scorecardresearch
 

विधानसभा चुनाव बिहार: पासवान पिता-पुत्र की नई पेशकदमी

पासवान बेटे चिराग को बागडोर सौंपने के साथ ही बिहार की दलित राजनीति में महत्वाकांक्षा का नया अध्याय जोडऩे की राह पर.

बेटे चिराग के साथ राम विलास पासवान हाजीपुर बिहार की एक चुनाव रैली में बेटे चिराग के साथ राम विलास पासवान हाजीपुर बिहार की एक चुनाव रैली में

बात 15 सितंबर की है. श्रीलंका के प्रधानमंत्री रनिल विक्रमसिंघे के साथ दोपहर भोज के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री और बिहार बीजेपी के प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान की ओर गर्दन झुकाई और पूछा, “चिराग का हो गया?” मोदी टिकट बंटवारे को लेकर रामविलास पासवान के बेटे के असंतोष की बात कर रहे थे. चिराग ने अपनी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) को “महज” 40 सीटें देने पर कहा कि इससे उन्हें “झटका” लगा. बिहार की 243 विधानसभा सीटों में से बीजेपी ने अपने लिए 160 सीटें रखी जबकि जीतनराम मांझी के हिंदुस्तान अवाम मोर्चा (एचएएम) को 20 और उपेंद्र कुशवाहा की आरएलएसपी को 23 सीटें दी.
बिहार में पहले चरण का मतदान 12 अक्तूबर है इसलिए मोदी गहरी दिलचस्पी ले रहे हैं और उन्हें दुलारे नौजवान पासवान का तेज-तर्रार और फैसलाकुन रवैया रास आया है, जो हाल ही के महीनों में एलजीपी के मुख्य प्रवक्ता और बीजेपी के साथ मुख्य वार्ताकार के तौर पर उभरे हैं. विक्रमसिंघे के साथ दोपहर भोज के दौरान प्रधान ने मोदी को भरोसा दिलाया कि बीजेपी चिराग और एलजीपी के हितों का ध्यान रखेगी. कुछ दिनों बाद बीजेपी अपने हिस्से में से एलजेपी को दो और सीटें देने के लिए राजी हो गई, हालांकि इसकी घोषणा अभी तक नहीं की गई है.

गठबंधन में रामविलास पासवान की इतनी अहमियत इसलिए है, क्योंकि राज्य के 5 फीसदी पासवान और पासी वोटों पर उनका कब्जा है. जातियों के फेर में फंसे बिहार में यह वोटबैंक पासवान के प्रति वफादार रहा है, फिर चाहे उन्होंने किसी भी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा हो. साफ तौर पर यही वजह है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कुछ और सीटों की चिराग की मांग मान ली और 40 की बजाए 42 सीटें दे दीं. विकासशील समाज अध्ययन केंद्र (सीएसडीएस) के लोकनीति के लिए श्रेयस सरदेसाई के विश्लेषण के मुताबिक, 2004 के आम चुनाव में जब एलजेपी ने आरजेडी और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था, 58 फीसदी पासियों ने एलजेपी को वोट दिया था. फरवरी 2005 के बिहार के चुनावों में जब एलजेपी और कांग्रेस ने हाथ मिलाया था, 60 फीसदी पासी मतदाताओं ने पासवान की पार्टी के लिए वोट डाला था. 2009 के लोकसभा और 2010 के विधानसभा चुनावों में जब एलजेपी ने लालू के साथ चुनाव लड़ा तो 50 फीसदी पासी वोट इस गठबंधन के खाते में गए थे. और 2014 में जब पार्टी एनडीए में मिल गई तो 41 फीसदी पासियों ने इस गठबंधन के हक में वोट डाले थे.

बीजेपी नेता मानते हैं कि बिहार के महादलितों की सियासत में मांझी 20 सीटें हासिल कर पाए, तो सिर्फ इसलिए नहीं कि वे पूर्व मुख्यमंत्री हैं, बल्कि उनकी मुसहर जाति महादलित बिरादरी की एक अहम जाति है. एक वक्त महादलित आरजेडी के साथ हुआ करते थे, लेकिन पिछले 15 साल से जेडी(यू) और बीजेपी के साथ हो गए.
पासवान मानते हैं कि यह चुनाव बहुत “हाइ-फाइ” हो गया है. वे कहते हैं, “इस चुनाव का राष्ट्रीय राजनीति पर भारी असर पड़ेगा. खासकर जब मुख्यमंत्री पद का कोई उम्मीदवार नहीं है इसलिए मोदी जी के राज के पिछले 15 महीने ही वह पैमाना होंगे, जिसके बरअक्स एनडीए पर फैसला सुनाया जाएगा.”

तो क्या चिराग पार्टी की कमान पिता से अपने हाथ में ले रहे हैं? कमान बदलने की बात खारिज किए बगैर चिराग कहते हैं, “वे सूरज हैं और मैं चंद्रमा. बाबूजी ने अच्छे दिन, बुरे दिन और वाकई बहुत बुरे दिन देखे हैं. मैंने सब कुछ उन्हीं से सीखा है.” पासवान बताते हैं कि उन्होंने अपने बेटे के फैसलों पर कभी सवाल नहीं उठाए&न तब जब वे बॉलीवुड में जाना चाहते थे और न तब जब बाल भूरे रंग में रंग लिए. वे कहते हैं, “मैं 20वीं सदी का हूं, चिराग 21वीं सदी के हैं. मैं अपने विचार उन पर क्यों थोपूं?”
एक अहम बात यह है कि धर्मेंद्र प्रधान के साथ कुछ देर की उस चर्चा में मोदी ने अपने उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री का कोई जिक्र नहीं किया, बावजूद इसके कि बिहार के सबसे वरिष्ठ मंत्री होने के नाते राज्य की नब्ज पर जैसी पकड़ बड़े पासवान की है, वैसी मुश्किल से ही किसी और की है. उन्होंने अपना पहला चुनाव 1969 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर अलौली विधानसभा सीट से लड़ा था. यह उस दौर से भी पहले की बात है, जब 1970 के दशक में मध्य में जयप्रकाश नारायण ने “संपूर्ण क्रांति” का आह्वान करके राज्य की सियासत में नेताओं की मौजूदा फसल के बीज बोए थे.

बिहार के इस बार के चुनाव में बीजेपी और गठबंधन के दूसरे भागीदारों की धड़कनें भी तेज हैं लेकिन शायद इसका एक पहलू यह भी है कि  इसी दौरान एलजेपी की बागडोर कमोबेश पिता से बेटे के हाथों में सौंप दी गई.

करीब 40 साल के सियासी तजुर्बे के साथ पासवान इससे बेशक खुश दिखाई देते हैं कि बॉलीवुड अभिनेता से सियासतदां बना बेटा उनकी विरासत संभाल रहा है. उन्होंने इंडिया टुडे से कहा, “चिराग को पुरानी और नई, दोनों पीढिय़ों ने मंजूर कर लिया है, कोई भी पिता उनके ऊपर गर्व करेगा.” वे बताते हैं कि यह चिराग ही थे जिन्होंने 2014 के आम चुनाव के ठीक पहले उन्हें यूपीए छोड़कर एनडीए में आने के लिए मनाया. यह तब की बात है जब चिराग ने राहुल गांधी को कई चिट्ठियां लिखी थीं और उनके जवाब का इंतजार करते-करते आखिरकार थककर हार गए थे. बड़े पासवान बताते हैं, “चिराग ने मुझसे कहा था, “बाबूजी, आपके सेक्यूलरवाद, सांप्रदायिकता-विरोध और सामाजिक न्याय के उसूल बहुत अहम हैं, लेकिन उतना ही अहम आत्मसम्मान भी है.”

बिहार के सियासी फलक पर 2012 में युवा चिराग का आगमन उस वक्त परेशानजदा पार्टी के लिए जितना बेशकीमती था, उतना ही नाटकीय भी. पासवान उस वक्त बिस्तर पर थे और महाराजगंज के उपचुनाव के लिए प्रचार नहीं कर पा रहे थे. तभी किसी ने उन्हें मुंबई से चिराग को बुलाने की सलाह दी. उस दौर के बारे में बड़े पासवान कहते हैं, “तो चिराग टिपिकल फिल्मी स्टाइल में पहुंचे, हाथ हिलाते हुए और सीधे भीड़ के दिलों में उतर गए. लालू जी फीके पड़ गए!”

चिराग मानते हैं कि 2012 में जब वे अपने पिता से मिलने आए, तब अपने प्रति भीड़ का जोशो-खरोश देखकर उन्होंने “भारी नशा” महसूस किया था. इससे उनकी फिल्म मिले ना मिले हम के फ्लॉप होने का मलाल जाता रहा. चिराग कहते हैं, “उस फिल्म में एक गाना था “कट्टो गिलहरी”, उसने मुझे बिहार में काफी लोकप्रिय बना दिया. बॉलीवुड और सियासत इस लिहाज से एक सरीखे हैं कि दोनों ही पेशों में आपको अपने प्रति भीड़ का जोश देखने को मिलता है.”

पासवान को राजी कर पाना आसान नहीं था. 32 बरस के युवा पासवान कहते हैं, “हां, 2002 के गोधरा दंगे हो चुके थे और सैकड़ों मुसलमान मारे गए थे, इसी मुद्दे पर उन्होंने एनडीए छोड़ी था. मैंने उनसे कहा कि इमरजेंसी या 1989 के भागलपुर दंगों की तरह गोधरा का जमाना भी बीत चुका है. उन्हें इसके लिए राजी करने में मुझे कई दिन लगे कि हमें मोदी के साथ जाना चाहिए.”

लेकिन हकीकत यह भी है कि मोदी की बीजेपी में पासवान पिता-पुत्र की अहमियत तभी तक है, जब तक वे वादे के मुताबिक सीटें जिताकर उनकी झोली में डाल देते हैं. चिराग भीड़ तो जुटा सकते हैं, मगर यह रामविलास पासवान की सामाजिक न्याय की साख ही है, जिससे वोट जुटाने की उम्मीद की जा सकती है. यह बात बीजेपी दूसरों से बेहतर जानती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें