scorecardresearch
 
डाउनलोड करें इंडिया टुडे हिंदी मैगजीन का लेटेस्ट इशू सिर्फ 25/- रुपये में

ऑटो रिपोर्टः एक दशक का शानदार सफर और आगे का रास्ता

गोगोरो इनकॉर्पोरेशन बैटरी की अदला-बदली करने वाले दुनिया के सबसे बड़े नेटवर्क का मालिक है.

पथ प्रदर्शक भारतीय मोटरसाइकिल बाजार की लीडर कंपनी हीरो मोटोकॉर्प का नेतृत्व डॉ. पवन मुंजाल के हाथों में है. पथ प्रदर्शक भारतीय मोटरसाइकिल बाजार की लीडर कंपनी हीरो मोटोकॉर्प का नेतृत्व डॉ. पवन मुंजाल के हाथों में है.

ऑटो स्पेशल फोकस हीरो मोटोकॉर्प

हीरो मोटोकॉर्प ने अपने अपनी नई-नवेली ब्रांड पहचान 9 अगस्त 2011 को लंदन के प्रतिष्ठित ओ2 एरेना में उद्घाटित की थी. उसके कुछ ही वक्त पहले वह अपने पार्टनर होंडा मोटर कंपनी से सुलह-शांति के साथ अलगहुई थी. 

संयुक्त उद्यम में वैश्विक दिग्गज कंपनी के शेयर खरीद लेना और अपने दम पर सफर शुरू करना भारतीय पार्टनर हीरो लिए दिलेर और दबंग फैसला था. चेयरमैन और सीईओ डॉ. पवन मुंजाल की अगुआई में हीरो मोटोकॉर्प भारत में बाजार का प्रमुख अगुआ रहा है.

मोटरसाइकिल के घरेलू बाजार में उसका 50 फीसद से ज्यादा हिस्सा है. कंपनी ने बिक्री की तादाद के लिहाज से दुनिया की 1 नंबर दोपहिया वाहन कंपनी होने का बेशकीमती खिताब 2001 में हासिल किया और लगातार 20 सालों तक अगुआ होने की हैसियत कामयाबी से कायम रखी है!

बिजली से जगमग भविष्य
'बी द फ्यूचर ऑफ मोबिलिटी’ (गतिशीलता का भविष्य बनो) के विजन के साथ हीरो मोटोकॉर्प अपने ग्राहकों को गतिशीलता के टिकाऊ समाधान देने के लिए प्रतिबद्ध है और कंपनी प्रोडक्ट पोर्टफोलियो में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) जोड़ने पर तेजी से ध्यान दे रही है.

कंपनी उत्तर भारत के शहर जयपुर में अपने आरऐंडडी केंद्र सेंटर ऑफ इनोवेशन ऐंड टेक्नोलॉजी में ईवी विकसित करने में जुटी है. उसका इरादा मार्च 2022 में पहला इलेक्ट्रिक वाहन लॉन्च करने का है. ग्राहकों को बैटरी चलित वाहन या ईवी देने की अपनी रणनीतिक दृष्टि के अनुरूप होरा मोटोकॉर्प ने ताइवान की स्मार्ट मोबिलिटी इनोवेशन कंपनी गोगोरो इनकॉर्पोरेशन के साथ रणनीतिक भागीदारी की है.

गोगोरो इनकॉर्पोरेशन बैटरी की अदला-बदली करने वाले दुनिया के सबसे बड़े नेटवर्क का मालिक है. इस भागीदारी से हीरो मोटोकॉर्प गोगोरो का बैटरी स्वापिंग प्लेटफॉर्म भारत और दूसरे वैश्विक बाजारों में लाएगी. हीरो बाजार के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों के विकास और हीरो-गोगोरा की शक्ति से संचालित गतिशीलता समाधानों के सह-विकास के लिए गोगोरो के साथ काम करेगी.

अपना ईवी उत्पाद विकसित करने के अलावा हीरो मोटोकॉर्प उन पहली कंपनियों में थी, जिन्होंने 2016 में ही ईवी स्टार्ट-अप एथर एनर्जी की भावी क्षमताओं को पहचाना और उसमें निवेश किया. फिलहाल इस कंपनी में उसकी 37 फीसद हिस्सेदारी है.

वैश्विक पदचिन्हों का तेजी से विस्तार
हीरो मोटोकॉर्प मुख्य भौगोलिक इलाकों में अपनी मौजूदगी नई ईजाद आर4—रिवाइटलाइज, रीकैलिब्रेट, रिवाइव और रिवॉल्यूशनाइज—रणनीति से और पुख्ता कर रही है. हीरो मोटोकॉर्प ब्रांड का निर्माण करके, उन्नत और भौगोलिक इलाकों के लिए खास उत्पाद पोर्टफोलिया विकसित करके, बिक्री पर पैनी नजर रखकर और परिचालन पहलों के जरिए अपने तमाम वैश्विक बाजारों में आने वाले कल पर निवेश कर रही है.

भविष्य के लिए तैयार आरऐंडडी पारितंत्र
भविष्य के लिए मोबिलिटी सॉल्यूशंस निर्मित करने की लगातार कोशिश में हीरो मोटोकॉर्प अपनी मजबूत आरऐंडडी क्षमताओं के बलबूते निरंतर नई और नवोन्मेषी टेक्नोलॉजी विकसित कर रही है. जयपुर में कंपनी का सेंटर फॉर इनोवेशन ऐंड टेक्नोलॉजी (सीआइटी) विश्वस्तरीय केंद्र है जहां दुनिया भर के 1,000 से ज्यादा पेशेवर और ऑटोमोटिव विशेषज्ञ उत्कृष्टता से ओतप्रोत माहौल में भविष्य के लिए तैयार उत्पादन विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं.

इसके अलावा, म्यूनिख के नजदीक हीरो टेक सेंटर जर्मनी (एचटीसीजी) डिजाइन के मामले में उत्कृष्टता का केंद्र है. यहां वैश्विक बाजारों के लिए नए उत्पाद डिजाइन और विकसित करने पर ध्यान दिया जाता है और इस तरह यह दौड़ में आगे रहने और ग्राहकों की लगातार बढ़ती जाती मांग पूरी करने में हीरो मोटोकॉर्प की मदद करता है. ठ्ठ

2011 में...
●हीरो मोटोकॉर्प के केवल तीन मैन्युफैक्चरिंग केंद्र थे. आज उसके पास आठ विश्वस्तरीय मैन्युफैक्चरिंग संयंत्र हैं

●उसकी सारे मैन्युफैक्चरिंग सुविधा केंद्र भारत में थे. आज कंपनी की दो फैक्ट्रियां विदेश में हैं. एक कोलंबिया में और दूसरी बांग्लादेश में. इसके अलावा अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के कई दूसरे देशों में उसकी एसेंबली लाइनें हैं

● हीरो मोटोकॉर्प अपने उत्पाद केवल चार देशों में बेच रही थी. आज उसके वैश्विक पदचिन्ह एशिया, अफ्रीका, मध्य और दक्षिण अमेरिका और पश्चिम एशिया के 42 बाजारों में फैले हैं और इसके अलावा कई और देशों में उसकी ब्रांड मौजूदगी है

●कंपनी का छोटा-सा आरऐंडडी ढांचा था. आज हीरो मोटोकॉर्प ने भारत और जर्मनी में विश्वस्तरीय आरऐंडडी पारिस्थितिकी तंत्र बनाया है, जहां अत्याधुनिक विश्वस्तरीय सुविधाएं हैं
ठ्ठकंपनी के कार्यबल में ज्यादातर भारतीय मूल के लोग हुआ करते थे. आज हीरो मोटोकॉर्प के टैलेंट पूल में दुनिया भर की करीब दर्जन भर राष्ट्रीयताओं के लोग हैं और पूरा ध्यान विविधता और समावेशन (डीऐंडआइ) पर है

●अंतरराष्ट्रीय मोटर स्पोर्ट में हिस्सा लेना दूर-दराज का सपना भर था. आज उसकी मोटर स्पोर्ट टीम हीरो मोटोस्पोट्र्स टीम रैली भारतीय मोटर स्पोर्ट की ध्वजवाहक है और कई वैश्विक रैलियों में दौड़ जीतकर पोडियम तक पहुंची है

● हीरो मोटोकॉर्प की मौजूदगी केवल इंटरनल कंबस्चन इंजन (आइसीई) या आंतरिक दहन इंजन मोटरसाइकिल और स्कूटरों  तक सीमित थी. आज कंपनी अपने इलेक्ट्रिक वाहन और मॉड्यूलर मोबिलिटी सॉल्यूशन लॉन्च करने की कगार पर है

●'क्रिएट, कोलैबोरेट ऐंड इंस्पायर’ (सृजन, सहकार और प्रेरणा) के अपने मिशन का ध्यान रखते हुए हीरो मोटोकॉर्प ने विशाल वैश्विक ब्रांड के साथ भागीदारी कायम की है, जिनमें प्रतिष्ठित अमेरिकी मोटरसाइकिल कंपनी हार्ले डेविडसन और ताइवान की ईवी निर्माता और दुनिया के सबसे बड़े बैटरी-स्वापिंग नेटवर्क की मालिक गोगोरा इनकॉर्पोरेशन भी शामिल हैं

आगे का रास्ता
हीरो मोटोकॉर्प की कामयाबी शुरुआत से ही मजबूत रिश्तों और भागीदारियों की बुनियाद पर कायम की गई है

हीरो मोटोकॉर्प अपनी इस बुनियादी ताकत के बल पर 2030 की तरफ छलांग लगाने को तत्पर है:

● वह आंतरिक और बाह्य रूप से स्थायित्व के बल पर कामयाबी हासिल करेगा और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता कम करने से लेकर हाइड्रोजन तथा सौर ऊर्जा सरीखे विकल्पों की तलाश तक कई मोर्चों पर अगुआई करेगा

● हीरो मोटोकॉर्प 2030 तक इलेक्ट्रिक वाहनों में वैश्विक अगुआई का लक्ष्य लेकर चल रहा है

● उसका लक्ष्य 2030 तक कार्बन न्यूट्रल डीलरशिप के साथ 100 फीसद उत्पाद रिसाइकिल करने की क्षमता हासिल करना है

● हीरो मोटोकॉर्प का लक्ष्य अपने वैश्विक बाजारों में से 20 में ईवी लॉन्च करने का है

● कंपनी की कुल बिकने वाली इकाइयों में 15 फीसद 2025 तक भारत से बाहर वैश्विक बाजारों में बिकेंगी

● कंपनी की कुल बिक्री का 30 फीसद 2030 तक डिजिटल चैनलों से आएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×