scorecardresearch
 

बिहार-राजद का अंत?

तेजस्वी के सामने पहाड़-सरीखी चुनौती क्योंकि बिहार विधानसभा में सबसे बड़ा उनका राजद लोकसभा चुनाव में एक भी सीट नहीं जीत सका

सोनू किशन सोनू किशन

चारा घोटाले में सजा काट रहे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव की रांची में इलाज चल रहा था. 23 मई को दोपहर के बाद उन्होंने टीवी बंद कर दिया, लंच टाल दिया और सोने चले गए. लुभावनी, हंसोड़ बातों और उनकी हाजिरजवाबी से गुलजार रहने वाला उनका ट्विटर हैंडल भी लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद खामोश पड़ा रहा.

लालू यादव के लिए चिंता की और भी कई वजहें हैं. साल 1997 में उन्होंने जनता दल को तोड़कर 17 सांसदों के साथ राजद का गठन किया था. तब से यह पहला लोकसभा चुनाव है जब बिहार में पार्टी एक भी सीट जीतने में नाकाम रही है. विडंबना कि राज्य की 243 सदस्यों की विधानसभा में 81 विधायकों के साथ राजद अब भी बिहार की सबसे बड़ी पार्टी है.

हो सकता है कि यह दर्जा भी बहुत लंबे वक्त तक कायम न रहे. लोकसभा चुनाव के वोटिंग पैटर्न से पता चलता है कि विधानसभा में राजद की अगुआई में महागठबंधन को हासिल 81 सीटों में से 63 सीटों में भी वह एनडीए से पीछे चला गया है.

इनमें महुआ भी शामिल है जो लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव का निर्वाचन क्षेत्र है. लालू यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव के विधानसभा क्षेत्र राघोपुर में भी एनडीए के ऊपर राजद की बढ़त बहुत मामूली रह गई है.

राजद को 2014 में बिहार में 72,24,893 वोट यानी 20.46 फीसद वोट मिले थे. इस बार उसे कुल 62,70,107 वोट मिले और उसकी वोट हिस्सेदारी महज 15.04 फीसद रह गई. अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर राजद के एक बड़े नेता कहते हैं, ''नतीजे हौसला तोडऩे वाले हैं.

नीतीश कुमार के महागठबंधन छोड़कर जाने के बाद से ही हमें पता था कि एनडीए सामाजिक तौर पर कितना मजबूत है. हमें यह 2014 के आंकड़ों से पता था, जिनमें भाजपा को 29.9 फीसद, जद(यू) को 16.04 फीसद और लोजपा को 6.5 फीसद वोट मिले थे. एनडीए के पास 52.44 फीसद की जबरदस्त वोट हिस्सेदारी थी. 2019 में एनडीए को 53.25 फीसद वोट मिले हैं.''

वे यह भी कहते हैं, ''राजद जानता था कि मोटे तौर पर मुसलमानों और यादवों से बनी 2014 की अपनी वोट हिस्सेदारी के साथ वह एनडीए के पासंग भी नहीं है. इससे निकलने का रास्ता यही था कि हम दूसरे सामाजिक धड़ों और खासकर आर्थिक तौर पर पिछड़े वर्गों (ईबीसी) के नए नेताओं को ताकतवर बनाएं.

इसके बजाए पार्टी ने यह जिम्मेदारी मुकेश सहनी, जीतन राम मांझी और उपेंद्र कुशवाहा सरीखे बाहरी नेताओं को सौंप दी. वे नाकाम हुए तो हम भी नाकाम हो गए.''

राजद ईबीसी के करीब 30 फीसदी वोटों के लिए दूसरों पर किस कदर पूरी तरह निर्भर था, यह इससे भी जाहिर है कि उसने 19 सीटों पर चुनाव लडऩे के बावजूद केवल एक ईबीसी उम्मीदवार को टिकट दिया. जद(यू) ने पांच ईबीसी उम्मीदवार खड़े किए और पांचों जीत गए. भाजपा के भी दो ईबीसी उम्मीदवारों ने जीत हासिल की.

इससे पहले जब राजद के पास दूसरे सामाजिक धड़ों को राज्यसभा में नुमाइंदगी देने का मौका था, उसने उनके बजाय 2016 में मीसा भारती और राम जेठमलानी को तथा 2018 में मनोज कुमार झा और अशफाक को चुना. इसके उलट ऊपरी सदन में जद (यू) के अब भी दो ईबीसी नेता (रामनाथ ठाकुर और आर.सी.पी. सिंह) हैं.

राजद का यादव-मुस्लिम आधार (कुल वोटों का 30 फीसदी) चुनावों में नीतीश कुमार को रोकने में नाकाम हो चुका है, क्योंकि मुख्यमंत्री ने ईबीसी और महादलित वोटों का इसी से मिलता-जुलता मजबूत गठजोड़ कायम कर लिया है. लालू यादव जेल में हैं और पार्टी ने आम चुनाव में बेहद खराब प्रदर्शन किया है. ऐसे में तेजस्वी और राजद के सामने अगले साल विधानसभा चुनाव की बेहद मुश्किल चुनौती मुंह बाए खड़ी है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें