scorecardresearch
 

खय्यामः करोगे याद तो हर बात याद आएगी

खय्याम साब के गानों में एक खास बात नजर आती है और वह है उनकी शालीनता. उनके गानों में शब्द भी उतने ही अहम होते थे जितना संगीत. मुझे याद नहीं है कि मैंने एक भी ऐसा गाना सुना हो जिसमें लक्रज हल्के किस्म के हों.

मोहम्मद जहूर 'खय्याम' हाशमी 1927 - 2019 मोहम्मद जहूर 'खय्याम' हाशमी 1927 - 2019

यह तब की बात है जब एलपी रिकॉडॉर्स और कैसेट्स हुआ करते थे. सीडी का नाम तक हम लोगों ने नहीं सुना था. हमारे घर पर एक कैसेट था, जिसमें पुराने जमाने के बहुत से गाने थे. अलग-अलग फिल्मों के, अलग-अलग संगीतकारों के. उस कैसेट में एक ऐसा गाना था जो मैं बार-बार सुना करता था, और वो था, रुत जवां जवां. भूपिंदर सिंह का गाया हुआ. उस समय तो संगीत की ज्यादा जानकारी नहीं थी लेकिन इतना जरूर लगा कि वह गाना उस समय के सारे गानों से बिल्कुल अलग था. उस गाने में इस्तेमाल किया हुआ संगीत, वाद्ययंत्र और ताल उस वक्त के बाकी गानों से बिल्कुल अलहदा था.

जब थोड़ा और बड़ा हुआ, तो पता चला वह गाना फिल्म आखिरी खत का था और उस गाने का संगीत किसी खय्याम ने दिया था. फिर धीरे-धीरे संगीत में मेरी रुचि बढ़ी और अपने घर में पड़े और भी कैसेट्स मैंने सुनने शुरू किए. तब जाकर एहसास हुआ कि वह संगीतकार कितना महान था. फिर बिना किसी के बताए उन्हें खय्याम से अपने आप खय्याम साब बोलने लगा.

हमारे घर के संगीत संग्रह में एक कैसेट था फिल्म शंकर हुसैन का. उसमें बस तीन गाने थे, कहीं एक मासूम नाजुक सी लड़की, अपने आप रातों में और आप यूं फासलों से गुजरते रहे. ये तीनों गाने मेरे पसंदीदा बन गए. धीरे-धीरे पता चला कि यह सारे गाने उन्हीं खय्याम साब ने बनाए थे. मैं ढूंढ-ढूंढकर खय्याम साब के गाने सुनने लगा. फिर तो एक के बाद एक कई-कई नायाब नगमे सुनने का मौका मिला.

बहारो मेरा जीवन भी संवारो, तुम अपना रंजो-गम, पर्वतों के पेड़ों पे, वह सुबह कभी तो आएगी और भी बहुत सारे सारे गीत थे, जिन्हें सुनकर संगीत की मेरी समझ में इजाफा होता गया और खय्याम साब के लिए दिल में इज्जत बढ़ती गई.

जब कुछ और बड़े हुए और उस वक्त तक पता चल चुका था कि खय्याम साब कोई मामूली संगीतकार नहीं थे और हम बड़े खुशकिस्मत थे कि हमें नूरी, कभी कभी, त्रिशूल, चंबल की कसम, दर्द, आहिस्ता-आहिस्ता, थोड़ी सी बेवफाई, उमराव जान, रजिया सुल्तान, बाजार जैसी फिल्मों के गाने सुनने का मौका मिला.

आज भी जब हम ऐ दिल-ए-नादान, करोगे याद तो, आंखों में हमने आपकी, ऐसी हसीं चांदनी, हजार राहें, कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता, शाम-ए-गम की कसम जैसे गाने सुनते हैं तो यह एहसास होता है कि यह तमाम गाने कितने उम्दा थे. शुक्रिया खय्याम साब कि आपने अपने संगीत से हमारी जिंदगी में मिठास घोल दी. आज आप हमारे बीच नहीं हैं लेकिन आपका संगीत तब तक हमारे साथ रहेगा, जब तक हम हैं. फिर यह भी पता चला कि आपने अपनी सारी जमापूंजी दान कर दी, आने वाली पीढ़ी के गायकों/संगीतकारों के लिए. हमेशा इस बात का मलाल रहेगा कि आपसे कभी भी मिल नहीं पाया.

खय्याम साब के गानों में एक खास बात नजर आती है और वह है उनकी शालीनता. उनके गानों में शब्द भी उतने ही अहम होते थे जितना संगीत. मुझे याद नहीं है कि मैंने एक भी ऐसा गाना सुना हो जिसमें लक्रज हल्के किस्म के हों. उन्होंने फिल्म सवाल में कैबरे गाना भी बनाया मगर यह ध्यान भी रखा कि गाने के बोल स्तरीय बने रहें और उनमें हल्कापन या सस्तापन न आने पाए.

उन्होंने अपने समय के सारे गायकों के साथ बस काम ही नहीं किया बल्कि उन्हें उनके इमेज से अलग काम करवाया. जब किशोर कुमार अमिताभ बच्चन की आवाज हुआ करते थे तब उन्होंने मुकेश और येसुदास जैसे गायकों से अमिताभ बच्चन के लिए गवाया. ऐसा ही कुछ हुआ था उमराव जान में भी, जब आशा भोंसले ने उन अद्भुत $गज़लों को अपनी आवाज दी.

लता मंगेशकर के साथ तो खैर उन्होंने न जाने कितने सारे कमाल के गाने दिए, इसकी गिनती भी नहीं. यही नहीं, किशोर कुमार को भी एक नहीं, कई अनोखे गाने दिए. जब गज़लों के लिए सब मोहम्मद रफी को लेने की सोचते थे तो उन्होंने ऐसी हसीं चांदनी के लिए किशोर कुमार को चुना. यहां एक नाम ऐसा है जिसका जिक्र करना बहुत जरूरी है और वो है उनकी पत्नी, जगजीत कौर का. जगजीत कौर के गाए और खय्याम के संगीतबद्ध किए सारे गाने चाहे वो तुम अपना रंजो गम हो या देख लो आज हमको या फिर चले आओ सैंया हो सब के सब एक से बढ़करएक हैं.

खय्याम साब के संगीत के बारे में और क्या कहा जाए? इतना कहना काफी होगा कि करीब पैंतालीस साल पहले रिकॉर्ड किया हुआ गाना ऐ दिल नादान आज भी न सिर्फ सुना और गाया जाता है बल्कि लगता है कि आज का बनाया हुआ है.

अमिताभ वर्मा गीतकार हैं

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें