scorecardresearch
 

पश्चिम बंगालः दाखिले में गड़बड़ी

कुछ दिन पहले रामपुरहाट के 18 वर्षीय अर्नब राय ने आरोप लगाया कि संघ के लड़कों ने सेंट्रल कोलकाता के सुरेंद्रनाथ कॉलेज में पत्रकारिता कोर्स में दाखिले के लिए 30,000 रु. की मांग की.

नाराज महिंद्रा कॉलेज में प्रदर्शनरत छात्र व अभिभावक नाराज महिंद्रा कॉलेज में प्रदर्शनरत छात्र व अभिभावक

एक छात्र ने आत्महत्या कर ली तो दाखिले के इच्छुक छात्रों की ओर से शिकायतों की बाढ़ आ गई कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) से जुड़े छात्रसंघ वसूली कर रहे हैं. इसने ममता बनर्जी सरकार को पश्चिम बंगाल के कॉलेजों में प्रवेश प्रक्रिया में सुधार के लिए मजबूर दिया.

6 जून को एक छात्र अमलान सरकार ने कोलकाता के दो कॉलेजों में दाखिला नहीं मिलने के बाद आत्महत्या कर ली. उन्हें स्कूल बोर्ड परीक्षा में 79 फीसदी अंक मिले थे.

उससे कुछ दिन पहले रामपुरहाट के 18 वर्षीय अर्नब राय ने आरोप लगाया कि संघ के लड़कों ने सेंट्रल कोलकाता के सुरेंद्रनाथ कॉलेज में पत्रकारिता कोर्स में दाखिले के लिए 30,000 रु. की मांग की. इसके बावजूद कि कॉलेज की वेबसाइट पर जारी मेधा सूची में उनका नाम तीसरे स्थान पर था.

खबरों के मुताबिक, राज्य के कॉलेजों में दाखिला पाने के इच्छुक करीब 15 लाख छात्रों को अपने पसंदीदा विषय में दाखिला के लिए छात्रसंघ को पैसे देने के लिए मजबूर किया गया है. 2 जुलाई को एक छात्रा ने मुख्यमंत्री के आवास पर पहुंचकर शिकायत की कि महेंद्र चंद्र कॉलेज का टीएमसी छात्रसंघ दाखिले के लिए 20,000 रु. मांग रहा है.

ममता ने तथ्यों को जांचने के लिए अपनी मातृसंस्था-भवानीपुर के आशुतोष कॉलेज-का औचक निरीक्षण किया. कुछ ही घंटों बाद पुलिस ने टीएमसी छात्रसंघ के छह नेताओं को विभिन्न कॉलेजों से गिरफ्तार किया और पार्टी के 17 नेताओं के घरों पर छापा मारा.

अब राज्य शिक्षा विभाग ने काउंसिलिंग की पूरी प्रक्रिया को खत्म कर दिया और सभी कॉलेजों को ऑनलाइन दाखिला लेने का निर्देश दिया है. वहीं जिन छात्रों ने छात्रसंघ नेताओं को भारी रकम दी थी, उन्हें ऑनलाइन दाखिला प्रक्रिया के नए नियम से झटका लगा है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें