scorecardresearch
 

विशेषांकः हमने कानून और सामाजिक विज्ञान पर लगभग...

125 विद्यार्थियों के बैच में से 90 छात्रों ने आवेदन किया था और शीर्ष कानून फर्मों में सभी की भर्ती हो गई.

प्रो. एन.के. चक्रबर्ती  प्रो. एन.के. चक्रबर्ती 

लॉ कालेज

द वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जूरिडिकल साइंसेज, कोलकाता

‘‘हमने कानून और सामाजिक विज्ञान पर लगभग 400 ई-पुस्तकों की अपनी लाइब्रेरी तक पहुंच सुनिश्चित की’’
प्रो. एन.के. चक्रबर्ती 
वाइस चांसलर, वेस्ट बंगाल नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जूरिडिकल साइंसेज, कोलकाता

लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद हमने पहली बात यह सुनिश्चित की थी कि अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा पूरी की जाए और जून के अंत तक उनके परिणाम घोषित कर दिए जाएं क्योंकि उस बैच के लिए प्लेसमेंट प्रक्रिया पहले ही पूरी हो चुकी थी और उन्हें जुलाई के पहले सप्ताह में अपनी नौकरियां शुरू करनी थीं.

इस साल, हमारे यहां से 100 प्रतिशत प्लेसमेंट हुआ. 125 विद्यार्थियों के बैच में से 90 छात्रों ने आवेदन किया था और शीर्ष कानून फर्मों में सभी की भर्ती हो गई. शुरुआत में ही, हमने छात्रों को लाइब्रेरी की कानून और सामाजिक विज्ञान की 400 के करीब ई-पुस्तकों तक ऑनलाइन पहुंच सुनिश्चित करा दी और परामर्श सत्र भी आयोजित किए गए. 

विशेषज्ञों के समकालीन कानूनों, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और कॉर्पोरेट कानून पर विशेष ऑनलाइन व्याख्यान कराए गए ताकि वे प्लेसमेंट का समय आने पर छात्रों के लिए मददगार बनें.

चूंकि भौतिक रूप से मॉक कोट्र्स (अदालतों की नकल) आयोजित करना और छात्रों को बहस और अदालती प्रक्रियाओं के लिए तैयार करना किसी लॉ कोर्स के अभिन्न अंग होते हैं, शिक्षकों ने वर्चुअल कोर्ट रूम का आयोजन किया और छात्रों की तैयारी कराई.

अंतिम वर्ष के करीब 100 ऐसे छात्रों को जो दूर-दराज इलाकों के निवासी हैं और इंटरनेट कनेक्टिविटी की परेशानियों का सामना कर रहे थे उनकी मदद के लिए उनका प्लेसमेंट इंटरव्यू कैंपस के माहौल में कराने के लिए एनयूजेएस, कोविड-19 प्रोटोकॉल के दायरे में उन्हें कैंपस लेकर आया.

महामारी के मुश्किल दौर को ध्यान में रखते हुए एनयूजेएस ने अपनी फीस में 30 प्रतिशत की कमी की है.’’

(रोमिता दत्ता  से बातचीत पर आधारित).

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें