scorecardresearch
 

स्मृतिः संवाद का जादूगर

एक अभिनेता के तौर पर कादर खान महज हंसोड़ के रूप में ही नमूदार नहीं हुए. बुरी भूमिकाओं में कादर खान के चेहरे से शैतानी भाव टपकते थे, तो सामाजिक और पारिवारिक कहानियों में घरजमाई या बहनोई बने कादर खान अपने चुटीले अंदाज में महिला दर्शकों को मुस्कुराने के मौके देते थे.

योगेन शाह योगेन शाह

एक कॉमेडियन के लिए सेंस ऑफ टाइमिंग सबसे अहम होती है. और कादर खान में यह काबिलियत जबरदस्त थी. वाहियात से वाहियात संवाद भी कादर खान की जुबान से निकलकर मजेदार लगने लगते थे. वैसे तो वे बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे, लेकिन यह ‘सेंस ऑफ टाइमिंग’ वाली खूबी उन्हें दूसरे कॉमेडियन से अलग ले जाकर खड़ा करती थी. दरअसल, यह खूबी उनके भीतर एक उम्दा रंगमंचीय कलाकार होने की वजह से आई थी.

बतौर कॉमेडियन उन्होंने कई फिल्में कीं. कई फिल्मों में वे विलेन के किरदार में भी उतरे. लेकिन उनका असली रंग दिखता था उनके लिखे संवादों में. कई फिल्मों के लिए एक से बढ़कर एक डायलॉग उन्होंने लिखे. रोटी, अमर अकबर एंथोनी, हिम्मतवाला, कुली, अग्निपथ, मुकद्दर का सिकंदर जैसी फिल्मों के लिए लिखे गए उनके डायलॉग दर्शकों की जुबान पर खूब चढ़े. इनमें से कई संवाद तो आज भी लोगों को याद हैं.

फिल्म अमर अकबर एंथोनी में अमिताभ बच्चन का शीशे के सामने खड़े होकर बतौर शराबी खुद को हिदायत देने वाला बंबइया अंदाज में बोला गया संवाद ‘‘बस्स, हो गया पिटाई, खुश? तेरे को हम इसका वास्तेइच बोलता था, दारू मत पी...’’ की लोकप्रियता हो या गरीबी जैसी गंभीर समस्या पर फिल्म रोटी का डायलॉग ‘‘कसूर मेरा नहीं, रोटी की कसम...भूख की दुनिया में ईमान बदल जाते हैं,’’  कादर साहब नैरेटिव को आसान अल्फाज में बयान कर देते थे.

कादर खान किरदार और परिस्थिति के मुताबिक गहराई से डायलॉग रचने में माहिर थे. जब जरूरत पड़ी तो मजाकिया डायलॉग रचकर तालियां बटोर लीं और जरूरत पड़ी तो संजीदा डायलॉग लिखकर दर्शकों को रुला भी दिया. माना जाता है कि बतौर संवाद लेखक उनका करियर फिल्म रोटी से शुरू हुआ था. लेकिन यह सच नहीं है. उन्होंने गोस्ट राइटर के तौर पर भी काफी काम किया. 1972 में आई रणधीर कपूर, जया भादुड़ी (अब बच्चन) अभिनीत फिल्म जवानी दीवानी के लिए भी उन्होंने डायलॉग लिखे थे. और 1974 में आई दिलीप कुमार की मशहूर फिल्म सगीना में भी डायलॉग उन्हीं के थे.

पटकथा लेखक के तौर पर कादर खान ने प्रकाश मेहरा और मनमोहन देसाई के साथ जमकर काम किया. देसाई के साथ धरमवीर, गंगा जमुना सरस्वती, कुली नंबर 1, परवरिश और अमर अकबर एंथोनी जैसी फिल्में कीं तो मेहरा के साथ मुकद्दर का सिकंदर, लावारिस, और शराबी जैसी फिल्में. उन्होंने दक्षिण भारतीय फिल्मों के हिंदी रीमेक में भी बड़ा रोल निभाया था.

तेलुगु सिनेमा के जाने-माने नाम और बाद में हिंदी फिल्मों के निर्देशन में उतरे के. राघवेंद्र राव की जानी दोस्त और हिम्मतवाला जैसी कई फिल्में भी उन्होंने लिखीं. कभी अमिताभ बच्चन के करीबी दोस्तों में शुमार कादर खान को बच्चन का सियासत में उतरना नहीं भाया. अमिताभ सियासत से सिनेमा में वापस तो आ गए पर दोनों में वैसी गाढ़ी दोबारा नहीं छन पाई. वैसे, अमिताभ को जिस अग्निपथ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार मिला, उसके संवाद भी कादर खान की कलम से ही निकले थे.

कादर खान की बतौर अभिनेता पहली फिल्म दाग थी, जिसमें उन्होंने छोटा-सा किरदार निभाया था, लेकिन उन्हें लंबे किरदार मिलने का सिलसिला शुरू हुआ जितेंद्र और श्रीदेवी की फिल्म हिम्मतवाला से. फिल्मी परदे पर शक्ति कपूर के साथ उनकी खलनायकी की जोड़ी जमती थी, जिसे बाद में उन्होंने लोगों को हंसाने के लिए इस्तेमाल किया. अस्सी-नब्बे के दशक के फिल्मों के शौकीन आज भी बाप नंबरी, बेटा दस नंबरी फिल्म को याद करते हैं. डेविड धवन और गोविंदा के उत्कर्ष के दौर में कादर खान इन फिल्मों का जरूरी हिस्सा होते थे. फिर वे हर उस फिल्म का हिस्सा बनते गए जिसके निर्देशक अपनी फिल्म को हिट करा ले जाना चाहते थे.

एक अभिनेता के तौर पर कादर खान महज हंसोड़ के रूप में ही नमूदार नहीं हुए. याद कीजिए, फिल्म कुली का खलनायक, जिसने कुली बने बच्चन को पूरी फिल्म में छकाया. बुरी भूमिकाओं में कादर खान के चेहरे से शैतानी भाव टपकते थे, तो सामाजिक और पारिवारिक कहानियों में घरजमाई या बहनोई बने कादर खान अपने चुटीले अंदाज में महिला दर्शकों को मुस्कुराने के मौके देते थे.

कादर खान ने इंजीनिय‌रिंग की पढ़ाई की और वे पढ़ाते भी इंजीनियरिंग थे, सो अपने उस गुण का इस्तेमाल उन्होंने शायद दर्शकों की नब्ज पकडऩे में किया था. वे बेहतर पटकथा लेखक थे या संवाद लेखक या फिर उम्दा अभिनेता, यह तय करना दर्शकों के जिम्मे है.

फिल्मकार अमित खन्ना से संध्या द्विवेदी की बातचीत के आधार पर

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें