scorecardresearch
 

रायपुर: एक फ्लैट हो न्यारा

शहर के लोगों की पसंद अब बंगले नहीं, हाइराइज बिल्डिंगों में बने फ्लैट हैं. इसकी वजह है अच्छी सोसाइटी मिलना और सुरक्षित माहौल.

जब बंगलों की जगह फ्लैट लेने लगे तो मान लेना चाहिए कि अब जमाना बदल चुका है. पुख्ता सुरक्षा इंतजाम और अपेक्षाकृत कम खर्चीले रख-रखाव की वजह से हाइराइज अपार्टमेंट रायपुर के लोगों के पसंदीदा आशियाना बनते जा रहे हैं. आलम तो यह है कि रायपुर में सरकारी अधिकारी भी अब अपने भव्य सरकारी बंगलों का मोह छोड़ फ्लैटों को ठिकाना बना रहे हैं.

यहां के करिश्मा अपार्टमेंट के तीन कमरों के फ्लैट में रहने वाले भारतीय वन सेवा के अधिकारी और रायपुर के वन मंडलाधिकारी एस.एस.डी. बडग़ैया कहते हैं, ''सुरक्षा के लिहाज से अपार्टमेंट का कोई जवाब नहीं है. फिर यहां पर हमें बढिय़ा सोसाइटी भी मिल जाती है. यही वजह है कि जो लोग महंगे बंगले खरीदने में सक्षम हैं, वे भी अब फ्लैटों को ही अहमियत दे रहे हैं.”

अपार्टमेंट की मांग का ही तकाजा है कि रायपुर में अब स्वतंत्र मकानों की तरह डुप्लेक्स यानी दो मंजिला फ्लैट भी बनने लगे हैं. इतना ही नहीं, बड़े परिवारों के लिहाज से पांच बेडरूम वाले फ्लैट भी उपलब्ध हैं. जैसी जरूरत वैसा आशियाना आपको यहां मिल जाएगा, इतना तो तय है.

मोवा इलाके में बने कई फ्लैटों में मेट्रो शहरों के स्तर की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं. मसलन, ग्रीन मिडोस अपार्टमेंट में गैस सप्लाइ के लिए पाइपलाइन लगी है जबकि ग्रीन एवेन्यू अपार्टमेंट के क्लब हाउस में लग्जरियस गेस्ट हाउस भी बना है, जहां आप अपने मेहमानों को ठहरा सकते हैं. क्रॉस विंड अपार्टमेंट में एक करोड़ रु. तक के फ्लैट हैं. राज्य हाउसिंग बोर्ड के आइएएस कमिश्नर सोनमणि बोरा कहते हैं, ''कई स्थानों पर बोर्ड के फ्लैट स्वतंत्र मकानों से भी पहले बुक हो चुके हैं. यही नहीं, हाउसिंग बोर्ड के अधिकांश प्रोजेक्ट फ्लैट वाले ही हैं.”

वैसे तो रायपुर के अमूमन सभी इलाकों में हाइराइज इमारतें बन रही हैं मगर खुली जगह, सुगम यातायात और औद्योगिक क्षेत्रों से बेहतर कनेक्टिविटी होने की वजह से रायपुर के विधानसभा रोड इलाके में हाइराइज बिल्डिंगों का बूम आ गया है. हाइराइज अपार्टमेंट्स और टाउनशिप्स ने इस इलाके की पूरी तस्वीर ही बदल डाली है. पिछले पांच साल में इस क्षेत्र में सरकारी, गैर सरकारी मिलाकर करीब 10,000 मकान बने हैं. इनमें आधे से अधिक फ्लैट हैं.

पायनियर होम के भागीदार और कनफेडरेशन ऑफ रियल एस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (क्रेडाइ) के ज्वांइट सेक्रेटरी रमेश राव कहते हैं, ''लोग फ्लैट्स को इसलिए प्राथमिकता दे रहे हैं क्योंकि ये किफायती, सर्व-सुविधायुक्त और सुरक्षित होते हैं.” असल में, रायपुर के सबसे बड़े औद्योगिक क्षेत्र उरला, भनपुरी और सिलतरा का विधानसभा रोड इलाके से बढिय़ा और सीधा रास्ता है. उरला, भनपुरी और सिलतरा में 200 से अधिक रोलिंग मिलें और स्पंज आयरन कारखाने हैं. स्पंज आयरन की फैक्टरियों के मामले में रायपुर ने देश के स्टील मंडी कहे जाने वाले पंजाब के मंडी गोविंदगढ़ को पछाड़ा है. यहां हर साल 35 से 40 लाख टन स्पंज आयरन का उत्पादन होता है.

विधानसभा रोड पर ही बने रायपुर के सबसे बड़े बंगाल अंबूजा शॉपिंग मॉल का काम लगभग पूरा होने वाला है. यहां छत्तीसगढ़, पूर्वी विदर्भ और पश्चिमी ओडिसा का सबसे बड़ा कपड़ा बाजार पंडरी भी है. विधानसभा रोड का इलाका तेजी से एजुकेशन हब के रूप में भी स्थापित हो रहा है. यहां डीपीएस, ज्ञानगंगा, गोयल पब्लिक स्कूल, दिशा कॉलेज समेत तीन प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज भी हैं.

मध्य भारत का महत्वपूर्ण आइ हॉस्पिटल एमजीएम भी विधानसभा रोड पर ही बना है. यहां, सांइस सिटी भी बनकर तैयार है. यही वजह है कि पिछले पांच साल में यहां जमीन और मकानों की कीमतें तीन से चार गुना बढ़ गई हैं. इस इलाके में 2006-07 में जिन फ्लैट्ïस की कीमत 600-700 रु. प्रति वर्ग फुट थी, अब उन्हीं फ्लैटों की कीमतें 2,600-3,000 रु. प्रति वर्ग फुट हो गई है. आरती बिल्डकॉन के प्रोप्राइटर राजीव अग्रवाल कहते हैं, ''इलाके का एजुकेशन हब होना और कम ट्रैफिक लोगों को आकर्षित कर रहा है.” ग्रीन ऑर्चड में रहने वाले इमामी सीमेंट के महाप्रबंधक ए.के. शुक्ल कहते हैं, ''यहां इलाके में शांति है और यहां की लोकेशन भी बहुत अच्छी है. इसी वजह से रायपुर में यह जगह मुझे सबसे ज्यादा पसंद आती है.”

वर्टिकल ग्रोथ यानी हाइराइज इमारतों और फ्लैट सिस्टम के लोकप्रिय होने की एक वजह यह भी है कि अब शहर के भीतर जमीन बहुत कम बची है. स्वतंत्र मकान बनाने के इच्छुक लोगों को शहर के आउटर का रुख करना पड़ता है, जहां से आवागमन की दिक्कत पेश आती है, जबकि फ्लैट शहर के भीतर ही मिल जाते हैं.

वीआइपी ग्रुप के चैयरमैन राकेश पांडेय के मुताबिक फ्लैट सिस्टम के लोकप्रिय होने की एक अन्य वजह, ''शहर में पांच कमरों के स्वतंत्र मकान की कीमत जहां डेढ़ करोड़ रु. के करीब होगी वहीं इतना ही बड़ा फ्लैट उससे कम कीमत में आसानी से मिल जाएगा. स्वतंत्र मकान में यह संभावना भी होती है कि पांच कमरे अलग-अलग मंजिलों पर बंटें हो जबकि फ्लैट में सभी कमरे एक ही फ्लोर पर होने की सुविधा होती है.”

हाइराइज इमारतें रायपुर के उच्चवर्गीय और मध्यमवर्गीय लोगों को खास तौर से लुभा रही हैं. इसकी एक वजह यह भी है कि अच्छी लोकेशन पर बने फ्लैट्ïस में निवेश फायदे का सौदा साबित हो रहा है. पांच साल पहले हाउसिंग बोर्ड में साढ़े आठ लाख रु. का फ्लैट खरीदने वाले इंजीनियर एन.के. शर्मा बताते हैं कि आज के समय में उनके फ्लैट की कीमत 30 लाख रु. हो चुकी है जबकि पृथ्वी कंस्ट्रक्शन के शैलेश वर्मा कहते हैं, ''ऊंची इमारतों का फायदा यह है कि इनमें कम जमीन की जरूरत होती है.”

रायपुर की हाइराइज इमारतों के निर्माताओं में प्रमुख हैं मर्लिन प्रोजेक्ट, वीआइपी ग्रुप, अविनाश बिल्डर्स, अशोक रतन, जीटी कंस्ट्रक्शन, सृष्टि कंस्ट्रक्शन. शहर में सबसे ऊंची इमारत है जीई रोड स्थित आठ मंजिल की सिंगापुर सिटी. इसके बिल्डर मर्लिन प्रोजेक्ट के सुबोध सोमानी दावा करते हैं, ''हमारी टाउनशिप में क्रिकेट पिच से लेकर गोल्फ  कोर्स तक वर्ल्ड क्लास सुविधाएं  मौजूद हैं.” इस इलाके में पांच साल पहले जमीन की कीमत 250-300 रु. प्रति वर्ग फुट थी जो अब 1,000-1,200 रु. प्रति वर्ग फुट तक पहुंच गई है.

तेजी से विकास कर रहा रायपुर का दूसरा इलाका है भिलाई को जोडऩे वाला नेशनल हाइवे-6 और रिंग रोड का इलाका. रायपुर मेन सिटी से 7-8 किमी दूर इस क्षेत्र में कई बड़े टाउनशिप आए हैं जबकि कुछ प्रस्तावित हैं. इस इलाके का एक प्रमुख बिल्डर अविनाश ग्रप है. लगभग 100 करोड़ रु. सालाना टर्न ओवर वाले अविनाश ग्रुप के इस इलाके में आधा दर्जन से ज्यादा प्रोजेक्ट चल रहे हैं. इनमें मारुति प्राइड, मारुति लाइफ स्टाइल प्रोजेक्ट अभी चल रहे हैं जबकि मारुति विहार, मारुति हाइट, मारुति कॉन्क्लेव और अशोका विहार प्रोजेक्ट पूरे हो चुके हैं. इस ग्रुप के मालिक आनंद सिंघानिया बताते हैं, ''चार साल पहले इस इलाके में हमने जो फ्लैट 17-18  लाख रु. में बेचा था उसकी कीमत अब 30 लाख रु. हो गई है.”

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें