scorecardresearch
 

साउंड रिकॉर्डिंग और डिजाइन

साउंड डिजाइनर किसी फिल्म में विभिन्न आवाजों के बारे में निर्णय लेते हैं

आवाज की दुनिया एफटीआइआइ का साउंड स्टुडियो आवाज की दुनिया एफटीआइआइ का साउंड स्टुडियो

फिल्म ऐंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे

www.ftii.ac.in

साउंड डिजाइनरों की सिनेमा, टेलीविजन, रेडियो, वेब वीडियो और लाइव साउंड रिकॉर्डिंग तथा मिक्सिंग में जबरदस्त मांग है. इसमें दिलचस्पी रखने वाले लोग एफटीआइआइ के साउंड रिकॉर्डिंग और साउंड डिजाइन में तीन साल के पीजी प्रोग्राम में दाखिला ले सकते हैं. फिल्म विंग के विभागाध्यक्ष हरीश के.एम. का कहना है, ''स्टुडेंट्स दूसरे कौशल के अलावा लोकेशन पर और स्टुडियो में साउंड रिकॉर्डिंग सीखते हैं. इसके अलावा, वे साउंड एडिटिंग, म्युजिक रिकॉर्डिंग और मिक्सिंग, फिल्मों के लिए रिकॉर्डिंग, क्रिटिकल लर्निंग तथा फिल्म साउंड एनालिसिस के सेशन के साथ साउंड की बेहतर समझ के बारे में सीखते हैं.''

कामयाबी का शिखर

साउंड डिजाइनर का काम फिल्म की विजुअल सामग्री से मिलती आवाज का जादू पैदा करना होता है. इसमें डायलॉग की रिकॉर्डिंग, क्लीनिंग और एडिटिंग, अतिरिक्त साउंड इफेक्ट (पदचाप, कपड़ों की सरसराहट और दूसरी तरह की आवाजें) के लिए रिकॉर्डिंग और एडिटिंग, स्पेशल ‌इफेक्ट तैयार करना, एमबीएंस और बैकग्राउंड म्युजिक और फिर अंत में साउंडस्केप तैयार करने के लिए सभी को मिक्स करना शामिल होता है.

स्टुडेंट्स अपना कोर्स पूरा करने के बाद लोकेशन साउंड रिकॉर्डिस्ट, डायलॉग एडिटर, साउंड इफेक्ट्स एडिटर के तौर पर फिल्म, टेलीविजन और वेब सीरीज में काम कर सकते हैं. इसके अलावा, वे म्युजिक रिकॉर्डिंग, डबिंग और वायसओावर रिकॉर्डिंग में स्पेशलाइजिंग के बाद स्टुडियो रिकॉर्डिस्ट के रूप में काम कर सकते हैं.

शुरुआती वेतन 3.6-6 लाख रु. प्रति वर्ष

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें