scorecardresearch
 

सेहत: दर्द बना महामारी

नई-नई तकलीफों से पहले की बनिस्बत कहीं ज्यादा बड़ी तादाद में देश में लोग लगातार उठते दर्द से लाचार लेकिन नए इलाज दिला रहे हैं ज्यादा तेजी से राहत

दर्दः यह आपका बहुत जाना-पहचाना दुश्मन है. आप इसे न तो देख सकते हैं, न सूंघ सकते हैं, न बयान कर सकते हैं, न नाप सकते हैं, न ही इसका एमआरआइ या एक्स-रे करवा सकते हैं. अगर आप इसके बारे में बहुत ज्यादा बात करते हैं, तो डॉक्टर अपने हाथ खड़े कर देते. आपको ध्यान खींचने वाला करार देते हैं और दोस्त आपसे कन्नी काटने लगते हैं. डॉक्टरी की किताबों में इसे 'नाखुशगवार संवेदी और जज्बाती तजुर्बा' कहा जाता है. यह तापमान, नब्ज, सांस, रक्तचाप सरीखे आपके जीवनदायी संकेतों को गड़बड़ा देता है. यह नकारात्मक हॉर्मोनों की झड़ी लगा देता है जो आपके प्रतिरक्षा तंत्र को निशाना बनाते हैं. और यह बहुत ही छोटे-छोटे अणुओं साइटोकाइंस का तूफान बरपा देता है जो आपके शरीर पर हमला करके उसे उत्तेजित कर देते हैं. आप और आपका दर्दः यह एक जंग जीतने के बराबर है, जो आपके भीतर छिड़ी है.
और बाहर भी, क्योंकि हिंदुस्तान दर्द से जूझता देश है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक भारत में छह में से एक शख्स और तीन में से एक परिवार गठिया या अर्थराइटिस से परेशान है. इसका मतलब है 15 से 17 फीसदी हिंदुस्तानी आबादी. इतना ही नहीं, 30 फीसदी वयस्क आबादी स्थायी दर्द से जकड़ी हुई है. इनमें से तकरीबन 20 से 25 फीसदी दर्द मस्क्यूलोस्केलेटल डिसॉर्डर (एमएसडी) यानी वात रोगों की वजह से हैं जो जोड़ों, मांसपेशियों, शिराओं, स्नायुबंधों और नाडिय़ों पर असर करते हैं. बाकी में 25 से 30 फीसदी पीठ के दर्द हैं. इनमें हड्डी टूटने को और जोड़ लीजिए. इंटरनेशनल ओस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन की रिपोर्ट बताती है कि 5 करोड़ हिंदुस्तानी हड्डी टूटने के लिहाज से संवेदनशील माने जाते हैं.

हिंदुस्तानियों की हड्डियों में खनिजों के स्तर पश्चिमी मुल्कों के लोगों की तुलना में 15 फीसदी कम होते हैं, जिससे 10 से 15 साल पहले हड्डियां टूट-फूट का शिकार हो जाती हैं. करीब 4,40,000 हिंदुस्तानी हर साल अपनी कूल्हे की हड्डी तुड़वा बैठते हैं. 2020 में इस आंकड़े का 6,00,000  तक पहुंच जाना तय है. आज भारत जिस सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है, वह है दर्द की महामारी. इसका असर और व्यापकता डायबिटीज, दिल की बीमारी और कैंसर के कुल जोड़ से भी कहीं ज्यादा है.

उलटबांसियों का जमाना
यह वाकई अजीब उलटबांसी है. एक जमाना था, जब गठिया की कड़क चाल, सूजन और नाराज जोड़ केवल बाल पकने के साथ ही आते थे. अब ऐसा नहीं है. एम्स में ओर्थोपेडिक्स विभाग के प्रोफेसर तथा सर्जन डॉ. राजेश मल्होत्रा कहते हैं, ''गठिया अब बुढ़ापे का रोग नहीं रह गया है. हकीकत में शहरों के जवान हिंदुस्तानी अब गठिया के प्रमुख शिकार बन गए हैं.'' वे बताते हैं कि गठिया में जोड़ों में जलन और सूजन हो जाती है और 100 से ज्यादा बीमारियां हैं जो जोड़ों पर असर डालती हैं.
मोटे तौर पर इन्हें ओस्टियोअर्थराइटिस, या उम्र बढऩे के साथ मांसपेशियों के घिसने और टूटने-फूटने की वजह से होने वाली अर्थराइटिस और इन लेमेटरी अर्थराइटिस में बांटा जाता है. अनुमान है कि 60 साल की उम्र से ऊपर की करीब 70 फीसदी आबादी और 34 से 40 साल के आयु वर्ग की करीब 40 फीसदी आबादी अलहदा किस्म के अर्थराइटिस की तकलीफों से परेशान है. मल्होत्रा कहते हैं, ''15 से लेकर 90 साल तक हर उम्र के मरीज मेरे पास आते हैं.''

सूखी हड्डियों का संताप
हमारी हड्डियों के साथ गड़बड़ी आखिर क्या हो रही है? मानव हड्डी असलियत में कुदरत में पाई जाने वाली सबसे मजबूत चीज है. यहां तक कि यह इस्पात और कंक्रीट से भी मजबूत है. कार्टिलेज या उपास्थियों का नरम आवरण इसके ऊपर होता है और लिगामेंट इसे थामे रहते हैं. यह मांसपेशियों के सहारे हिलती है और वह भी केवल उन जगहों पर जहां दो या ज्यादा हड्डियां मिलती हैं यानी जोड़ों पर. हरेक जोड़ की खोह या कैविटी में उसे चिकना रखने के लिए एक गाढ़ा और चिकना साइनोवाइल फ्लुइड या 'लेष द्रव' होता है, जो हड्डियों के हिलने-डुलने पर उनमें आपस में और ज्यादा रगड़ लगने से रोकता है. इस पूरे तंत्र में थोड़ी भी गड़बड़ी होने पर दर्द और तकलीफ शुरू हो जाती है. भारतीय मानव विज्ञान सर्वेक्षण के निदेशक वी.आर. राव बताते हैं कि हमारे जोड़ों के अध्ययन से पता चलता है कि वे आदि मानवों के जोड़ों की तुलना में तीन-चैथाई या आधे घने रह गए हैं. आधुनिक मानव के साथ ऐसा कब और क्यों हुआ? कोई नहीं जानता. लेकिन राव कहते हैं, ''इसकी वजहें हमारे ऐसे किस्म के समाज में बदलने में छिपी हो सकती हैं, जिसमें शारीरिक श्रम में घनघोर कमी आ गई है.''

फिर ताजुब्ब क्या कि दुनिया भर में ऐसा हो रहा है. दुनिया भर में बीमारियों के बोझ के एक प्रमुख विश्लेषण (इस साल जून में द लांसेट में प्रकाशित ग्लोबल बर्डन ऑफ डिसीज स्टडी) से पता चला कि पीठ के निचले हिस्से का दर्द, गर्दन का दर्द और गठिया जैसा मस्क्यूलोस्केलेटल डिसॉर्डर उन शीर्ष 10 रोगों में से हैं, जिन्होंने 1990 से अब तक हरेक देश में विकलांगता में सबसे ज्यादा योगदान किया है. मल्होत्रा कहते हैं, ''बदलती जीवन-शैली, कसरत नहीं करना, उचित आहार की कमी और काम की अफरा-तफरी के बीच गठिया का शिकार हो जाना बड़ा आसान है.'' ऐसा माना जाता है कि कई सारे कारणों से गठिया हो सकता है. इनमें खानदानी से लेकर पर्यावरण तक, लगातार बैठे रहने वाली जीवन-शैली से लेकर जबरदस्त मोटापे तक, कम पोषक तत्वों वाले भोजन से जंक फूड तक, डायबिटीज से लेकर थॉयरॉइड की गड़बड़ी तक, नाकाफी जूते-चप्पल पहनने से लेकर आधुनिक टेक्नोलॉजी तक, यहां तक कि चोट और संक्रमणों तक कई कारण शामिल हो सकते हैं.

एक है डीजेडी
इसकी जड़ में लंबी उम्र की खामोश क्रांति है. दिल्ली की सोसाइटी फॉर एप्लाइड रिसर्च ऑन ह्यूमैनिटीज के निदेशक और जनसांख्यिकी वैज्ञानिक आशीष बोस कहते हैं, ''हालांकि भारत तेजी से बूढ़ी हो रही दुनिया में युवाओं से भरपूर देश है, लेकिन यहां अधिक उम्र के लोगों का अनुपात भी बढ़ रहा है.'' भारत में प्रत्येक 12 लोगों में से एक व्यक्ति बुजुर्ग है. उनकी गिनती के साथ उस बीमारी के मरीजों की गिनती भी बढ़ती जा रही है, जिसे डॉक्टर डीजेडी यानी डिजेनरेटिव जॉइंट डिसीज या ओस्टियोअर्थराइटिस कहते हैं और जो जोड़ों की उपास्थियों या कार्टिलेज में जलन, खराबी और आखिरकार उसके खत्म होने के कारण होता है. एम्स में दर्द प्रबंधन की अगुआई और अब दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर का संचालन करने वाले डॉ. जी.पी. दुरेजा कहते हैं, ''यह उस किस्म का गठिया है, जो बढ़ती उम्र के साथ ज्यादातर लोगों को कम या ज्यादा जकड़ ही लेता है. यह बरसों से जोड़ों के घिसने और टूटने-फूटने का नतीजा है.''

डीजेडी भले ही बुढ़ापे का रोग हो, लेकिन यह जवानों पर भी असर करता है. यही वजह है कि इतने सारे भारतीय क्रिकेटर जवान होने के बावजूद मैच खेलने से चूक जाते हैं. मुंबई के लीलावती अस्पताल के ओर्थोपेडिक सर्जन और स्पोर्ट इंजरी स्पेशलिस्ट डॉ. दिलीप नाडकर्णी कहते हैं, ''एक लंबे चलने वाले और प्रतिस्पर्धी खेल में मांसपेशियों का बेइंतिहा इस्तेमाल और थकावट और बहुत ज्यादा पसीना आने की वजह से पानी की कमी से उन्हें चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है.'' इसलिए भी युवा मरीजों में मोटापा डीजेडी का कारण होता है. मैक्स हेल्थकेयर इंस्टिट्यूट में इंस्टिट्यूट ऑफ मिनिमल एक्सेज ऐंड बैरिएट्रिक सर्जरी के निदेशक डॉ. प्रदीप चौबे कहते हैं, ''अतिरिक्त वजन हड्डियों और जोड़ों पर जोर डालता है, जिससे ओस्टियोअर्थराइटिस के प्रति संवेदनशीलता और बढ़ जाती है.''

अमेरिका की यूनिवॢसटी ऑफ  वाशिंगटन के वैश्विक स्वास्थ्य अनुसंधान केंद्र के इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिकस ऐंड इवेल्यूएशन का 2014 का एक अध्ययन बताता है कि भारत में दुनिया की सबसे ज्यादा युवा आबादी है जहां 10 से 24 साल की उम्र के 35.6 करोड़ लोग रहते हैं, जिनमें से दुनिया में तीसरे सबसे ज्यादा तकरीबन 3 करोड़ युवा या तो मोटे या अधिक वजन के हैं. इसका मतलब है कि कई जवान लोग डीजेडी के प्रति संवेदनशील हैं. इतना ही नहीं, ये लोग अगले 20 साल तक जवानी के दौर में रहेंगे और इसलिए दर्द उन्हें ज्यादा लंबे वक्त तक सहना होगा. वक्त का एक इशारा जोड़ बदलने के ऑपरेशनों में हुई बढ़ोतरी से मिलता है. इंडियन एंथ्रोप्लास्टी एसोसिएशन आगाह करती है कि देश जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के मामले में दुनिया में सबसे आगे होने जा रहा है. 2014 में देश में जोड़ बदलने के 1,00,000 ऑपरेशन हुए, जबकि 2007 में 40,000 ऑपरेशन हुए थे.

तेज झटकों का सफर
अगर 20 की उम्र में आपका शरीर 80 से ऊपर की उम्र का हो जाए तो क्या होगा? अगर आपके पास पूछने के लिए सिर्फ एक ही सवाल बचे कि ''मैं ही क्यों?'' तब क्या होगा? अगर आपको बाकी पूरी जिंदगी तेज दर्द और कुरुपता के साथ जीने को मजबूर कर दिया जाए और इलाज का दूर-दूर तक कोई निशान दिखाई न दे तो क्या होगा? डीजेडी के विपरीत रूमैटॉइड अर्थराइटिस (आरए) या संधिवात गठिया में समय के साथ ऐसा ही होता है. यह दूसरी सबसे आम बीमारी है, जो किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकती है और इसमें इंसान अचानक उठने वाले हरेक दौरे के साथ दर्द, पीड़ा, बेचैनी और अवसाद में तड़पता रह जाता है. कोलकाता के रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान में कंसल्टेंट ओर्थोपेडिक सर्जन डॉ. गौतम बसु कहते हैं, ''आरए जितना आदमियों को होता है, उससे तीन गुना ज्यादा औरतों को होता है.'' इसमें संभवतः एस्ट्रोजन सरीखे महिला प्रजनन हॉर्मोन की भूमिका होती है. बसु आगे कहते हैं, ''और आरए आम तौर पर 20 से 40 की उम्र के युवतर आयु वर्ग को, यहां तक कि 15 साल या उससे भी छोटी उम्र के बच्चों को भी हो जाता है और कई जोड़ों पर असर डालता है. इसके होने का कारण मालूम नहीं है. '' दुरेजा कहते हैं, ''तीस साल पहले 15 से 35 के आयु वर्ग में मुश्किल से ही कोई मरीज होता था. लेकिन पिछले 10 साल में उनकी गिनती 10 गुना बढ़ गई है.''

सिर्फ इतना पता है कि आरए ऑटोइम्यून या स्वप्रतिरक्षित बीमारी है जिसमें शरीर अपने आप ही हमला कर देता है. जिसकी वजह से सूजन आ जाती है और जोड़ों को नुक्सान पहुंचता है. इसमें पानी का एक गिलास पकड़ पाना भी तकलीफदेह हो जाता है. मल्होत्रा कहते हैं, ''मौजूदा अटकल यह है कि माहौल की किसी खास स्थिति और एक खास किस्म की जीन प्रजाति एचएलए के बीच आपसी क्रिया के परिणामस्वरूप आरए को जोखिम बढ़ जाता है.'' माहौल की यह खास स्थिति कुछ भी हो सकती है. धूम्रपान से लेकर कुछ निश्चित किस्म की धूल या फाइबर के संपर्क में आने तक और वायरस या बैक्टीरिया के इन्फेक्शन तक. 2014 में डॉ. उमा कुमार की अगुआई में एक्वस के रूमैटोलॉजी मेडिसिन के डॉक्टरों ने दिल्ली में 10 साल के अध्ययन के बाद चेतावनी जारी की थी कि हवा में निलंबित सूक्ष्मकण पदार्थ (एसपीएम) 2.5 के बढऩे की वजह से रूमैटॉइड अर्थराइटिस के बढऩे का खतरा पैदा हो गया है. शोध से पता चलता है कि सबसे आम किस्म का रूमैटॉइड अर्थराइटिस फेफड़ों में शुरू होता है.
आरए भारत में किस हद तक फैला हुआ है? आंकड़े चकराने वाले हैं. डब्ल्यूएचओ और इंटरनेशनल लीग ऑफ एसोसिएशंस फॉर रूमैटोलॉजी की देखरेख में पुणे के रूमैटोलॉजिस्ट डॉ. अरविंद चोपड़ा ने 12 जगहों पर 55,000 लोगों के ऊपर एक विशाल अध्ययन किया था. इससे पता चला कि भारत में 50 लाख तक हिंदुस्तानी आरए के साथ जिंदगी बसर कर रहे हो सकते हैं (इंडियन जर्नल ऑफ रूमैटोलॉजी 2015). चोपड़ा मानते हैं कि यह आंकड़ा असली संख्या से काफी कम आंका गया हो सकता है, क्योंकि आरए समय से पहले दिल की बीमारी, डायबिटीज, उच्च रक्त चाप और कम उम्र में मौत सरीखी पेचीदगियों से भी जुड़ा है, जिनमें सभी को माप पाना कठिन है. अध्ययन से यह भी पता चला कि मस्क्यूलोस्केलेटल दर्द इस समुदाय में सबसे आम बीमारी है.

जीवन की गुणवत्ता
पुराने और स्थायी दर्द के साथ जुड़ी एक अकाट्य सचाई है कि इसका कोई इलाज नहीं होता या आधा-अधूरा होता है. दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर में जुटाए गए आंकड़ों के मुताबिक दर्दनिवारक दवाइयों का बाजार एक साल में 16 फीसदी से 20 फीसदी बढ़ रहा है और इसकी वजह यह है कि स्थायी दर्द, जिनमें कमर दर्द, अर्थराइटिस और सिरदर्द सबसे ऊपर हैं, 30 फीसदी भारतीय लोगों की जिंदगी की खुशी में खलल डाल रहे हैं.

पिछले साल भारत भर में आठ शहरों के तकरीबन 5,000 लोगों के एक सर्वे में दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर ने इस बात को मापा था कि पुराने और स्थायी दर्द का जीवन की गुणवत्ता पर क्या प्रभाव पड़ रहा है. सर्वे में पाया गया कि 37 फीसदी मरीजों ने अपने दर्द के गुणांक को 'स्थायी नरम' करार दिया जबकि 67 फीसदी की बड़ी तादाद ने दर्द की गहनता को 'स्थायी तीव्र' बताया. दुरेजा कहते हैं, ''इसका मतलब है कि वे कसरत करने, सोने, दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने-जुलने और एक स्वतंत्र जीवनशैली कायम रखने के लायक नहीं रह गए हैं.'' वे बताते हैं कि घुटनों (32 फीसदी), पैरों (28 फीसदी) और जोड़ों (22 फीसदी) में दर्द की शिकायतें सबसे ज्यादा थीं. तकरीबन 32 फीसदी मरीज दर्द की वजह से पिछले तीन महीने में काम के कम से कम चार घंटे गंवा चुके थे. उनमें से ज्यादातर (68 फीसदी) का इलाज खुले में मिलने वाली तमाम किस्म की गोलियों से चल रहा था. करीब 95 फीसदी नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इक्वलेमेटरी ड्रग्ज या एनएसएआइडीएस ले रहे थे, जिन्हें हृदय और जठर तंत्र के लिए खास तौर पर जोखिम भरा माना जाता है.

बेहतर सेहत की ओर
अस्पतालों से उलीचे जा रहे नए इलाजों की कोई कमी नहीं है. जोड़ों को बदलना, खासकर संपूर्ण जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी, सबसे सुरक्षित और आमफहम ऑपरेशन हो गया है. परिष्कृत, सीमेंट-रहित प्रत्यारोपण, मरीज के प्राकृतिक ऊतकों की वृद्धि का उपयोग, ये सब भी जोड़ों की पुनर्निर्माण तकनीक मं् इस्तेमाल किए जा रहे हैं. एक नया और बनिस्बतन दर्दरहित विस्को-सप्लीमेंटेशन प्रोसीजर भी है, जिसमें खासकर घुटने के आस्टियोअर्थराइटिस की वजह से होने वाले दर्द के इलाज में फौरी राहत पहुंचाने के लिए एक द्रव जोड़ के भीतर पंप कर दिया जाता है.

लेकिन बदलाव को और ज्यादा बढ़ावा दुनिया भर में वैकल्पिक स्वास्थ्य साधनों और आध्यात्मिकता की बढ़ती लोकप्रियता से मिल रहा है. ब्रिटिश शोधकर्ता बता रहे हैं कि योग की सहायता से कोई भी शख्स सामान्य स्वास्थ्य देखभाल में रहने वाले समूह की तुलना में 30 फीसदी ज्यादा कामकाज करने लायक बन सकता है. कोई जितनी बेहतरीन से बेहतरीन जिंदगी जी सकता है, उसके लिए अमेरिकी वेलनेस गुरु वुडसन मेरिल ''ऑप्टिमम वेलनेस'' या ईष्टतम तंदुरुस्ती शब्द का प्रयोग करते हैं. वे कहते हैं, ''मैं स्टेरॉइड्स या एंटीबायोटिक्स के खिलाफ नहीं हूं. मगर सबसे महफूज और सबसे उम्दा औषधियां जड़ी-बूटियों के संसार से ही आती हैं. वह जलन को कम करने के लिए हिंदुस्तान की हल्दी हो, या साइनस से छुटकारा पाने के लिए जड़ी-बूटियों का चीनी मिश्रण नाजानोल हो, या कैंसर से लडऩे के लिए जापानी माइटेक कुकरमुत्ते हों. कुदरती दवाइयां ही सबसे ताकतवर हैं.''
 
दर्द का नक्शाबड़े सवाल
दर्द के महामारी बन जाने के कारण यह दुनिया इस तकलीफदेह, अक्षम बनाने वाली और असाध्य बीमारी से कैसे पार पा सकेगी? यह 45 की उम्र की मॉली मोल से पूछिए. एम्स में यह नर्स बिलकुल सख्त होकर चलती हैं, किसी मशीनी खिलौने की तरह. यह चाल भले ही उनकी कड़कदार सफेद नर्सिग यूनिफॉर्म और नर्स की कैप में करीने से बंधे बालों के साथ जंचती है, लेकिन बहुत कम लोग यह भांप सकते हैं कि एक वॉर्ड से दूसरे वॉर्ड में जाता यह मुस्कराता चेहरा दरअसल निरंतर असहनीय दर्द से पीड़ित है. हर सुबह काम पर जाने से पहले उन्हें जोड़ों से जकडऩ को दूर करने में लगभग एक घंटे का वक्त लगता है. वह दर्द की गोली लिए बगैर ही काम पर जाती हैं ताकि काम पर उन्हें कहीं नींद न आ जाए. लेकिन उनके लिए भी अच्छी खबर है. विश्व अर्थराइटिस दिवस पर उन्हें पता चला कि उनकी ज्वॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी उनकी उम्मीद से कहीं ज्यादा कामयाब रही है. अब वह एक्वस के अपने वॉर्डों के भीतर उस सहजता के साथ जा सकती हैं, जिससे उनका शरीर पिछले 26 साल से वंचित था.

हिंदुस्तानियों की हड्डियों में खनिजों के स्तर पश्चिमी मुल्कों के लोगों की तुलना में 15 फीसदी कम होते हैं, जिससे 10 से 15 साल पहले हड्डियां टूट-फूट का शिकार हो जाती हैं. करीब 4,40,000 हिंदुस्तानी हर साल अपनी कूल्हे की हड्डी तुड़वा बैठते हैं. 2020 में इस आंकड़े का 6,00,000 तक पहुंच जाना तय है. आज भारत जिस सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है, वह है दर्द की महामारी. इसका असर और व्यापकता डायबिटीज, दिल की बीमारी और कैंसर के कुल जोड़ से भी कहीं ज्यादा है.

उलटबांसियों का जमाना
यह वाकई अजीब उलटबांसी है. एक जमाना था, जब गठिया की कड़क चाल, सूजन और नाराज जोड़ केवल बाल पकने के साथ ही आते थे. अब ऐसा नहीं है. एम्स में ओर्थोपेडिक्स विभाग के प्रोफेसर तथा सर्जन डॉ. राजेश मल्होत्रा कहते हैं, ''गठिया अब बुढ़ापे का रोग नहीं रह गया है. हकीकत में शहरों के जवान हिंदुस्तानी अब गठिया के प्रमुख शिकार बन गए हैं.'' वे बताते हैं कि गठिया में जोड़ों में जलन और सूजन हो जाती है और 100 से ज्यादा बीमारियां हैं जो जोड़ों पर असर डालती हैं.
मोटे तौर पर इन्हें ओस्टियोअर्थराइटिस, या उम्र बढऩे के साथ मांसपेशियों के घिसने और टूटने-फूटने की वजह से होने वाली अर्थराइटिस और इन लेमेटरी अर्थराइटिस में बांटा जाता है. अनुमान है कि 60 साल की उम्र से ऊपर की करीब 70 फीसदी आबादी और 34 से 40 साल के आयु वर्ग की करीब 40 फीसदी आबादी अलहदा किस्म के अर्थराइटिस की तकलीफों से परेशान है. मल्होत्रा कहते हैं, ''15 से लेकर 90 साल तक हर उम्र के मरीज मेरे पास आते हैं.''

सूखी हड्डियों का संताप
हमारी हड्डियों के साथ गड़बड़ी आखिर क्या हो रही है? मानव हड्डी असलियत में कुदरत में पाई जाने वाली सबसे मजबूत चीज है. यहां तक कि यह इस्पात और कंक्रीट से भी मजबूत है. कार्टिलेज या उपास्थियों का नरम आवरण इसके ऊपर होता है और लिगामेंट इसे थामे रहते हैं. यह मांसपेशियों के सहारे हिलती है और वह भी केवल उन जगहों पर जहां दो या ज्यादा हड्डियां मिलती हैं यानी जोड़ों पर. हरेक जोड़ की खोह या कैविटी में उसे चिकना रखने के लिए एक गाढ़ा और चिकना साइनोवाइल फ्लुइड या 'लेष द्रव होता है, जो हड्डियों के हिलने-डुलने पर उनमें आपस में और ज्यादा रगड़ लगने से रोकता है. इस पूरे तंत्र में थोड़ी भी गड़बड़ी होने पर दर्द और तकलीफ शुरू हो जाती है. भारतीय मानव विज्ञान सर्वेक्षण के निदेशक वी.आर. राव बताते हैं कि हमारे जोड़ों के अध्ययन से पता चलता है कि वे आदि मानवों के जोड़ों की तुलना में तीन-चौथाई या आधे घने रह गए हैं. आधुनिक मानव के साथ ऐसा कब और क्यों हुआ? कोई नहीं जानता. लेकिन राव कहते हैं, ''इसकी वजहें हमारे ऐसे किस्म के समाज में बदलने में छिपी हो सकती हैं, जिसमें शारीरिक श्रम में घनघोर कमी आ गई है.''

फिर ताजुब्ब क्या कि दुनिया भर में ऐसा हो रहा है. दुनिया भर में बीमारियों के बोझ के एक प्रमुख विश्लेषण (इस साल जून में द लांसेट में प्रकाशित ग्लोबल बर्डन ऑफ डिसीज स्टडी) से पता चला कि पीठ के निचले हिस्से का दर्द, गर्दन का दर्द और गठिया जैसा मस्क्यूलोस्केलेटल डिसॉर्डर उन शीर्ष 10 रोगों में से हैं, जिन्होंने 1990 से अब तक हरेक देश में विकलांगता में सबसे ज्यादा योगदान किया है. मल्होत्रा कहते हैं, ''बदलती जीवन-शैली, कसरत नहीं करना, उचित आहार की कमी और काम की अफरा-तफरी के बीच गठिया का शिकार हो जाना बड़ा आसान है.'' ऐसा माना जाता है कि कई सारे कारणों से गठिया हो सकता है. इनमें खानदानी से लेकर पर्यावरण तक, लगातार बैठे रहने वाली जीवन-शैली से लेकर जबरदस्त मोटापे तक, कम पोषक तत्वों वाले भोजन से जंक फूड तक, डायबिटीज से लेकर थॉयरॉइड की गड़बड़ी तक, नाकाफी जूते-चप्पल पहनने से लेकर आधुनिक टेक्नोलॉजी तक, यहां तक कि चोट और संक्रमणों तक कई कारण शामिल हो सकते हैं.

दर्द मुक्त जिंदगी का राजएक है डीजेडी

इसकी जड़ में लंबी उम्र की खामोश क्रांति है. दिल्ली की सोसाइटी फॉर एप्लाइड रिसर्च ऑन ह्यूमैनिटीज के निदेशक और जनसांख्यिकी वैज्ञानिक आशीष बोस कहते हैं, ''हालांकि भारत तेजी से बूढ़ी हो रही दुनिया में युवाओं से भरपूर देश है, लेकिन यहां अधिक उम्र के लोगों का अनुपात भी बढ़ रहा है.'' भारत में प्रत्येक 12 लोगों में से एक व्यक्ति बुजुर्ग है. उनकी गिनती के साथ उस बीमारी के मरीजों की गिनती भी बढ़ती जा रही है, जिसे डॉक्टर डीजेडी यानी डिजेनरेटिव जॉइंट डिसीज या ओस्टियोअर्थराइटिस कहते हैं और जो जोड़ों की उपास्थियों या कार्टिलेज में जलन, खराबी और आखिरकार उसके खत्म होने के कारण होता है. एम्स में दर्द प्रबंधन की अगुआई और अब दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर का संचालन करने वाले डॉ. जी.पी. दुरेजा कहते हैं, ''यह उस किस्म का गठिया है, जो बढ़ती उम्र के साथ ज्यादातर लोगों को कम या ज्यादा जकड़ ही लेता है. यह बरसों से जोड़ों के घिसने और टूटने-फूटने का नतीजा है.''

डीजेडी भले ही बुढ़ापे का रोग हो, लेकिन यह जवानों पर भी असर करता है. यही वजह है कि इतने सारे भारतीय क्रिकेटर जवान होने के बावजूद मैच खेलने से चूक जाते हैं. मुंबई के लीलावती अस्पताल के ओर्थोपेडिक सर्जन और स्पोर्ट इंजरी स्पेशलिस्ट डॉ. दिलीप नाडकर्णी कहते हैं, ''एक लंबे चलने वाले और प्रतिस्पर्धी खेल में मांसपेशियों का बेइंतिहा इस्तेमाल और थकावट और बहुत ज्यादा पसीना आने की वजह से पानी की कमी से उन्हें चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है.'' इसलिए भी युवा मरीजों में मोटापा डीजेडी का कारण होता है. मैक्स हेल्थकेयर इंस्टिट्यूट में इंस्टिट्यूट ऑफ मिनिमल एक्सेज ऐंड बैरिएट्रिक सर्जरी के निदेशक डॉ. प्रदीप चौबे कहते हैं, ''अतिरिक्त वजन हड्डियों और जोड़ों पर जोर डालता है, जिससे ओस्टियोअर्थराइटिस के प्रति संवेदनशीलता और बढ़ जाती है.''

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ  वाशिंगटन के वैश्विक स्वास्थ्य अनुसंधान केंद्र के इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिकस ऐंड इवेल्यूएशन का 2014 का एक अध्ययन बताता है कि भारत में दुनिया की सबसे ज्यादा युवा आबादी है जहां 10 से 24 साल की उम्र के 35.6 करोड़ लोग रहते हैं, जिनमें से दुनिया में तीसरे सबसे ज्यादा तकरीबन 3 करोड़ युवा या तो मोटे या अधिक वजन के हैं. इसका मतलब है कि कई जवान लोग डीजेडी के प्रति संवेदनशील हैं. इतना ही नहीं, ये लोग अगले 20 साल तक जवानी के दौर में रहेंगे और इसलिए दर्द उन्हें ज्यादा लंबे वक्त तक सहना होगा. वक्त का एक इशारा जोड़ बदलने के ऑपरेशनों में हुई बढ़ोतरी से मिलता है. इंडियन एंथ्रोप्लास्टी एसोसिएशन आगाह करती है कि देश जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी के मामले में दुनिया में सबसे आगे होने जा रहा है. 2014 में देश में जोड़ बदलने के 1,00,000 अॉपरेशन हुए, जबकि 2007 में 40,000 ऑपरेशन हुए थे.

तेज झटकों का सफर
अगर 20 की उम्र में आपका शरीर 80 से ऊपर की उम्र का हो जाए तो क्या होगा? अगर आपके पास पूछने के लिए सिर्फ एक ही सवाल बचे कि ''मैं ही क्यों?'' तब क्या होगा? अगर आपको बाकी पूरी जिंदगी तेज दर्द और कुरुपता के साथ जीने को मजबूर कर दिया जाए और इलाज का दूर-दूर तक कोई निशान दिखाई न दे तो क्या होगा? डीजेडी के विपरीत रूमैटॉइड अर्थराइटिस (आरए) या संधिवात गठिया में समय के साथ ऐसा ही होता है. यह दूसरी सबसे आम बीमारी है, जो किसी को भी किसी भी उम्र में हो सकती है और इसमें इंसान अचानक उठने वाले हरेक दौरे के साथ दर्द, पीड़ा, बेचैनी और अवसाद में तड़पता रह जाता है. कोलकाता के रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान में कंसल्टेंट ओर्थोपेडिक सर्जन डॉ. गौतम बसु कहते हैं, ''आरए जितना आदमियों को होता है, उससे तीन गुना ज्यादा औरतों को होता है.'' इसमें संभवतः एस्ट्रोजन सरीखे महिला प्रजनन हॉर्मोन की भूमिका होती है. बसु आगे कहते हैं, ''और आरए आम तौर पर 20 से 40 की उम्र के युवतर आयु वर्ग को, यहां तक कि 15 साल या उससे भी छोटी उम्र के बच्चों को भी हो जाता है और कई जोड़ों पर असर डालता है. इसके होने का कारण मालूम नहीं है. '' दुरेजा कहते हैं, ''तीस साल पहले 15 से 35 के आयु वर्ग में मुश्किल से ही कोई मरीज होता था. लेकिन पिछले 10 साल में उनकी गिनती 10 गुना बढ़ गई है.''

सिर्फ इतना पता है कि आरए ऑटोइक्वयून या स्वप्रतिरक्षित बीमारी है जिसमें शरीर अपने आप ही हमला कर देता है. जिसकी वजह से सूजन आ जाती है और जोड़ों को नुक्सान पहुंचता है. इसमें पानी का एक गिलास पकड़ पाना भी तकलीफदेह हो जाता है. मल्होत्रा कहते हैं, ''मौजूदा अटकल यह है कि माहौल की किसी खास स्थिति और एक खास किस्म की जीन प्रजाति एचएलए के बीच आपसी क्रिया के परिणामस्वरूप आरए को जोखिम बढ़ जाता है.'' माहौल की यह खास स्थिति कुछ भी हो सकती है. धूम्रपान से लेकर कुछ निश्चित किस्म की धूल या फाइबर के संपर्क में आने तक और वायरस या बैक्टीरिया के इन्फेक्शन तक. 2014 में डॉ. उमा कुमार की अगुआई में एम्स के रूमैटोलॉजी मेडिसिन के डॉक्टरों ने दिल्ली में 10 साल के अध्ययन के बाद चेतावनी जारी की थी कि हवा में निलंबित सूक्ष्मकण पदार्थ (एसपीएम) 2.5 के बढऩे की वजह से रूमैटॉइड अर्थराइटिस के बढऩे का खतरा पैदा हो गया है. शोध से पता चलता है कि सबसे आम किस्म का रूमैटॉइड अर्थराइटिस फेफड़ों में शुरू होता है.
आरए भारत में किस हद तक फैला हुआ है? आंकड़े चकराने वाले हैं. डब्ल्यूएचओ और इंटरनेशनल लीग ऑफ एसोसिएशंस फॉर रूमैटोलॉजी की देखरेख में पुणे के रूमैटोलॉजिस्ट डॉ. अरविंद चोपड़ा ने 12 जगहों पर 55,000 लोगों के ऊपर एक विशाल अध्ययन किया था. इससे पता चला कि भारत में 50 लाख तक हिंदुस्तानी आरए के साथ जिंदगी बसर कर रहे हो सकते हैं (इंडियन जर्नल ऑफ रूमैटोलॉजी 2015). चोपड़ा मानते हैं कि यह आंकड़ा असली संख्या से काफी कम आंका गया हो सकता है, क्योंकि आरए समय से पहले दिल की बीमारी, डायबिटीज, उच्च रक्त चाप और कम उम्र में मौत सरीखी पेचीदगियों से भी जुड़ा है, जिनमें सभी को माप पाना कठिन है. अध्ययन से यह भी पता चला कि मस्क्यूलोस्केलेटल दर्द इस समुदाय में सबसे आम बीमारी है.

जीवन की गुणवत्ता

पुराने और स्थायी दर्द के साथ जुड़ी एक अकाट्य सचाई है कि इसका कोई इलाज नहीं होता या आधा-अधूरा होता है. दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर में जुटाए गए आंकड़ों के मुताबिक दर्दनिवारक दवाइयों का बाजार एक साल में 16 फीसदी से 20 फीसदी बढ़ रहा है और इसकी वजह यह है कि स्थायी दर्द, जिनमें कमर दर्द, अर्थराइटिस और सिरदर्द सबसे ऊपर हैं, 30 फीसदी भारतीय लोगों की जिंदगी की खुशी में खलल डाल रहे हैं.

पिछले साल भारत भर में आठ शहरों के तकरीबन 5,000 लोगों के एक सर्वे में दिल्ली पेन मैनेजमेंट सेंटर ने इस बात को मापा था कि पुराने और स्थायी दर्द का जीवन की गुणवत्ता पर क्या प्रभाव पड़ रहा है. सर्वे में पाया गया कि 37 फीसदी मरीजों ने अपने दर्द के गुणांक को 'स्थायी नरम' करार दिया जबकि 67 फीसदी की बड़ी तादाद ने दर्द की गहनता को 'स्थायी तीव्र' बताया. दुरेजा कहते हैं, ''इसका मतलब है कि वे कसरत करने, सोने, दोस्तों और रिश्तेदारों से मिलने-जुलने और एक स्वतंत्र जीवनशैली कायम रखने के लायक नहीं रह गए हैं.'' वे बताते हैं कि घुटनों (32 फीसदी), पैरों (28 फीसदी) और जोड़ों (22 फीसदी) में दर्द की शिकायतें सबसे ज्यादा थीं. तकरीबन 32 फीसदी मरीज दर्द की वजह से पिछले तीन महीने में काम के कम से कम चार घंटे गंवा चुके थे. उनमें से ज्यादातर (68 फीसदी) का इलाज खुले में मिलने वाली तमाम किस्म की गोलियों से चल रहा था. करीब 95 फीसदी नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इम्लेमेटरी ड्रग्ज या एनएसएआइडीएस ले रहे थे, जिन्हें हृदय और जठर तंत्र के लिए खास तौर पर जोखिम भरा माना जाता है.

बेहतर सेहत की ओर
अस्पतालों से उलीचे जा रहे नए इलाजों की कोई कमी नहीं है. जोड़ों को बदलना, खासकर संपूर्ण जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी, सबसे सुरक्षित और आमफहम ऑपरेशन हो गया है. परिष्कृत, सीमेंट-रहित प्रत्यारोपण, मरीज के प्राकृतिक ऊतकों की वृद्धि का उपयोग, ये सब भी जोड़ों की पुनर्निर्माण तकनीक मं् इस्तेमाल किए जा रहे हैं. एक नया और बनिस्बतन दर्दरहित विस्को-सप्लीमेंटेशन प्रोसीजर भी है, जिसमें खासकर घुटने के आस्टियोअर्थराइटिस की वजह से होने वाले दर्द के इलाज में फौरी राहत पहुंचाने के लिए एक द्रव जोड़ के भीतर पंप कर दिया जाता है.

लेकिन बदलाव को और ज्यादा बढ़ावा दुनिया भर में वैकल्पिक स्वास्थ्य साधनों और आध्यात्मिकता की बढ़ती लोकप्रियता से मिल रहा है. ब्रिटिश शोधकर्ता बता रहे हैं कि योग की सहायता से कोई भी शख्स सामान्य स्वास्थ्य देखभाल में रहने वाले समूह की तुलना में 30 फीसदी ज्यादा कामकाज करने लायक बन सकता है. कोई जितनी बेहतरीन से बेहतरीन जिंदगी जी सकता है, उसके लिए अमेरिकी वेलनेस गुरु वुडसन मेरिल ''ऑप्टिमम वेलनेस'' या ईष्टतम तंदुरुस्ती शब्द का प्रयोग करते हैं. वे कहते हैं, ''मैं स्टेरॉइड्स या एंटीबायोटिक्स के खिलाफ नहीं हूं. मगर सबसे महफूज और सबसे उम्दा औषधियां जड़ी-बूटियों के संसार से ही आती हैं. वह जलन को कम करने के लिए हिंदुस्तान की हल्दी हो, या साइनस से छुटकारा पाने के लिए जड़ी-बूटियों का चीनी मिश्रण नाजानोल हो, या कैंसर से लडऩे के लिए जापानी माइटेक कुकरमुत्ते हों. कुदरती दवाइयां ही सबसे ताकतवर हैं.''
 
बड़े सवाल
दर्द के महामारी बन जाने के कारण यह दुनिया इस तकलीफदेह, अक्षम बनाने वाली और असाध्य बीमारी से कैसे पार पा सकेगी? यह 45 की उम्र की मॉली मोल से पूछिए. एक्वस में यह नर्स बिलकुल सख्त होकर चलती हैं, किसी मशीनी खिलौने की तरह. यह चाल भले ही उनकी कड़कदार सफेद नर्सिग यूनिफॉर्म और नर्स की कैप में करीने से बंधे बालों के साथ जंचती है, लेकिन बहुत कम लोग यह भांप सकते हैं कि एक वॉर्ड से दूसरे वॉर्ड में जाता यह मुस्कराता चेहरा दरअसल निरंतर असहनीय दर्द से पीड़ित है. हर सुबह काम पर जाने से पहले उन्हें जोड़ों से जकडऩ को दूर करने में लगभग एक घंटे का वक्त लगता है. वह दर्द की गोली लिए बगैर ही काम पर जाती हैं ताकि काम पर उन्हें कहीं नींद न आ जाए. लेकिन उनके लिए भी अच्छी खबर है. विश्व अर्थराइटिस दिवस पर उन्हें पता चला कि उनकी ज्वॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी उनकी उम्मीद से कहीं ज्यादा कामयाब रही है. अब वह एम्स के अपने वॉर्डों के भीतर उस सहजता के साथ जा सकती हैं, जिससे उनका शरीर पिछले 26 साल से वंचित था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें