scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 29/- रुपये में

विशेषांकः मुझे किस चीज से खुशी मिलती है

समुद्र तट पर लंबी सैर और एक अच्छी किताब से लेकर बच्चों के खिलखिलाने की आवाज और दोस्तों के साथ घूमने तक—कौन सी चीज उन्हें खुशी देती है, बता रहे हैं विभिन्न क्षेत्रों के लोग.

X
हर्ष गोयनका, चेयरमैन, आरपीजी एंटरप्राइजेज
हर्ष गोयनका, चेयरमैन, आरपीजी एंटरप्राइजेज

‘‘खुशी एक मनोभाव है. ऐसी मनोदशा जिसे विकसित करने का प्रयास हम सब को करना चाहिए. इस महामारी ने मुझे सिखाया कि खुशी कोई लक्ष्य नहीं हो सकती. यह एक सतत प्रक्रिया है, मन की एक अवस्था है जिसके लिए हमें हर दिन प्रयास करने की आवश्यकता होती है. जीवन में जो कुछ भी हमारे पास है, उसकी सराहना करना और उसे महत्व देना जिसे हम अक्सर अनदेखा कर देते हैं.

दयालु और उदार होने का अर्थ, केवल दान करना नहीं होता बल्कि दया और उदारता की वह भावना है जो बिना किसी अपेक्षा के काम करते जाने और देने के भाव के साथ आती है. मुझे अपने चारों तरफ खुशी पैदा करने में खुशी मिलती है—यह अपने आसपास एक अच्छा वातावरण तैयार करने से, सामाजिक कल्याण कार्यक्रमों से, दूसरों को सशक्त और सक्षम बनाने वाली सेवाओं से, या यहां तक कि विनम्र शब्दों के प्रयोग और सरल उत्साहजनक बातचीत का माहौल बनाने से संभव हो सकती है.

यह समुदाय को कुछ लौटाने की खुशी है. चुनने की आजादी भी मेरे लिए खुशी है. हम सबको अपनी व्यक्तिगत पसंद के आधार पर बिना किसी डर के जीवन जीने की आजादी और सबसे महत्वपूर्ण सद्भाव और दूसरों को साथ लेकर चलते हुए जीवन का आनंद लेने का अवसर. मतभेदों को स्वीकारना और प्रोत्साहित करना भी, खुशी है. एक सामूहिक समाज का निर्माण जहां लोग नवाचार से डरते न हों और संभावित परिवर्तनों और अंतहीन संभावनाओं का स्वागत करते हों, यह भी खुशी है. हर दिन अगर प्रयास किया जाए तो खुशी एक लत जैसी हो जाएगी और यह खुद को बनाए रखने में सक्षम होगी. हमें केवल खुले दिल से सही मानसिकता को अपनाने की जरूरत है''

हर्ष गोयनका,
चेयरमैन, आरपीजी एंटरप्राइजेज

सी.पी. गुरुनानी 
मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ, 
टेक महिंद्रा लिमिटेड

''अभी मेरे लिए खुशी का अर्थ बेइंतहा आनंद के उस प्यारे से खजाने से है, जिसमें हम सबकी जान बसती है—मेरा नौ महीने का पोता. मेरा परिवार मेरा सुरक्षित ठिकाना है, जिसने हमेशा अपने बिना शर्त प्यार देकर और मेरा साथ निभाकर मुझे मजबूत किया है. उन्होंने मुझे बड़े सपने देखने, अनंत आकाश में ऊंची उड़ान भरने और पारंपरिक सोच को चुनौती देने की अनुमति दी.

एक लीडर के रूप में मुझे अनुयायियों की तुलना में नए बड़े सपने देखने और उन्हें पूरा करने का माद्दा रखने वाले लीडर्स तैयार करने में अधिक खुशी मिलती है. लोगों के जीवन को प्रभावित करने, उद्देश्यपूर्ण जीवन जीने और इस धरती को हमें जैसी मिली थी उससे बेहतर छोड़कर जाने का विचार भी खुशी देने वाला होता है''

हिमंता बिस्वा सरमा 
मुख्यमंत्री, असम

''खुशी के दो आयाम हैं-पेशेवर और व्यक्तिगत. पेशेवर मोर्चे पर जब मुझे कोई कार्य सौंपा जाता है या जनता की भलाई के लिए कोई मिशन हाथ में लेता हूं, तो उसके पूरा होने पर मुझे अपार खुशी मिलती है. चुनौती जितनी कठिन होगी, खुशी उतनी ही अधिक होगी क्योंकि यह अधिक प्रयास और प्रतिबद्धता की मांग करती है. चुनौती का सामना करने की प्रक्रिया में आनंद और उत्साह निहित है.

लक्ष्य प्राप्त हो जाने के बाद मैं एक ब्रेक लेता हूं और कुछ दिनों के लिए एकांत और शांति का आनंद लेता हूं. वे भी मेरी खुशी के पल हैं. व्यक्तिगत मोर्चे पर कहूं तो, मेरी बेटी मेरी खुशी का सबसे बड़ा स्रोत है. काम की व्यस्तताओं से भरे एक दिन के बाद, जब मैं घर लौटता हूं और अपनी बेटी को देखता हूं, तो यह मुझे अद्वितीय खुशी देता है. जब मैं उससे बात करने, उसकी दुनिया को समझने, छोटी-छोटी चीजें एक साथ करने में समय बिताता हूं तो मैं भावनात्मक रूप से संतुष्ट और आनंदित महसूस करता हूं''


''जो चीज मुझे खुश करती है वह है मेरे आस-पास हो रहीं कई दुखद चीजें, जिनकी वजह से मुझे बहुत सारी कहानियां मिल रही हैं''
राम गोपाल वर्मा, फिल्मकार 


प्राजक्ता कोली
यूट्यूबर, क्रिएटर और ऐक्टर 

मुझे लगता है, मेरे लोग मुझे हमेशा खुशी देते हैं. मैं लोगों के मामले में भाग्यशाली रही हूं. मेरे पास हर समय सबसे अद्भुत लोग मौजूद होते हैं—काम पर, घर पर, हर जगह. मेरा काम भी मुझे खुश करता है. मुझे अपने काम से बहुत प्यार है. हर दिन, दूसरे से अलग होता है. मुझे यात्रा करने और नए लोगों से मिलने और अलग-अलग चीजों को आजमाने का मौका मिलता है.

यह चुनौतीपूर्ण, तनाव देने वाला लेकिन बिल्कुल अलग है और मैं आभारी हूं कि यह मेरे लिए खुशी का एक प्रमुख स्रोत है. मेरे पास सबसे अद्भुत दर्शक भी हैं. मुझे लगता है कि मैं इस मामले में भी भाग्यशाली हूं. उन्होंने अच्छे-बुरे हर समय में मेरा साथ दिया है. उन्होंने उतार-चढ़ाव के दौरान मेरा हाथ थामे रखा है और मैंने अब तक जो कुछ भी किया है वह उनके मजबूत समर्थन की बदौलत संभव हुआ है. मेरे लिए खुशी का दूसरा स्रोत भोजन है. मुझे खाना पसंद है, मुझे यात्राएं करना पसंद है. ये ऐसी चीजें हैं जो मेरे लिए खुशी की गारंटी हैं''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें