scorecardresearch
 

समाचार सारः अब राहत है

अयोध्या-राम मंदिर मामले में फैसला सुनाने वाले न्यायाधीशों ने 40 दिनों की रोज सुनवाई के बाद दिए फैसले पर आम प्रतिक्रिया से राहत महसूस की, गोगोई के सहयोगियों ने सुनवाई की योजना, रफ्तार और सर्वसम्मत निर्णय लिखने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए उनकी भी तारीफ की.

इलस्ट्रेशनः सिद्धांत जुमडे इलस्ट्रेशनः सिद्धांत जुमडे

अयोध्या-राम मंदिर मामले में फैसला सुनाने वाले पांच जजों के बीच पनपी आत्मीयता एकमत से फैसला देने तक ही सीमित नहीं रही.

उसी शाम मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने अपने चारों सहयोगियों—जस्टिस एस.ए. बोबडे, डी.वाइ. चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस. अब्दुल नज़ीर—के लिए दिल्ली के ताजमहल होटल में रात्रिभोज का आयोजन किया जिसमें उन सबके परिजनों के साथ गोगोई की मां शांतिप्रिया गोगोई भी शामिल हुईं. खास इसके लिए वे असम के डिब्रूगढ़ से आईं थीं.

न्यायाधीशों ने 40 दिनों की रोज सुनवाई के बाद दिए फैसले पर आम प्रतिक्रिया से राहत महसूस की, जबकि उनके परिजन उनसे अब परिवार के लिए थोड़ा ज्यादा समय मिलने की आशा कर रहे थे.

गोगोई के सहयोगियों ने सुनवाई की योजना, रफ्तार और सर्वसम्मत निर्णय लिखने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए उनकी भी तारीफ की.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें