scorecardresearch
 

कोटा: किफायती मंजिलें कोटा की

कोचिंग नगरी में नौ-दस मंजिला रिहाइशी इमारतों की जमकर धूम. गगनचुंबी इमारतों में रहने के विकल्प को तवज्जो दे रहे लोग.

कोटा कोटा

कभी उद्योग नगरी के नाम से पुकारा जाने वाला कोटा शहर अब देश में शिक्षा या कोचिंग नगरी के नाम से जाना जाता है. शिह्ना के लिए बाहर से आने वाले छात्रों ने शहर की रूपरेखा ही बदल डाली है. यही वजह है कि अब यहां मल्टीस्टोरी बिल्डिंग का चलन तेजी से बढ़ता जा रहा है. बीते डेढ़ दशक में कोटा में मल्टीस्टोरी बिल्डिगें और फ्लैट्स खरीदने का रुझन तेजी से बढ़ा है. आज यहां मल्टीस्टोरीज में 15 से 90 लाख रु. तक के फ्लैट्स उपलब्ध हैं.

कोटा शहर की तकरीबन सभी दिशाओं में यानी जहां जगह सुलभ हुई, मल्टीस्टोरी बिल्डिंगें खड़ी हो गईं. सबसे ज्यादा मल्टीस्टोरी इमारतें और एन्क्लेव रेलवे स्टेशन, बूंदी-जयपुर रोड, श्रीनाथपुरम रोड नं. 1, तलवंडी, मालारोड, अनंतपुरा, नई धानमंडी, राजीव नगर इलाकों में हैं. कोटा में अधिकतम 10 मंजिला बिल्डिंग बनी हैं या निर्माणधीन हैं. सबसे ऊंची और पुरानी मल्टीस्टोरी महालक्ष्मी एन्क्लेव है. 516 फ्लैट्स वाले महालक्ष्मी एन्क्लेव को बनाने वाले वास्तुवेदिक कॉलोनाइजर्स ऐंड डेवलपर्स के निदेशक सत्येंद्रपाल सिंह कहते हैं, ''2006 में जब फ्लैट्स बनकर तैयार हुए उस वक्त यह राजस्थान की सबसे बड़ी ग्रुप हाउसिंग कॉलोनी थी.”

महालक्ष्मी एनक्लेव में रहने वाले हरसिंदर पाल साहनी बताते हैं, ''अकेले घर को आप सूना छोड़कर नहीं जा सकते. पर यहां तो ताला लगाकर कितने भी दिन बाहर घूम सकते हैं. यहां माहौल दोस्ताना है.” यहां बन रही गगनचुंबी इमारतों में स्विमिंग पूल, योग सेंटर, बैडमिंटन कोर्ट से लेकर कम्युनिटी हॉल जैसी सभी सुविधाएं मौजूद हैं. पानी, बिजली, सुरक्षा जैसी कई मूलभूत सुविधाओं की वजह से कोटा में मल्टीस्टोरी फ्लैट्स संस्कृति बढ़ती जा रही है. महालक्ष्मी एन्क्लेव के सामने नौ मंजिला महालक्ष्मीपुरम में भी तकरीबन 800 फ्लैट्स हैं.

कॉमॢशयल बिल्डिंगों में सबसे ऊंची सिटी कॉल पांच मंजिला बिल्डिंग है, जो 18 मीटर ऊंचाई तक बनी है और पूरी तरह आबाद है. वाइब्रेंट कोचिंग की भी छह मंजिला इमारत है. उप-नगरनियोजक संदीप दंडवते बताते हैं, ''आकाश सिनेमा में बन रहे कॉमॢशयल कॉम्प्लेक्स को 30 मीटर ऊंचाई तक मंजूरी मिली है.” कोटा में ओम मेटल्स इन्फ्राप्रोजेक्ट्स में 100 करोड़ रु. से ज्यादा की लागत से 1,100 फ्लैट्स का काम चल रहा है. मल्टीस्टोरी में फ्लैट्स बनाने वाले बिल्डर और रहने वाले सभी इन फ्लैट्स को किफायती और बेहतर बताते हैं. कोटा में इस समय आठ-नौ मंजिला इमारतों में करीब 3,000 फ्लैट्स का निर्माण चल रहा है. बताया जाता है कि इन पर 2,000 करोड़ रु. से ज्यादा का निवेश हुआ है.

अगर यहां निवासियों की नजर से देखें तो सुरक्षा, शांति और महंगाई के दौर में किफायत और बिखरते समाज को एकसूत्र में बांधने का जरिया बन रही है मल्टीस्टोरी फ्लैट्स सोसाइटी. इन सब फायदों से खरीदार भी संतुष्ट हैं और बिल्डर्स तथा डेवलपर्स की भी पौ बारह. नगर विकास न्यास कम आय वालों के लिए तीन-चार मंजिला फ्लैट्स बना रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें