scorecardresearch
 

किसी नेता को राज्यसभा नहीं भेजेगी आप, विशेषज्ञ को मिलेगा टिकट

किसी नेता को राज्यसभा नहीं भेजेगी आप, विशेषज्ञ को मिलेगा टिकट, कुमार विश्वास किसी सूरत में नहीं दिया जाएगा टिकट, खींचतान गहराने के आसार

कुमार विश्वास किसी सूरत में नहीं दिया जाएगा टिकट, खींचतान गहराने के आसार कुमार विश्वास किसी सूरत में नहीं दिया जाएगा टिकट, खींचतान गहराने के आसार

आम आदमी पार्टी किसी नेता को राज्यसभा का टिकट नहीं देगी. सूत्रों का कहना है कि नेता की जगह किसी विशेषज्ञ को पार्टी राज्यसभा में भेजेगी. 

पार्टी के इस रुख से कुमार विश्वास की महत्वाकांक्षाओं पर पानी फिरता नजर आ रहा है जो सावर्जनिक रूप से राज्यसभा जाने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं. सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि किसी भी सूरत में विश्वास को तो राज्यसभा नहीं भेजा जाएगा. इस बात की गारंटी है. 

दिल्ली से तीन राज्यसभा सदस्य जनार्दन द्विवेदी, परवेज हाशमी और करन सिंह का कायर्काल जनवरी 2018 में खत्म हो रहा है और इसी मसले पर जारी है दिल्ली की सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की अंदरूनी खींचतान, जिसके केंद्र में फिलहाल पार्टी नेता और कवि कुमार विश्वास हैं. 

हालांकि आप के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज आप में गुटबाजी और खींचतान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा पर निशाना साधते हैं. भारद्वाज का कहना है, "मुख्यधारा का मीडिया भाजपा से प्रभावित है. अमित शाह के मामले की सुनवाई कर रहे जज लोया की मौत और रक्षा सलाहकार अजित दोवाल के पुत्र शौर्य दोवाल की संस्था को केंद्र सरकार के मंत्रियों द्वारा आथिर्क मदद पहुंचाने जैसे मुद्दों को उठाने के बजाय आप जैसी छोटी पार्टी के आंतरिक मुद्दों को ध्यान भटकाने के लिए उठाया जा रहा है." 

गुटबाजी के मसले पर आप कहती है कि क्या शत्रुघ्न सिन्हा और यशवंत सिन्हा के क्रियाकलापों से भाजपा में गुटबाजी नहीं हो रही है. कांग्रेस में भी गुटबाजी हमेशा से होती आ रही है लेकिन उस पर लोगों का ध्यान नहीं है. 

उधर, कुमार विश्वास पहले ही कह चुके हैं कि मेरे समथर्क चाहते हैं कि मैं राज्यसभा जाऊं. ऐसी तमन्ना रखने वाले नेताओं की संख्या और ज्यादा हो सकती है. आप में ये धारणा ऊपर से नीचे तक है कि कुमार विश्वास भाजपा नेताओं के करीब हैं और इसी वजह से अब उनको पार्टी बहुत तवज्जो नहीं दे रही है. यहां तक कि उनके किसी आरोप या सवाल पर पार्टी ने कोई प्रतिक्रिया न देने का फैसला किया है. 

बहरहाल, 2018 में जब राज्यसभा के लिए आप नेतृत्व अपने पत्ते खोलेगा तो नामों का कौतूहल खत्म जरूर होगा लेकिन असंतोष की एक नई हवा बहने की आशंका से भी इनकार नहीं किया जा सकता है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें