scorecardresearch
 

राजस्थानः पुलिस का अश्लील पक्ष

पिछले एक साल में राजस्थान पुलिस में यौन हमले, रिश्वत और अपराधियों से मिलीभगत के कई मामले सामने आए हैं

मजा के बाद सजा पुलिस उपाधीक्षक हीरालाल सैनी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया मजा के बाद सजा पुलिस उपाधीक्षक हीरालाल सैनी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया

यह साल राजस्थान पुलिस के लिए बेहद शर्मनाक रहा है क्योंकि उसके जवान लगातार अश्लील और भ्रष्ट हरकत वाले मामलों में लिप्त पाए गए. नवीनतम मामले में कुछ वीडियो वायरल हो गए हैं, जिनमें कथित तौर पर बड़े लोगों से बेहतर संबंध रखने वाला पुलिस उपाधीक्षक हीरालाल सैनी एक महिला कांस्टेबल के साथ यौन संबंध बनाते दिख रहा है. यही नहीं, पुष्कर के एक पांच सितारा रिजॉर्ट के एक्सक्लूसिव स्विमिंग पूल वाले रूम में उस कांस्टेबल का बच्चा भी पूल में नंगा है. वह यह सब देख रहा है और जाने-अजाने वह भी उन दोनों के साथ शामिल हो जाता है.

पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर ने स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) को उन दोनों पुलिसवालों के ‌खिलाफ मामला दर्ज करने को कहा. उन्हें उदयपुर के एक आलीशान रिजॉर्ट में गिरफ्तार किया गया और उन पर प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेज समेत कई आरोपों में मुकदमा दर्ज किया गया है. शुरुआती जांच से पता चला है कि वह महिला अपने पति से अलग रह रही थी और जब दोनों पुलिसवाले जयपुर में तैनात थे तो सैनी से उसके संबंध बन गए. सैनी ने कथित तौर पर उसे जयपुर में एक फ्लैट दिला दिया. बाद में भाजपा के शासन के दौरान सैनी का तबादला ब्यावर में हो गया और सरकार बदलने के बाद भी वह वहीं नियुक्त था, अब इसके तीन साल हो गए.

जांच करने वाले अधिकारियों का कहना है कि जाहिरा तौर पर वह महिला पहले भी इस तरह के वीडियो बनाकर एक फोल्डर में रख रही थी. उसने या उसके बच्चे ने गलती से व्हाट्सऐप स्टैटस पर अपलोड कर दिया. महिला के पति ने इसे देखा और दो पुलिस थानों में इसकी शिकायत दर्ज कर दी. दोनों के परिवार वालों ने ये वीडियो देख लिए. पुलिस अधिकारियों ने एफआइआर दर्ज करने के बजाए पति और पत्नी के बीच मध्यस्थता कराने का प्रयास किया और अगस्त के आखिर में उन्हें आपसी सहमति से तलाक के लिए राजी कर लिया. इस बीच महिला के एक संबंधी ने उसे फोन करके फिरौती की मांग की. इस पर उस महिला ने ब्लैकमेलिंग के आरोप में उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करा दी. लेकिन कुछ ही रोज बाद कुछ वीडियो वायरल हो गए.

पुलिस महानिदेशक लाठर ने कहा कि राजस्थान पुलिस में जबरदस्त बदलाव की जरूरत है. हाल में जब उन्हें जांच से पता चला कि कई पुलिसवाले बेजा हरकतों और अपराधियों से मिलीभगत में शामिल हैं तो उन्होंने 300 पुलिसवालों का तबादला कर दिया. उनका कहना है, ''मैंने इस गठजोड़ को तोड़ने की कोशिश की पर राजस्थान हाइकोर्ट ने असिस्टेंट सब ‌इंस्पेक्टर तक की रैंक के करीब 250 तबादलों को यह कहते हुए रोक दिया कि उन्हें नियुक्ति वाले जिले से बाहर नहीं भेजा जा सकता.'' वे डबल बेंच में इसे ले जाने वाले हैं. वहीं, प्रमुख आरटीआइ एक्टिविस्ट और वकील गोवर्धन सिंह ने बताया, ''सैनी को सेवा से बर्खास्त कर देना चाहिए, लेकिन उसके संबंधों को देखते हुए मुझे संदेह है कि सरकार ऐसा करेगी.''

लाठर ने बीते एक साल में अपने बल में यौन हमले और भ्रष्टाचार के ऐसे कई शर्मनाक मामले देखे हैं. पिछले साल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने नदी से बालू की अवैध ढुलाई में रिश्वतखोरी पर चिंता जाहिर की थी. मार्च में एसीबी ने एक असिस्टेंट पुलिस कमिशनर कैलाश बोहरा को एक महिला के साथ रंगे हाथ पकड़ लिया. महिला ने शिकायत की थी कि बोहरा ने उसके बलात्कार के मामले की जांच करने के एवज में यौन संबंध बनाने की मांग की थी. गहलोत ने उसे सेवा से बर्खास्त कर दिया. उसी समय वरिष्ठ अधिकारियों को एक सब इंस्पेक्टर भरत सिंह की गिरफ्तारी के लिए हस्तक्षेप करना पड़ा. अपने पति के खिलाफ अलवर थाने में शिकायत दर्ज कराने आई महिला के साथ उसने बलात्कार किया था. इस साल फरवरी में एसीबी ने दौसा के तत्कालीन एसपी मनीष अग्रवाल को राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के भारतमाला प्रोजेक्ट के लिए काम कर रहे ठेकेदार से मोटी रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया.

पिछले हफ्ते गहलोत ने हिम्मत अभिलाष टाक को निलंबित किया जिन पर जुलाई में सिरोही के एसपी पद से हटाया गया था. उन पर शराब तस्करों से मिलीभगत का आरोप है. अप्रैल में कुछ पुलिस वालों की मुखबिरी के कारण अफीम तस्करों पर धावा बोलने गए दो कांस्टेबल मारे गए थे. एक अन्य मामले में, अप्रैल में बारमेड़ के अफीम तस्कर कमलेश प्रजापत की हत्या की सीबीआइ जांच को गहलोत को मजबूर होना पड़ा. स्थानीय कांग्रेस नेताओं का कहना है कि प्रजापत को कुछ नेताओं के इशारे पर मारा गया, जिसमें उससे लाभ उठाने वाले एक मंत्री भी शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें