले, जिससे नौकरी में तरक्की मिल जाए. तायाजी तो पिटाई तक कर देते थे.’’

उनकी पहली कहानी 57 साल पुराना आदमी 1959 में मनोहर कहानियां में छपी जबकि पहला उपन्यास सुनील सीरीज का पुराने गुनाह, नए गुनहगार 1963 में छपा. इस दौरान वे, टाइटल राइटर का भी काम करते रहे. उन्होंने जेम्स हेडली चेइज के उपन्यासों का अनुवाद भी किया. उनके अनूदित उपन्यासों ने खास पहचान बनाई. उन्होंने लगभग 15 उपन्यासों का अनुवाद किया.

वे खुद को थोक में लिखने वाला राइटर बताते हैं, और दो माह में एक उपन्यास तैयार कर देते हैं. हालांकि कोलाबा कॉन्सपिरेसी को लिखने में उन्हें चार माह का समय लगा. यह पूछने पर कि क्यों तो वे चुटकी लेते हुए कहते हैं, ‘‘प्रकाशक को इम्प्रेस करने के लिए.’’ वे जितने विनम्र हैं, अपने हक को लेकर उतने ही जागरूक भी.

वे चार बार प्रकाशकों से हाइकोर्ट में दो-चार हो चुके हैं. वे बताते हैं, ‘‘यह केस रिप्रिंट करने, नकली किताब छापने को लेकर हुए थे.’’ आज भी वे रोजाना आठ घंटे राइटिंग को देते हैं. यह लिखने का ही नतीजा है कि उनकी बीच की उंगली में गड्ढा पड़ चुका है, और वे बड़े उत्साह से इसे दिखाते हैं.

यह उनकी कलम का जादू ही है कि जोधपुर के एक पाठक ने किसी केस की फाइल ही उन्हें भेज  दी थी और कहा था कि पुलिस इसे सॉल्व करने में नाकाम रही है. प्लीज आप इसे सॉल्व कर दें. वे अपना अगला नॉवेल पूरा कर चुके हैं, और नए नॉवेल पर काम शुरू कर दिया है. विमल सीरीज की उनकी किताब 65 लाख की डकैती 18 बार रिप्रिंट हो चुकी है.

इस किताब का 2009 में टाइम  पत्रिका में जिक्र हुआ था और इसकी ढाई करोड़ प्रतियां बिकने की बात कही गई थी. पर मिस्ट्री के मास्टर को इस बात का रंज है कि हिंदी में पल्प फिक्शन को वह सम्मान नहीं मिलता जैसा इंग्लिश में मिलता है. वे कहते हैं, ‘‘अंग्रेजी की किताब अगर 5,000 बिक जाए तो उसे बेस्टसेलर कह देते हैं और हमारे काम को लुगदी साहित्य कहकर खारिज कर देते हैं. हमें अछूत बनाकर रखा गया है.’’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें