scorecardresearch
 

साड़ी है सदा के लिए

हिंदुस्तान के इस पारंपरिक पहनावे का चलन देश भर में बढ़ रहा है. छह गज के इस टुकड़े के इर्द-गिर्द सखियों की पूरी बिरादरी जुट रही है और जिन युवतियों ने कभी साड़ी नहीं पहनी, वे भी इसे निराली स्वच्छंदता से अपना रही हैं.

कूल साड़ी वालियां द साड़ी स्टोरी नाम से फेसबुक पेज चलाने वाली शक्ति खन्ना और उनकी सहयोगी कूल साड़ी वालियां द साड़ी स्टोरी नाम से फेसबुक पेज चलाने वाली शक्ति खन्ना और उनकी सहयोगी

इसके जिक्र से बातचीत जल्दी शुरू हो जाती है. रिश्ता जोडऩे के लिए यह आसान विषय है. बीते वक्त और यादों का दिलकश गुणगान. साड़ी का जलवा बिखरने लगा है. जब 36 बरस की शीतल महाजन राणे ने अच्छे नतीजे देने वाले फ्रीफ्लाइ जंपसूट की जगह नौ गज की गुलाबी नौवारी महाराष्ट्रियन साड़ी पहनी, तो पटाया के उस स्काइडाइविंग सेंटर के अंतरराष्ट्रीय दर्शकों ने दांतों तले उंगली दबा ली और गौर से देखने लगे. यह फरवरी 2018 की बात है. पद्मश्री से नवाजी जा चुकी और 17 राष्ट्रीय तथा छह विश्व रिकॉर्ड धारी राणे ने साड़ी पहने हुए 13,000 फुट की ऊंचाई से छलांग लगाकर अपनी एक और छाप छोड़ी थी. वे बस इतना साबित करना चाहती थीं कि हिंदुस्तानी औरतें किसी भी चीज में महारत हासिल कर सकती हैं. पहनावे की बाधा लांघकर उन्होंने यह साबित भी कर दिया.

तेजदीप कौर मेनन ने जब 1976 में आईना देखा और पाया कि वहां जूनियर कॉलेज के दिनों में अपनी मां की दी हुई गुलाबी और नीले रंग की नारायणपेट साड़ी पहने एक युवती दिखाई दे रही है, तब उन्होंने पलटकर अपने आप से कहा थाः ''एक औरत का जन्म हो चुका है.'' आज 1983 बैच की यह आइपीएस अधिकारी और तेलंगाना की डीजीपी ग्लोबल साड़ी पैक्ट का हिस्सा हैं, जो एक फेसबुक ग्रुप है. इस ग्रुप के 15,000 सदस्य हैं. इन्होंने तय किया है कि चाहे आंधी आए या ओले पड़ें, वे साल में 100 साड़ी जरूर पहनेंगी.

गुरुग्राम में रहने वाली सोशल वर्कर शक्ति खन्ना कहती हैं, ''मेरी पहली साड़ी गुलाबी खांडुआ साड़ी थी, शहतूत के रेशमी धागों से हाथ से बुनी हुई और उस पर कैलिग्राफी में डिजाइन थे. यह मैंने 2005 में मनियाबंध, ओडिशा की एक यात्रा में पहनी थी.'' उन्हें बताया गया था कि ये साडिय़ां इतनी खास थीं कि श्रद्धालु उन्हें पुरी के भगवान जगन्नाथ को पहनाते थे. शक्ति ने 2016 में साड़ी को तरजीह देने वाली मुंबई और चेन्नै की अपनी दोस्तों के साथ एक फेसबुक ग्रुप शुरू किया—द साड़ी स्टोरी—जहां वे तस्वीरें पोस्ट करती हैं और बुनाई और डिजाइन की बातें करती हैं. यह ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां पूरे देश की साडिय़ों का जिक्र होता है.

पुणे की रहने वाली अंजलि साठे-लोवालेकर उस वक्त अपनी खुशी पर काबू नहीं रख पाईं जब कोल्हापुर से बदामी जाते वक्त वे थोड़ा-सा रास्ता बदलकर इल्कल गांव जा पहुंचीं और वहां उनका सामना एक जीती-जागती परंपरा से हुआः गांव के घर-घर में लगे करघे. 'उद्गम स्थल' पर साड़ी देखने की अपनी खुशी का इजहार उन्होंने फौरन 'साड़ी स्पीक' पर किया, जो एक और फेसबुक ग्रुप है और जिसके 90,000 से ज्यादा सदस्य हैं.

दूसरी तरफ कलाकार बकुला नायक का कलेजा उस वक्त मुंह को आ गया जब वे कर्नाटक में उडुपी के नजदीक हेबरी गांव में अपने घर गईं और हथकरघे की एक साड़ी के लिए महज 100 रुपए अदा किए. अंदर लगे टैग पर उडुपी की बुनकर सोसाइटी का नाम लिखा था. फेसबुक के साड़ी ग्रुप 'कई थारी' ने इस जानकारी को हाथोहाथ लिया और विभिन्न लोगों से रकम इकट्ठा की और इस साड़ी को लोकप्रिय बना दिया. बकुला बताती हैं कि उन्होंने गोवा की कुन्बी साड़ी के साथ भी यही किया.

हैशटैग और सोशल ग्रुप में, प्रभावशाली तस्वीरों में, अनजान बुनकरों की कहानियों और अक्सों में हिंदुस्तान के इस छह गज के चमत्कार के कसीदे काढ़े जा रहे हैं. हिंदुस्तानी औरतों की जिंदगी से साड़ी के रुखसत होने का, साड़ी न पहनने के जिद्दी इनकार और वक्त के साथ रंग बदलने की इसकी गिरगिटिया खूबी के रंग-बिरंगे किस्से गढ़े और पढ़े जा रहे हैं.

—साथ में अदिति पै

हमारे जमाने की साड़ी

यह साल 2000 की बात है. बप्पादित्य और रूमी विश्वास अभी एनआइएफटी, कोलकाता से निकले ही थे और अपने सीखने के सिलसिले में अक्सर फूलिया और शांतिपुर जाया करते थे, जो बंगाल हथकरघे की साड़ी के केंद्र हैं. यह वह वक्त था जब बंगाल हथकरघा अपने खराब दौर से गुजर रहा था और बुनकरों को रोटी के लाले पड़े थे. इस दंपती ने देखा कि करघों को टुकड़े-टुकड़े करके उन्हें जलावन के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. खौफनाक बात यह थी कि अपना हुनर अगली पीढ़ी को सौंपने में बुनकर परिवारों की कोई दिलचस्पी ही नहीं थी.

यह वह वक्त भी था जब हिंदुस्तानी औरतें बोर्ड मीटिंग और कॉर्पोरेट पार्टियों में हिस्सा लेने के लिए सार्वजनिक यातायात से आ-जा रही थीं. वे साड़ी को ठुकराकर पहनने में आसान (मर्दाना) कपड़े अपना रही थीं. बाजार में ऐसा कुछ था नहीं जो उनकी इस जीवनशैली के लिए मौजूं पड़ता हो. उसी वक्त इस डिजाइनर दंपती ने एक एक्सपोर्ट कंपनी की अपनी नौकरी छोड़कर साड़ी बनाने की कला को बचाने और दस्तकारों को सहारा देने का फैसला किया.

नए फैब्रिक, बुनाई, टेक्सचर और धागे के साथ इस दंपती ने कई तरह के प्रयोग करने शुरू किए और इस तरह ब्रान्ड 'बाय लोउ' का जन्म हुआ. इसी के साथ उनके नए फैब्रिक—शहतूत के रेशम खुरदुरा मटका या अपेक्षाकृत मुलायम रेशम के धागे के साथ ब्लेंड किया हुआ मोटा घिचा कच्चा सिल्क, कपड़े में इस्तेमाल किए गए चमकीले धागे और रंगों के अनोखे पैलेट शहर भर में चर्चा के विषय बन गए. बड़ी कामयाबी उन्हें 2005 में मिली जब दिल्ली क्राफ्ट काउंसिल की कामायनी जालान ने उनकी साडिय़ां प्रदर्शित कीं: दो दिन में 78 साडिय़ां देखते ही देखते बिक गईं. और फिर शुरू हुई साडिय़ों की एक नई कहानी.                 

''हमें एहसास हुआ कि औरतों को साडिय़ां अब भी बहुत अच्छी लगती हैं पर उन्हें सही साडिय़ां मिल नहीं रही हैं, कुछ ऐसी जो ढेरों काम एक साथ करने वाली इस नई जमाने की औरत के मुआफिक हो. अलहदा किस्म की बुनाई और टेक्सचर की जरूरत थी. हमने केवल इस कमी को पूरा करने में मदद की.''

                                                                                                                                                                                 बप्पादित्य और रूमी विश्वास, बाय लोउ

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें