scorecardresearch
 

रांची: सबके लिए आशियाना

आबादी के दबाव से बचने के लिए झारखंड की राजधानी में बीस मंजिला तक इमारतें बनाने की तैयारी.

रांची में 20 मंजिला इमारत रांची में 20 मंजिला इमारत

नब्बे के दशक में बहुचर्चित टेलीविजन धारावाहिक रामायण में रावण के सेनापति अकंपन का रोल अदा करने वाले बैंक अधिकारी मुरारीलाल गुप्ता ने रिटायरमेंट के बाद अपनी सारी जमा-पूंजी एक ऐसे कारोबार में लगाने की सोची जो मुनाफे का धंधा हो. लेकिन यह धंधा दांवपेच भरा था और वे इस धंधे में नौसिखुआ थे सो उनकी पत्नी ने इसका जमकर विरोध किया. लेकिन गुप्ता ने डेवलपर बनने की ठान ली थी, सो उन्होंने रांची के बीच कचहरी चौक पर अपने पांच कट्ठे की जमीन पर पांच मंजिला अपार्टमेंट बनाने की ठान ली और लोन भी जुटा लिया. उनका पूरा दिन सीमेंट, बालू और ईंट के बीच गुजरता है.

गुप्ता बताते हैं, ''मैं जो बना रहा हूं वह सस्ता, सुलभ और टिकाऊ है. लोग बुकिंग के लिए आ रहे हैं. अब मैं आपको इस धंधे की और भी बारीकियों के बारे में बता सकता हूं.” बेशक उनका यह अपार्टमेंट रांची के रियल एस्टेट के मंजे हुए खिलाडिय़ों की अब तक खड़ी की गईं गगनचुंबी इमारतों के सामने बौना है लेकिन उनके इरादे आकाश को छू रहे हैं और वे उन्हें और भी ऊंचा करने की जुगत में हैं.

बारह साल पहले जब रांची, इस नए राज्य झारखंड की राजधानी बना था, तब बिल्कुल भी ऐसा नहीं था. रांची के बेहतर मौसम की वजह से अंग्रेजों ने इसे विकसित किया था जहां अब भी पुराने जमाने के अंग्रेजों और भद्र बंगालियों के मकान अच्छी संख्या में हैं. लेकिन वह सब कंक्रीट के ऊंचे-ऊंचे जंगलों के बीच खो गए हैं.

ऊंचाई के मामले में रांची कहीं भी दिल्ली जैसे मेट्रो का मुकाबला करता हुआ नहीं दिखता लेकिन यह आने वाले समय में थ्री टियर शहरों को ऊंचाई के मामले में मात न दे सके, ऐसा भी नहीं कहा जा सकता. शहर के अति व्यस्ततम लालपुर इलाके का आठ मंजिला हरिओम टावर जो कारोबारी गतिविधियों का सबसे बड़ा केंद्र है या फिर कांके रोड का पंचवटी प्लाजा, उमा शांति अपार्टमेंट श्रीराम गार्डन या फिर रश्मिरथी अपार्टमेंट से रांची की आकाश छूती ग्रोथ का जबरदस्त नजारा लिया जा सकता है. ये टॉवर शहरी अभिजात्य का पसंदीदा ठौर हैं.

सालभर पहले तक सुनसान इलाका समझे जाने वाले कांके रोड पर आज तकरीबन एक दर्जन ऊंची इमारतों के ढांचे खड़े हो रहे हैं. इसी इलाके की आठ मंजिला इमारत रश्मिरथी की आखिरी मंजिल पर रह रही और निजी संस्थान में काम करने वाली पूजा हरित कहती हैं, ''आपको इतनी ऊंचाई से शहर को देखने और शाम को डूबते हुए सूरज को निहारने का मजेदार मौका मिलता है. यही इस अपार्टमेंट की सबसे खास बात भी कही जा सकती है.”

फिलहाल रेजिडेंशियल इमारतों में उमा शांति 12 मंजिलों के साथ सबसे ऊंचा अपार्टमेंट है जबकि 13 से लेकर 20 मंजिला अपार्टमेंट्स पर तेजी से काम चल रहा है. वहीं कशिश डेवलपर की योजना रांची में तकरीबन 10 एकड़ में निर्माणाधीन सेल सिटी में 20 मंजिला अपार्टमेंट बनाने की है.

कशिश डेवलपर के मैनेजर रजनीश बताते हैं. ''डुप्लेक्स मकान वाले मुहल्ले बसाने से बेहतर है कि आप हर तरह की सुविधाओं से लैस ऊंचे अपार्टमेंट बनाएं. एक अपार्टमेंट में अपने आप में पूरा मुहल्ला बसता है. आप ऐसे में उच्च और मध्यम आय वर्ग, दोनों को ही मकान उपलब्ध करवा सकते हैं.”

ऊंचे अपार्टमेंट के मामले में रांची मेट्रो की राह पर चल रहा है. तकरीबन 30 लाख की आबादी वाले इस शहर में ऐसा होने के कई कारण हैं. रांची के उद्यमी और निर्माण व्यवसाय से जुड़े चंद्रकांत रायपथ इसकी वजह बताते हैं, ''रांची की आबादी बेतहाशा बढ़ रही है और जमीन सीमित है. शहरी इलाकों पर आबादी का जबरदस्त दबाव बढ़ चुका है, ऐसे में यही एक रास्ता बचता है.” सिंह मोड़, पिस्का, हवाई नगर, ओरमांझी, नगरी, कांके देहात, धुर्वा, बूटी मोड़ और रिंग रोड रांची के नए उभरते इलाके हैं, जहां तकरीबन डेढ़ दर्जन से अधिक योजनाओं पर काम चल रहा है.

झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री के सदस्य मनोज नरेदी कहते हैं, ''जब साल 2000 में झारखंड का गठन हुआ था उस समय रांची में रियल एस्टेट का कारोबार महज 150 करोड़ रु. के आसपास था जो अब तकरीबन 1,500 करोड़ के आंकड़े को पार कर चुका है.” रांची में ही तकरीबन 200 छोटे-बड़े बिल्डर इस कारोबार में लगे हैं. ये सभी नवविकसित इलाके मुख्य रांची से 20 से 30 किलोमीटर की दूरी पर हैं जो मध्यम वर्ग के लोगों के लिए सब से मुफीद जगह है.

2005 में रियल एस्टेट डेवलपर गौतम ग्रीन सिटी ने रांची के बाहरी इलाके बूटी मोड़ में पहले टाउनशिप का निर्माण शुरू किया. 30 एकड़ में फैले गौतम ग्रीन सिटी में अभी तक 10 एकड़ पर निर्माण कार्य हो चुका है जिस पर अधिकतर बंगले और डुप्लेक्स हैं और सारे के सारे आवास बिक चुके हैं. रांची के बाहरी इलाके (हवाई नगर और पिस्का) में आज भी 20-25 लाख रु. में तीन कमरों का एक फ्लैट मिल जाता है जबकि रांची के अंदर (अशोक नगर, कांके रोड और लालपुर) की बात करें तो वहां सालभर पहले जो फ्लैट 30-35 लाख रु. का हुआ करता था, अब वह 50-55 लाख रु. पर पहुंच गया है.

गौतम ग्रीन के प्रोजेक्ट मैनेजर राजेश सिंह कहते हैं, ''अब हम ऊंचे अपार्टमेंट को अधिक तरजीह दे रहे हैं. हमारा उपभोक्ता वर्ग मध्यमवर्गीय है जो अपनी रांची में एक अदद ठिकाना चाहता है. रांची अब उभरता हुआ व्यावसायिक केंद्र बन चुका है, इस लिहाज से बड़े और ऊंचे मॉल और बिजनेस कॉम्प्लेक्स बन रहे हैं.” अब यह विस्तार फैलाव में नहीं बल्कि ऊंचाइयों  की ओर हो रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें