scorecardresearch
 

आपकी वाली चाय

चायोज का हर कप कस्टमर की मांग पर बनता है. देसी चाय सबसे ज्यादा पसंद की जाती है. इसके 12 फ्लेवर हैं. लेकिन दूध, चायपत्ती, शक्कर आदि के अनुपात को बदलकर 12,000 तरह की चाय बनाई जा सकती है

राजवंत रावत राजवंत रावत

अमेरिका के ह्यूस्टन में एक सुबह मैं और मेरी पत्नी एक रेस्तरां से नाश्ता करके निकल रहे थे तो मेरा चाय पीने का मन किया, क्योंकि मैंने थोड़ा स्पाइसी नाश्ता किया था. लेकिन मैं यह भी जानता था कि यहां चाय नहीं मिलेगी. चाय की इस हुड़क के साथ ही मेरे जेहन में एक सवाल उठा कि क्या हमारे देश में मुझे कहीं अच्छी चाय मिलेगी?"

चायोस के फाउंडर नितिन सलूजा बताते हैं, ''मैं सोचने लगा कि दिल्ली, मुंबई या लखनऊ में कोई ऐसी जगह है जहां ''मेरी वाली टाइप्य चाय मिल सके?" उनके जेहन में एक ही सवाल बार-बार कौंध रहा था कि चाय जैसी कॉमन चीज के लिए लोग आखिर घर या फिर किसी चाय की दुकान पर ही क्यों निर्भर करते हैं? मजेदार बात यह रही कि सवाल के साथ-साथ जवाब भी उनके भीतर से ही उभरने लगा था. मसलन, कहीं ऐसा तो नहीं कि चाय का कॉमन टेस्ट न होने के कारण किसी ने इस ओर अब तक गौर नहीं किया? सिलसिला यहीं नहीं थमा, उनके भीतर इन जवाबों के साथ फिर सवाल उठे, हर किसी को क्या यह ''मेरी वाली चाय" देना आसान है? कहीं ऐसा तो नहीं कि चाय की इमेज हमारे दिमाग में इतनी सस्ती है कि किसी ने इस पर काम करने की जरूरत नहीं समझी? ह्यूस्टन की उस सुबह ने कई सवाल और जवाब चायोस के फाउंडर के भीतर पैदा कर दिए. कुल मिलाकर नितिन के दिमाग में सवालों और जवाबों का भंडार-सा इकट्ठा हो गया. वे एक जवाब खोजते तो फिर उसी से लगा कोई नया सवाल खड़ा हो जाता. पर इसी सिलसिले ने उन्हें चायोस की कल्पना करने के लिए प्रेरित किया.

इसी ऊहापोह के बीच उनके दिमाग में ''मेरी वाली चाय" का कॉन्सेप्ट पकना शुरू हो गया. एक इंजीनियर का जैसा सिंपल एनालिटिकल माइंड सेट होता है, वैसे ही उन्होंने काम करना शुरू किया. दिन-रात रिसर्च करनी शुरू की तो बहुत जल्दी उन्हें पता लग गया कि इस कॉन्सेप्ट पर कुछ लोगों ने काम करने की कोशिश की थी. लेकिन उन लोगों की शुरुआत ठीक नहीं थी. उन्होंने कुछ महीने नहीं बल्कि फरवरी 2010 से फरवरी 2012 यानी पूरे दो साल रिसर्च की. प्रजेंटेशन बनाए, एक्सेल शीट तैयार की, किसी और के लिए नहीं बल्कि खुद के लिए.

नितिन के शब्दों में, ''अपने ही प्रजेंटेशन को देखकर मैंने कई बार कहा कि नहीं, अभी कुछ तो कमी है. यह वह प्लान नहीं जो मेरे दिल तक पहुंचे." वे बिल्कुल एक पारखी कस्टमर की तरह ''मेरी वाली चाय" की खोज में लग गए. आखिरकार दो साल की जद्दोजहद के बाद उन्हें लगा कि अब इस सपने को साकार करने का समय आ गया है. मई 2012 तक उनके मन में यह पक्का हो गया कि अब उन्हें चाय बेचनी ही है. उन्होंने एक अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी की अपनी नौकरी छोडऩे का मन बना लिया. लेकिन एक सीनियर के कहने पर उन्होंने जॉब को पूरी तरह से न छोड़कर दिसंबर तक पार्ट टाइम कर दिया. नवंबर 2012 में उन्होंने अपना पहला स्टोर गुडग़ांव साइबर सिटी में खोला. जल्दी ही उन्हें समझ में आ गया कि चायोस और नौकरी, दोनों एक साथ संभव नहीं है.

लेकिन सब कुछ इतना आसान भी न था. दरअसल जब उन्होंने नौकरी छोडऩे का फैसला किया, उस वक्त उनकी पत्नी प्रेग्नेंट थीं. उनकी पहली संतान होने वाली थी. घरवालों को लगा कि यह एक बेवकूफी भरा कदम होगा. जैसा कि एक मिडिल क्लास फैमिली में होता है, वैसा ही हुआ. उस वक्त के वाकयात को याद करते हुए वे बताते हैं, ''मैं लखनऊ का रहने वाला हूं. हर कोई मुझे बताने लगा कि आइआइटी करना, फिर अच्छी जॉब पाकर नौकरी छोड़कर बिजनेस करना बेवकूफी होगी. और जब पत्नी प्रेग्नेंसी के दौर में हो, ऐसे वक्त में तो यह फैसला बिल्कुल भी ठीक नहीं. पापा तो इस फैसले से खासे अपसेट थे."

नितिन के पापा ने भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है. उन्होंने पॉलिटेक्निक से इंजीनियरिंग की थी. हालांकि उन्होंने भी कुछ महीने पीडब्ल्यूडी में जॉब करने के बाद बिजनेस ही किया. वे आयरन और स्टील का बिजनेस करते हैं. वे बताते हैं, ''पापा ने पॉलिटेक्निक से इंजीनियरिंग की थी और मैंने आइआइटी. इसलिए पूरे परिवार के लिए यह गर्व की बात थी. परिवार में आइआइटी तक पहुंचने वाला मैं पहला इनसान हूं. इसलिए भी मेरा नौकरी छोड़कर बिजनेस करना ज्यादा खल रहा था. हालांकि थोड़ी बहुत मान-मनौअल के बाद धीरे-धीरे सब मान भी गए." हालांकि नितिन अपनी पत्नी योशा का जिक्र करते हुए कहते हैं कि वे पहले दिन से साथ थीं. फिर उनकी दोनों बहनों ने भी पापा को समझाया. मां भी सपोर्ट में आ गईं. नितिन चायोस के सफर के साथ अपने दोस्त और बिजनेस पार्टनर राघव वर्मा का जिक्र करना नहीं भूलते. वे कहते हैं चायोस के सपने को गाढ़ा करने का काम राघव ने किया.  

नितिन चायोस की कल्पना के पीछे मां का बड़ा हाथ बताते हुए कहते हैं, ''सच तो यह है कि इस कॉन्सेप्ट में मेरी मां की अहम भूमिका है." दरअसल उनकी मां ने आठ साल की उम्र में ही उन्हें चाय बनानी सिखा दी थी. जब भी उनकी सहेलियां आतीं तो चाय वे ही बनाते. सबको उनके हाथ की चाय इतनी अच्छी लगती कि वे नितिन के हाथ की ही चाय की डिमांड करतीं. बस वहीं से धीरे-धीरे यह बात उनके भीतर कहीं गहरे बैठ गई कि ''मैं बेहतरीन चाय बनाता हूं."

हालांकि चायोस के कॉन्सेप्ट से पहले भी वे दो और इनोवेशन के बारे में सोच चुके थे. पहला वेस्ट मैनेजमेंट और दूसरा होम डिपो. होम डिपो यानी एक ऐसा स्टोर जहां आपको घर बनाने की हर चीज मिले. सीमेंट से लेकर सैनिटरी वेयर तक, किचन से लेकर गार्डन के सामान तक. लेकिन जब उन्होंने अपने पापा से इन दोनों आइडियाज का जिक्र किया तो उन्होंने इन्हें खारिज कर दिया. इसीलिए चायोस का आइडिया उन्होंने पापा से डिस्कस ही नहीं किया.

नितिन चायोस का मेन्यू हाथ में लेकर बताते हैं कि लोग सबसे ज्यादा देसी वाली चाय पसंद करते हैं. दरअसल इसे हर कस्टमर की मांग के हिसाब से बनाया जाता है. शक्कर, चायपत्ती, दूध का अनुपात चायोज के हर कप में वही होता है जो कस्टमर को चाहिए. ''आपको यकीन न होगा, मेरा मानना है कि इस तरह से 12,000 प्रकार की चाय बन सकती है. चाय के साथ हमने खाने में भी प्रयोग किए. जैसे एमपी का पोहा, मुंबई के बन मस्के की कल्पना केवल चायोस में ही की जा सकती है." सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज नितिन एक बड़ा मजेदार किस्सा बताते हैं.

जब चायोस शुरू हुआ तो लोग आकर उनसे पूछते कि यह किस विदेशी ब्रान्ड की चेन है? आश्चर्य वाली बात यह है कि जिस देश में घर-घर चाय पी जाती हो, वहां के लोगों को यह लगता ही नहीं था कि भारत का ही कोई इनसान ऐसा आइडिया यहां ला सकता है. नितिन बताते हैं, ''लोगों के इस सवाल ने उन्हें पूरी तरह आश्वस्त कर दिया कि उन्होंने एक ऐसी सोच को साकार कर दिया है जिसका इंतजार तो लोगों को था, मगर यह यकीन नहीं था कि उसे कोई भारतीय साकार कर सकता है." फिर क्या था, एक चायोज से शुरू हुआ सफर 53 स्टोर तक जा पहुंचा.

गुरुग्राम के गैलेरिया मार्केट में चायोस के स्टोर में बैठकर चाय की चुस्की के साथ वे हंसते हुए कहते हैं, ''किसी महान शख्स ने कहा है न, ''अब चाय का समय आ गया है."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें