scorecardresearch
 

इंदिरा गांधीः कतार में सबसे आगे

देश की सबसे ताकतवर प्रधानमंत्रियों में से एक, लेकिन इमरजेंसी उनकी सबसे बड़ी कमजोरी साबित हुई.

इंदिरा गांधी (1917-1984) इंदिरा गांधी (1917-1984)

हमारे देश की सरकारों का जो भी रंग और वैचारिक झुकाव रहे, वे सब की सब पलटकर इंदिरा गांधी की ही तरफ देखेंगी. उन्होंने समझदारी के वे मानक स्थापित किए जो किसी भी सत्तारूढ़ पार्टी के चेहरे का हिस्सा होने चाहिए. वे उस दौर में गढ़े गए थे जब उनके अपने अस्तित्व के लिए खासे संकट की घड़ी थी. भारत ने बहुत तरक्की कर ली है और उसका मध्यवर्ग खासा बढ़ गया है. लेकिन करोड़ों लोग अब भी भीषण गरीबी में या फिर भयानक तंगहाली में जीवन गुजार रहे हैं.

यही वजह है कि इंदिरा की नीतियां अब भी प्रासंगिक हैं और उन्हें नरेंद्र मोदी सरीखे खालिस कांग्रेस विरोधी भी अपनाते हैं (भाजपा का आधिकारिक मकसद 'कांग्रेस-मुक्त भारत' बनाना है). यह इस बात को रेखांकित करने का वक्त है कि देश के लिए इंदिरा की नीतियों के क्या मायने हैं. गरीबी खत्म करने की नीतियों में वे उपाय शामिल होने चाहिए जो गरीबों की तात्कालिक जरूरतों को पूरा कर सकें.

जिस देश में किसान खेती के लिए बारिश पर बेतहाशा निर्भर हों, जहां जमीन के छोटे-से टुकड़े पर बहुत सारे लोग निर्भर हों, वहां एक सूखा भी जीवन-मरण का सवाल बन जाता है. उपयोगी बुनियादी ढांचा खड़ा करने में किसानों के श्रम का इस्तेमाल करने के लिए नरेगा जैसा कार्यक्रम कांग्रेस सरकारों ने गलतियों से सीख-सीखकर विकसित किया था.

दूसरी बात, राजनैतिक वाकपटुता में इस बात का हमेशा ध्यान रखा जाना चाहिए कि देश में अमीरों से कहीं ज्यादा संख्या में गरीब हैं. ऐसे में भले ही व्यापक निवेश और निर्माण को प्रोत्साहन देकर आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने के लिए कदम उठाए जाएं लेकिन नीतिगत जोर हमेशा गरीबी को दूर करने पर होना चाहिए.

इंदिरा के लिए राजवंशजों के प्रिवी पर्स को समाप्त करना अहम फैसला था क्योंकि इससे यह संकेत गया कि वे संपन्न तबकों को उनकी सुविधाओं से वंचित करके गरीबों के लिए बड़ी लड़ाई लडऩे को तत्पर हैं. यह वंचित तबकों के लिए मरहम के समान था क्योंकि इससे उन्हें मनोवैज्ञानिक रूप से बल मिला.

इंदिरा की तीसरी बात यह जाहिर करने की थी कि चाहे नेता के पास जितने भी अधिकार और शक्तियां हों पर वह एक साधारण जिंदगी जीता हो. इंदिरा के पास आला दर्जे की बौद्धिक संगत के साथ अपनी नजदीकी रखने या दिखाने की जितनी भी इच्छा या शिष्टता हो, लेकिन वे वाकई एक बहुत ही सामान्य तरीके से जीवन बिताती थीं और वे सबसे ज्यादा खुश अपने परिवार, खासतौर पर अपने पोतों के साथ, समय बिताने में होती थीं.

आज के दौर में आम आदमी पार्टी के अरविंद केजरीवाल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, दोनों ही खुद को सामान्य व्यक्ति के रूप में पेश करने की कोशिश करते हैं—अरविंद हमेशा केवल एक बुशर्ट पहनकर तो मोदी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाओं में सीखे योग आधारित जीवन को प्रचारित-प्रसारित करके.

(लेखक वरिष्ठ स्तंभकार, पत्रकार और द स्टेट्समैन अखबार के पूर्व संपादक हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें