scorecardresearch
 

त्रासदी के बाद असल तमाशा

अभिषेक मजूमदार के नाटक हमारे सबसे विभाजनकारी मुद्दों को अपने विषय के रूप में उठाते हैं, इसके बावजूद वे दर्शकों को हंसने के लिए विवश कर देते हैं

हेमंत मिश्र हेमंत मिश्र

एक गंभीर बहस वाले नाटक मुक्तिधाम में, नट बने तीन अभिनेताओं में से एक थोड़ा कॉमिक रिलीफ के अंदाज में कहता है, ''ऊंची जात का राजनैतिक सम्मेलन है. लोग भड़कने के लिए ही आए हैं.'' अभिषेक मजूमदार के 2017 में तैयार इस नाटक की प्रस्तुति के सिलसिले की यह आखिरी शाम है. बेंगलूरू के खचाखच भरे रंगशंकर थिएटर में, इस संवाद पर दर्शक जोर का ठहाका लगाते हैं. अगली शाम, अभिषेक के ही लिखे, निर्देशित किए एक अन्य हिंदी नाटक कौमुदी के शो के दौरान तो दर्शकों ने और भी जोर का ठहाका लगाया.

फिर भी जो लोग अभिषेक के काम को देखते आ रहे हैं, वे उन्हें मसखरे के मूड वाला नहीं मान सकते. अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला और कभी-कभी कन्नड़ में काम करते हुए, 38 वर्षीय नाटककार-निर्देशक ने अप्रवास, हिंदुत्व, जाति व्यवस्था, कश्मीर और तिब्बत जैसे हमारे समय के कुछ सबसे विभाजनकारी मुद्दों को गहरे शोध और गहन नैतिक प्रश्नों के जरिए उठाया है. हार्ल्सडेन हाइ स्ट्रीट (2010) में लंदन में मजदूरी करने वाले पाकिस्तानियों का मुद्दा उठाया.

आठवीं शताब्दी के मंदिरों के एक काल्पनिक शहर पर आधारित मुक्तिधाम बौद्ध धर्म के बढ़ते वर्चस्व और उससे घबराए ब्राह्मणवादी हिंदू धर्म के विषयों को उठाकर दोनों धर्मों के आख्यानों के बीच एक संदिग्ध ऐतिहासिक झगड़े को रेखांकित करता है. यह विशेष रूप से हिंदुत्व के कर्णधारों के वर्तमान अहिंसा और जातिहीनता के दावों की गहरी पड़ताल करता है. बीसवीं सदी के शुरुआती दिनों में इलाहाबाद के रंगमंच को केंद्र में रखकर तैयार कौमुदी में एक पिता-पुत्र के विवादित रिश्ते को अभिमन्यु और एकलव्य जैसे पौराणिक चरित्रों के संदर्भ में प्रस्तुत किया गया है. उनके तीन नाटक कश्मीर पर हैं.

आगा शाहिद अली की कविताओं पर आधारित रिजवान और राज्य के नागरिकों और विदेशियों की हिंसा के चक्रव्यूह में फंसे लोगों को केंद्र में रखता ईदगाह के जिन्नात. ये उन्हीं के लिखे हुए हैं जबकि इरावती कार्णिक के लिखे गश में एक कश्मीरी पंडित की घर वापसी दर्शाई गई है. उनके एकदम नए नाटक पह-ला का मजमून भी हिंसा-अहिंसा ही है, जिसमें तिब्बतियों पर चीनियों के बल प्रयोग का चित्रण है. इसी कारण लंदन के रॉयल कोर्ट थिएटर ने इसका प्रदर्शन छह महीने रोककर रखा.

हाथ में रंगशंकर की 20 रु. वाली स्ट्रांग कॉफी का एक मग थामे ग्रीन रूम में भावविहीन बैठे अभिषेक ने अपनी लेखन शैली से दर्शाया है कि वे हास्य को भी दूसरे पहलुओं की तरह उसी संजीदगी से प्रस्तुत कर सकते हैं (या इसका उलटा है?). उन्हीं के शब्दों में, ''मुझसे अक्सर पूछा जाता है कि यह ट्रैजिडी है या कॉमेडी? मैं कहता हूं, जब आप अपनी जिंदगी के बारे में सोचते हैं, तो उसे पूरी तरह मजेदार मानते हैं या दुख से भरी? तो फिर इसे भी किसी एक खांचे में रखकर क्यों देखना? और कॉमेडी/ट्रैजिडी तो नाटक के वर्गीकरण की पश्चिमी श्रेणियां हैं. महाभारत या बेताल पचीसी या अरेबियन नाइट्स क्या हैं?''

बहरहाल, वे नए नाटक डाइलेक्टिकल मटेरियलिज्म और अन्य विलुप्त जानवर के साथ अपने हास्यबोध को आगे बढ़ाने को लेकर उत्साहित हैं, जिसे उन्होंने कम्युनिस्ट इतिहास को केंद्र में रखकर लिखा है. अभिषेक कहते हैं, ''मैंने उन नाटकों में कॉमेडी लिखी जो कॉमिक फॉर्म में नहीं थे. पर यह मेरा पहला व्यंग्य है. मेरी उम्र ज्यादा हो गई है और ट्रैजिडी लेखन शायद युवाओं के लिए है.'' अभिषेक लंदन इंटरनेशनल स्कूल ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट्स से मास्टर्स करने के बाद 2013 से न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के अबू धाबी कैंपस में हर साल एक सेमेस्टर में नाटक लेखन और दर्शन पढ़ा रहे हैं.

भारत में, अभिषेक के ज्यादातर नाटकों का मंचन बेंगलूरू का इंडियन असांबेल ग्रुप करता है, जिसकी स्थापना 2009 में अभिनेता-नाटककार संदीप शिखर ने की थी. संस्था व्यक्तिनिष्ठ होकर न रह जाए, सो उन्होंने 2018 में चाणक्य व्यास को इसका आर्टिस्टिक डायरेक्टर बना दिया. अभिषेक कहते हैं, ''थिएटर कंपनी चलाने की इच्छा रखने वाले हर व्यक्ति को चाहिए कि वह इसे शुरू करने की न सोचे.''

अभिषेक ने तब से एक नई शुरुआत की है. 2018 में शिखर और अभिनेता विवेक मदान का शुरू किया गया भाषा सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स दक्षिण एशियाई भाषाओं, विशेष रूप से दलित नाट्यशास्त्र पर केंद्रित है. अभिषेक मानते हैं कि थिएटर को ज्यादा सरकारी समर्थन की जरूरत है. ''हम इंडियन असांबेल में कई सिद्धांतों को बनाए रखते हैं—हर कलाकार को बराबर पैसा मिलता है; जो लोग टिकट नहीं खरीद सकते उन्हें मुफ्त पास दिए जाते हैं.

जिस रामायण के नाम पर लोग आज लड़ रहे हैं, वह बाजार-संचालित व्यवस्था के तहत नहीं रचा गया था. न भास बाजार संचालित थे, न कालिदास. वे मानव अस्तित्व के लिए अहम हैं, वे बाजार से प्रेरित नहीं हो सकते. हो सकता है कि किसी शुक्रवार को एक नाटक के बहुत ज्यादा दर्शक न हों, लेकिन आज से 80 साल बाद यह संभव भी हो सकता है.''

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें