scorecardresearch
 

अनजाने नायकः साइबर संतरी

प्रभु मंगलूरू के सहयाद्रि कॉलेज ऑफ इंजीनिय‌रिंग ऐंड मैनेजमेंट में कंप्यूटर साइंस और इंजीनिय‌रिंग भी पढ़ाते हैं. उनका कहना है कि साइबरस्पेस में महिलाओं की सुरक्षा सुनि‌श्चित करने की दिशा में ई-बुक और वर्कशॉप पहला कदम है.

आदर्श युवा  मंगलूरू के सहयाद्रि कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग ऐंड मैनेजमेंट में छात्रों के साथ प्रभु आदर्श युवा मंगलूरू के सहयाद्रि कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग ऐंड मैनेजमेंट में छात्रों के साथ प्रभु

अनंत प्रभु जी., 34 वर्ष

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ, मंगलूरू

अनंत प्रभु ने कर्नाटक स्टेट पुलिस एकेडमी और कर्नाटक जूडिशियल एकेडमी में 2011 से साइबर सुरक्षा के गेस्ट फैकल्टी के तौर पर महिलाओं के खिलाफ साइबर अपराध के बारे में जितना सीखा है, वह सारी जानकारी उन्होंने लोगों के साथ साझा की है. अनंत प्रभु कहते हैं, ''मैं यह सोचकर डर गया था कि अगर इस तरह का अपराध मेरे परिजन या दोस्तों के साथ हुआ तो क्या होगा.

लिहाजा, मैंने रोजाना #साइबरसेफगर्ल पोस्ट डालना शुरू किया, जिसमें साइबर अपराधों का खुलासा करने के लिए इन्फो-टून का इस्तेमाल किया गया है. मैंने इसमें अपराधियों के तौर-तरीके और उनसे बचने के उपायों के बारे में बताया है.''

जब 2018 में एक समान साइबर अपराधों—महिलाओं की ओर से मदद की गुहार के लिए किए गए फोन कॉल के आधार पर—की संख्या 15 हो गई तो अनंत प्रभु ने सबको एक साथ रखकर इसी नाम की एक पुस्तक की शक्ल दे दी. जब नए अपराध सामने आए तो उन्होंने इस साल 10 और जोड़कर पुस्तक का दूसरा संस्करण लॉन्च कर दिया.

प्रभु का कहना है, ''मेरा मानना है कि इन्फो-टून ने पाठकों पर गहरा असर डाला है, और अब वे ऑनलाइन किसी भी या हर चीज पर क्लिक करने से पहले सोचते हैं. इसके अलावा, मेरी किताब से फायदा उठाने वाले लोग सोशल मीडिया पर किसी पोस्ट को लाइक या फॉरवर्ड करने के मामले में ज्यादा जिम्मेदार हो गए हैं—क्योंकि शेयर करना अनुमोदन करना है.''

अनंत प्रभु का कहना है कि साइबर जागरूकता सबसे अहम है. उन्होंने भारत में 1,00,000 से ज्यादा छात्रों को साइबर सुरक्षा के मामले में प्रशिक्षित किया है और ऑनलाइन सुरक्षित रहने के मानक तरीके सिखाए हैं. उनकी वेबसाइट

 (www.cybersafegirl.com) से साइबर सुरक्षा का ऑनलाइन कोर्स और उनकी पुस्तक का डाउनलोड करने वाला संस्करण उपलब्ध है. प्रभु का कहना है कि स्मार्टफोन, लैपटॉप और डिजिटल उपकरण लोगों की जिंदगी के बारे में सूचना का भंडार बन गए हैं.

अनंत प्रभु ने बेलगाम के विश्वेश्वर टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर इंजीनिय‌रिंग में पीएचडी की है. वे बताते हैं, ''इसके अलावा, कुछ ऐसी चीजें होती हैं जिन्हें डीप फेक्स कहा जाता है. कोई भी व्यक्ति हाइ-एंड फिल्टर, फोटो एडिटर, प्रिंटर, स्कैनर, ऐप और दूसरे सॉफ्टवेयर की मदद से आपके वीडियो को उठाकर और आपकी जानकारी का इस्तेमाल करके आपको ब्लैकमेल कर सकता है. इस तरह की उन्नत पिक्चर मॉर्फिंग के खतरनाक नतीजे निकल सकते हैं.''

प्रभु चाहते हैं कि स्कूली पाठ्यक्रमों में साइबर सुरक्षा को शामिल किया जाए ताकि किशोरों को ऑनलाइन खतरों के बारे में ज्यादा आगाह किया जा सके. वे सरकारी एजेंसियों को अपनी साइबर सुरक्षा के उपायों को अपग्रेड करने की जरूरत पर जोर देते हैं और यह भी चाहते हैं कि बढ़ती चुनौतियों के मद्देनजर देश के साइबर सुरक्षा कानून में समय-समय पर संशोधन किया जाए.

प्रभु मंगलूरू के सहयाद्रि कॉलेज ऑफ इंजीनिय‌रिंग ऐंड मैनेजमेंट में कंप्यूटर साइंस और इंजीनिय‌रिंग भी पढ़ाते हैं. उनका कहना है कि साइबरस्पेस में महिलाओं की सुरक्षा सुनि‌श्चित करने की दिशा में ई-बुक और वर्कशॉप पहला कदम है.  वे कहते हैं, ''मैं यह भी चाहता हूं कि युवा, वरिष्ठ नागरिक—या कोई भी व्यक्ति साइबर अपराधियों के हाथों अपना पैसा, छवि या बौद्धिक संपदा न गंवाए.'' आखिर प्रभु को किस बात से प्रेरणा मिलती है, यह पूछने पर वे मुस्कराते हुए कहते हैं, ''किसी वर्कशॉप के आखिर में जब उसमें शामिल होने वाले मेरे पास आकर शुक्रिया अदा करते हैं, तो उससे ज्यादा खुशी मुझे किसी बात से नहीं मिलती!''

परिवर्तन का पैमाना

वे छात्रों और महिलाओं को ऑनलाइन सुरक्षित रहने के लिए साइबर सुरक्षा का प्रशिक्षण दे रहे हैं

''मेरी कामना है कि भारत साइबर सुरक्षा के मामले में इज्राएल से आगे निकल जाए. किसी भी टेक्नोलॉजी में आगे निकलने के लिए हमारे पास बेहद काबिल लोग हैं, सही प्लेटफॉर्म और अवसर हैं.’’

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें