scorecardresearch
 

समाचार सार: असहज दोस्त

नीतीश से अलग हो चुके प्रशांत किशोर ने बिहार में 'बात बिहार की' नामक कार्यक्रम चलाने की घोषणा कर दी. नीतीश कह चुके अमित शाह के कहने पर प्रशांत को पार्टी में लिया था

प्रशांत किशोर प्रशांत किशोर

बिहार में नीतीश और भाजपा मिलकर विधानसभा का चुनाव लड़ेंगी. चेहरा नीतीश होंगे. लेकिन जब कन्हैया कुमार को नीतीश ने रैली की अनुमति दी तो भाजपा असहज हुई.

जेडी(यू) का कहना है कि लोकतंत्र में विरोधियों को रैली की अनुमति देनी पड़ती है. मामला लंबा चलता.

इससे पहले ही नीतीश से अलग हो चुके प्रशांत किशोर ने बिहार में 'बात बिहार की' नामक कार्यक्रम चलाने की घोषणा कर दी.

नीतीश कह चुके हैं कि उन्होंने अमित शाह के कहने पर प्रशांत को पार्टी में लिया था. अब प्रशांत के ऐलान से चर्चा है कि उनके पीछे कोई ऐसा तो नहीं जो उन्हें जेडी(यू) तक पहुंचाने के पीछे था?

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें